loader

आख़िर किस रणनीति पर काम कर रहे हैं प्रशांत किशोर?

प्रशांत किशोर ने प्रियंका गाँधी को कांग्रेस का बड़ा चेहरा बताते हुए कहा है कि आने वाले दिनों में वह मज़बूत राजनेता के तौर पर उभर सकती हैं। हालाँकि उन्होंने यह भी कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में प्रियंका का बहुत बड़ा प्रभाव नहीं पड़ने वाला है।

प्रियंका को चेहरा बनाने को कहा था

जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने यह भी स्वीकार किया कि प्रियंका गाँधी को सक्रिय राजनीति में लाने से कांग्रेस को आनेवाले दिनों में फ़ायदा ज़रूर होगा। उन्होंने प्रियंका को लंबी रेस का घोड़ा बताते हुए कहा कि प्रियंका भविष्य में पार्टी को राजनीतिक समर में जीत दिलाने में अहम भूमिका निभा सकती हैं। उन्होंने दावा किया कि जब वह ख़ुद कांग्रेस से जुड़े थे तो उन्होंने प्रियंका को उत्तर प्रदेश में पार्टी का चेहरा बनाने का प्रस्ताव दिया था।

  • लोकसभा चुनाव नज़दीक हैं और ऐसे में प्रशांत किशोर की हाल ही में उद्धव ठाकरे से हुई मुलाक़ात और प्रियंका के बारे में दिए गए इन बयानों को देखा जाए तो इससे कई सवाल सामने आते हैं। पहला यह कि क्या प्रशांत किशोर एनडीए की सेकेंड लाइन लीडरशिप तैयार कर रहे हैं? क्या वह नीतीश कुमार को राष्ट्रीय राजनीतिक पटल पर पुनः लाने की कोशिश कर रहे हैं? और सवाल यह भी क्या एनडीए में अंदर ही अंदर कुछ खिचड़ी पक रही है?
अवकाश प्राप्त नौकरशाह और पूर्व राज्य सभा सदस्य ए. के. सिंह के बाद प्रशांत किशोर ही ऐसे व्यक्ति हैं जो नीतीश कुमार के प्रधानमंत्री बनने के सपने को साकार करने में लगे दिख रहे हैं।
Prashant Kishor strategy Lok Sabha polls 2019 nitish kumar  - Satya Hindi
शिवसेना सुप्रीमो के साथ प्रशांत किशोर।

शिवसेना सुप्रीमो से क्यों मिले थे प्रशांत?

एक सवाल के उत्तर में प्रशांत किशोर ने कहा कि नरेन्द्र मोदी ही एनडीए के प्रधानमंत्री पद के एकमात्र उम्मीदवार हैं और वे ही अगले प्रधानमंत्री होंगे। अगर उनकी इस बात को मान भी लिया जाए तो प्रशांत किशोर की शिवसेना के सुप्रीमो उद्धव ठाकरे से मुंबई में हुई मुलाक़ात को क्या महज इत्तेफ़ाक कहा जा सकता है? क्या इसके यह मायने नहीं निकाले जा सकते हैं कि प्रशांत एनडीए के अंदर ही अंदर सेकेंड लाइन लीडरशिप की तैयारी में लगे हैं। 

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि अगर एनडीए को बहुमत का जादुई आंकड़ा पाने में दिक्क़त हुई तो नीतीश कुमार के नाम पर कई छोटे-छोटे दल एकजुट हो सकते हैं।

क्या है प्रशांत की सक्रियता का कारण?

लोकसभा चुनाव में नीतीश एनडीए के साथ तो ज़रूर लड़ेंगे लेकिन उनको यह मालूम है कि अगर दबदबा कम होगा तो उनकी पार्टी को केंद्रीय कैबिनेट में तवज्जो नहीं मिल पाएगी। अतः किसी भी स्थिति में प्रशांत पार्टी को चुनाव से पहले और चुनाव के बाद लाइमलाइट में बनाए रखना चाहते हैं। अगर नरेंद्र मोदी ही एनडीए के प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार हैं तो प्रशांत किशोर इतने सक्रिय क्यों दिख  रहें हैं?

आरजेडी नेताओं पर डाल रहे डोरे

ज्ञात हो कि प्रशांत आरजेडी के कुछ वरिष्ठ नेताओं को जेडीयू में शामिल कराने के लिए उन पर डोरे डाल रहे हैं। आरजेडी के इन नेताओं की परेशानी यह है कि नरेंद्र मोदी सरकार के सवर्ण ग़रीबों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने की घोषणा कर आरजेडी ने विरोध किया था। ये नेता भी सवर्ण वर्ग से आते हैं तो ऐसी परिस्थिति में वह कैसे सवर्णों के बीच वोट माँगने जा सकते हैं?  

ममता का नहीं किया खुलकर विरोध

नीतीश कुमार ने कुछ दिनों पहले पश्चिम बंगाल में ममता बनाम सीबीआई के विवाद को लेकर बेहद सधे अंदाज में जबाब दिया था। नीतीश ने कहा था कि हर आदमी के काम करने का तरीक़ा अलग-अलग होता है और जेडीयू लोकतांत्रिक तरीके़ से काम करने में विश्वास रखती है। इससे स्पष्ट है कि नीतीश पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्व्रारा सीबीआई के काम में बाधा डालने की आलोचना तो कर रहे थे लेकिन वह ममता का खुलकर विरोध नहीं कर रहे थे। नीतीश को मालूम है कि पश्चिम बंगाल के हालिया घटनाक्रम और तृणमूल के एक विधायक की हत्या ने बीजेपी और तृणमूल के विवाद में आग में घी डालने का काम किया है।

महिला वोटरों को लुभाने में जुटे

फ़िलहाल नीतीश कुमार अपने कोर वोट बैंक महिला वोटरों को लुभाने में लगे हैं। प्रदेश में शराबबंदी, लड़कियों की पढ़ाई को जारी रखने के लिए पोशाक योजना, साइकिल योजना, मुख्यमंत्री कन्या योजना के अलावा पुलिस में महिलाओं को 35 प्रतिशत आरक्षण और अन्य सभी सेवा अथवा संवर्गो में भी महिलाओं को 35 प्रतिशत के आरक्षण को सही ढंग से लागू करवाने के लिए वह प्रयासशील दिख रहे हैं। 

यही कारण है कि बिहार में नई वोटर लिस्ट में 5,15,800 नए महिला वोटर का नाम जबकि केवल 3,49,663 पुरुष वोटर का नाम जुड़ पाया है। बिहार में कुल 70.6 करोड़ मतदाता हैं। 2015 के विधानसभा चुनाव में नीतीश सरकार को पुनः सत्ता में काबिज कराने में महिला मतदाताओं की अच्छी भूमिका रही थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें