loader

क्या नीतीश को केंद्र की राजनीति में देखना चाहते हैं चौबे?

बीजेपी पर बिहार के विधानसभा चुनाव से पहले यह आरोप लगा कि अगर चुनाव में उसकी सीटें ज़्यादा आईं तो वह नीतीश कुमार को मुख्यमंत्री स्वीकार नहीं करेगी। हालांकि राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बार-बार नीतीश को ही बिहार में एनडीए का नेता बताया। लेकिन अब चुनाव नतीजे आ चुके हैं और बीजेपी को नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू से 31 सीटें ज़्यादा मिली हैं तो बिहार बीजेपी से फिर से ऐसे सुर सुनाई देने लगे हैं। बीजेपी को 74 और जेडीयू को 43 सीटें मिली हैं। 

लोकसभा चुनाव 2019 के बाद से ही बिहार बीजेपी में संजय पासवान समेत ऐसे कई नेता थे, जो चाहते थे कि अब यहां बीजेपी को बड़े भाई की भूमिका में होना चाहिए। कारण था कि देश में प्रचंड मोदी लहर के कारण मिली बड़ी जीत। यह जीत बिहार में भी मिली थी और एनडीए ने राज्य की 40 में से 39 सीटों पर कब्जा जमाया था। 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी के नेताओं का कहना था कि यह करिश्मा सिर्फ मोदी के नाम पर पड़े वोटों के कारण हुआ है, वरना 2014 के लोकसभा चुनाव में 2 सीटें लाने वाली जेडीयू 2019 में 16 सीटें कैसे ले आती। लेकिन गृह मंत्री अमित शाह ने पार्टी के नेताओं को समझाया और कहा कि चुनाव में चेहरा नीतीश कुमार ही होंगे। 

मोदी और शाह या नड्डा भी चाहते हैं कि राज्य में मुख्यमंत्री की कुर्सी बीजेपी के किसी नेता को मिले। लेकिन यहां मुश्किल यही है कि नीतीश इसके लिए तैयार नहीं होंगे और नीतीश के बिना सरकार नहीं बनने की। 

बीजेपी जानती है कि बिहार की सत्ता में भागीदारी के लिए नीतीश का साथ चाहिए ही चाहिए। या तो फिर कोई ऐसा नेता हो जिसके पास इतनी सीटें हों कि उसके साथ मिलकर सरकार बनाई जा सके।

ऐसे में नीतीश को बिहार में एनडीए का चेहरा स्वीकार करने के अलावा दूसरा विकल्प उसके पास नहीं है। क्योंकि इस स्थिति में एक राज्य उसके हाथ से निकल जाएगा। 

लेकिन इस बार के चुनाव नतीजों ने बिहार बीजेपी के कुछ नेताओं की सियासी उम्मीदों को फिर से हवा दे दी है। निश्चित रूप से बीजेपी का प्रदर्शन जेडीयू से बहुत बढ़िया रहा है लेकिन सवाल फिर वही है कि अकेले दम पर या कोई और सहयोगी ऐसा नहीं है, जिसके साथ मिलकर 122 के जादुई आंकड़े तक पहुंचा जा सके। 

बिहार के चुनाव नतीजों पर देखिए, चर्चा- 
ऐसे में बिहार बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने नीतीश कुमार को केंद्र की राजनीति में जाने की सलाह दी है और ऐसी सलाह पहले भी दी जा चुकी हैं। बिहार से ही आने वाले और केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने ‘आज तक’ से कहा, ‘आने वाले दिनों में बिहार में बीजेपी संगठन को और मजबूत करना है। आज हम 75 पर हैं, आगे हमें इसे 150 पर ले जाना है।’ 
चौबे ने कहा कि नीतीश जी किसी भी नंबर पर बैटिंग कर सकते हैं, यहां हो या कहीं भी और इस बारे में फ़ैसला केंद्रीय नेतृत्व को लेना है।

अंतिम चरण के मतदान के बाद भी उन्होंने एक ख़बरिया चैनल से बातचीत में कहा था कि नीतीश कुमार अगर किसी को मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी देना चाहें तो दे सकते हैं। उन्होंने कहा था कि नीतीश चुनाव में चुने हुए किसी नेता को मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी दे सकते हैं। नीतीश चूंकि विधान परिषद से आते हैं, ऐसे में चौबे का निशाना कहां था, यह समझा जा सकता है। 

बिहार से और ख़बरें
चुनाव नतीजे वाले दिन भी बिहार बीजेपी के एक पदाधिकारी ने कहा था कि अब राज्य में बीजेपी का मुख्यमंत्री होना चाहिए। 
Will BJP accept Nitish Kumar as CM of Bihar - Satya Hindi
केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे।

नीतीश नहीं होंगे तैयार!

बिहार में अपना मुख्यमंत्री बनाने के लिए छटपटहटा रही बीजेपी के लिए यह सुनहरा मौक़ा है। लेकिन वह जानती है कि नीतीश इसके लिए तैयार नहीं होंगे। नीतीश को स्वीकार करने के बाद बीजेपी को 5 साल तो इस हॉट सीट पर बैठने का मौक़ा मिलेगा नहीं, उसके बाद भी 2025 में नीतीश ये कुर्सी देंगे, इसका कोई भरोसा नहीं। और तब तक बिहार बीजेपी के वे नेता जो ख़ुद को इस राज्य के शासन का मुखिया देखना चाहते हैं, उनकी उम्र ढल चुकी होगी। 

ऐसे में इन नेताओं ने पूरा जोर लगाया हुआ है कि नीतीश कुमार किसी भी तरह से केंद्र की राजनीति में चले जाएं और उनकी दिली मुराद पूरी कर दें लेकिन नीतीश इसके लिए तैयार नहीं होंगे, यह लगभग तय है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

बिहार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें