loader

वरवर राव को नानावटी अस्पताल में शिफ़्ट करने की इजाजत 

बॉम्बे हाई कोर्ट ने बुधवार को तेलुगू लेखक वरवर राव को 15 दिनों के लिए नानावटी अस्पताल में शिफ़्ट करने की इजाजत दी है। 79 साल के राव को यूएपीए के तहत गिरफ़्तार किया गया है और वह डेढ़ साल से जेल में हैं। राव भीमा कोरेगांव मामले में अभियुक्त हैं। 

अदालत ने कहा है कि राव के इलाज में होने वाला ख़र्च राज्य सरकार उठाएगी और उनके परिवार को अस्पताल के नियमों के मुताबिक़ उनसे मिलने की इजाजत होगी। अदालत की अनुमति के बिना राव को अस्पताल से डिस्चार्ज नहीं किया जाएगा। 

अदालत राव की पत्नी पी. हेमलता की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई कर रही थी। उन्होंने राव की रिहाई की गुहार लगाई थी और कहा था कि वरवर राव पर जेल में ध्यान नहीं दिया जा रहा है और उन्हें तलोजा जेल से नानावटी अस्पताल में शिफ़्ट कर दिया जाए। राव की ओर से अदालत में पेश हुईं सीनियर वकील इंदिरा जयसिंह ने कहा कि राव डिमेंशिया से पीड़ित हैं। उन्होंने अदालत से कहा कि अगर उन्हें जेल से नहीं हटाया जाता है तो उनकी जान जा सकती है। 

ताज़ा ख़बरें

इंदिरा ने कहा कि ऐसे हालात में यह हिरासत में मौत का मामला बन सकता है। एनआईए ने भी अदालत को बताया कि राव की तबीयत सही नहीं है लेकिन जेल में डॉक्टर उनके स्वास्थ्य पर लगातार नज़र बनाए हुए हैं और ज़रूरी चिकित्सा दे रहे हैं। 29 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने हाई कोर्ट से इस मामले में जल्द से जल्द फ़ैसला करने को कहा था। 

राव के परिवार ने इससे पहले भी अदालत को बताया था कि उनकी स्थिति ऐसी है कि वह ख़ुद टॉयलेट तक नहीं जा सकते लेकिन बावजूद इसके उन्हें जमानत नहीं मिली थी।

दुनिया भर से वरवर राव की रिहाई की मांग

इंदिरा ने पिछली सुनवाई में अदालत के सामने जीवन के अधिकार और व्यक्तिगत आज़ादी के अधिकार की गारंटी देने वाले संविधान के अनुच्छेद 21 का ज़िक्र किया था। व्यक्तिगत आज़ादी के अधिकार का हवाला देते हुए ही सुप्रीम कोर्ट ने रिपब्लिक टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी को जमानत दे दी थी। अर्णब गोस्वामी भी आर्किटेक्ट अन्वय नाइक और उनकी मां की आत्महत्या के मामले में जेल में बंद थे। अदालत के इस फ़ैसले पर सवाल उठे थे कि व्यक्तिगत आज़ादी का अधिकार क्या सिर्फ़ अर्णब के लिए ही है। 
Varavara Rao to shift Nanavati hospital Bombay HC said - Satya Hindi

रिहाई की मांग

सामाजिक कार्यकर्ता वरवर राव के ख़राब स्वास्थ्य को लेकर लंबे समय से उनकी रिहाई की मांग हो रही है। अब कहा जा रहा है कि उनका स्वास्थ्य ज़्यादा ख़राब हो गया है। वरवर राव की तबीयत इतनी ख़राब है कि वह बिस्तर पर ही पेशाब करते हैं, इसलिए उन्हें डायपर पहनाने की ज़रूरत पड़ती है और पेशाब की थैली लगानी पड़ी है। 

स्टेन स्वामी की गिरफ़्तारी

तलोजा जेल में ही स्टेन स्वामी को भी रखा गया है। 83 वर्षीय मानवाधिकार कार्यकर्ता स्वामी को भी भीमा कोरेगांव मामले में गिरफ़्तार किया है। एनआईए भीमा कोरेगांव मामले की जांच कर रही है और वह इस मामले में स्टेन स्वामी के घर पर कई बार छापा मार चुकी थी। इतिहासकार रामचंद्र गुहा और सुप्रीम कोर्ट के वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने स्वामी की गिरफ़्तारी पर मोदी सरकार की आलोचना की थी।

स्टेन स्वामी गंभीर पार्किंसन रोग से पीड़ित हैं और इस वजह से अपने हाथों से उठाकर कुछ खा-पी नहीं सकते। इसलिए उनकी ओर से पानी पीने के लिए स्ट्रा के इस्तेमाल की इजाजत अदालत से मांगी गई थी लेकिन हाई कोर्ट ने इस पर फ़ैसला करने के लिए 21 दिन का वक़्त लिया है। 

रोमिला थापर की चिट्ठी

वरवर राव के स्वास्थ्य को लेकर काफ़ी पहले से चिंताएं जताई जा रही हैं। उनके स्वास्थ्य और उनकी रिहाई के लिए मशहूर इतिहासकार रोमिला थापर और राजनीतिक विश्लेषक प्रभात पटनायक ने भी प्रयास किए थे। उन्होंने इसी साल जुलाई महीने में महाराष्ट्र सरकार और एनआईए को एक चिट्ठी लिखी थी। रोमिला थापर ने अपने ख़त में कहा था कि मौजूदा स्थितियों में राव को जेल में रखना 'न क़ानूनी रूप से सही है न ही नैतिक रूप से।'

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें