loader

मिलिए बीजेपी के फ़रार ‘दामाद जी’ से, जिसने गिरवी रख दिया अस्पताल

छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के ‘दामाद जी’ डॉ. पुनीत गुप्ता के भ्रष्टाचार के मामले परत दर परत खुलते जा रहे हैं। ‘दामाद जी’ की करतूतों के चलते जहाँ रमन सिंह परेशान हैं, वहीं राज्य में बीजेपी की प्रदेश इकाई की बोलती बंद है। ‘दामाद जी’ के ख़िलाफ़ एक के बाद एक एफ़आईआर दर्ज होने के बाद कांग्रेस ने हमलावर रुख अपनाया हुआ है। फ़िलहाल आरोपी डॉ. पुनीत गुप्ता फ़रार हैं और पुलिस उनकी तलाश में कई ठिकानों पर दबिश दे चुकी है। 
ताज़ा ख़बरें
कांग्रेस यह कहने से नहीं चूक रही है कि रमन सिंह के ‘दामाद जी’ ने सरकारी संपत्ति और धन का उपयोग निजी कामों और अपनी विलासिता पर किया था। 
ताज़ा ख़ुलासा हुआ है कि डॉ. पुनीत गुप्ता ने रायपुर के सरकारी अस्पताल को ही गिरवी रख दिया था और उसके बदले पंजाब नेशनल बैंक से लोन ले लिया था। इस ख़ुलासे के बाद बीजेपी और पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह बैकफ़ुट पर हैं।
मामले की प्राथमिक जाँच में यह बात सामने आई है कि डॉ. पुनीत गुप्ता ने रायपुर के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल ‘डॉ. भीमराव अंबेडकर मेमोरियल हॉस्पिटल’ को सुपर स्पेशलिटी अस्पताल में तब्दील करने के लिए 99 करोड़ का प्रोजेक्ट तैयार किया था। यह प्रोजेक्ट वर्ष 2016-17 में जिस समय तैयार किया गया उस वक्त राज्य सरकार के पास बजट नहीं था। लिहाज़ा, अस्पताल के लिए मशीनों और उपकरण की ख़रीदी के लिए बैंक से लोन लेने का फ़ैसला लिया गया। लोन के लिए पूरी प्रक्रिया डॉ. पुनीत गुप्ता के निर्देश पर पूरी हुई थी। 

बड़े पैमाने पर फ़र्जीवाड़ा

बैंक से रकम जारी होने के बाद डॉ. पुनीत गुप्ता ने मनमाने तरीके़ से अस्पताल की मशीनें और उपकरण ख़रीदे। इसकी ख़रीद में उन्हीं कंपनियों को टेंडर में प्राथमिकता दी गई, जिन्हें डॉ. पुनीत गुप्ता ने चुना था। प्रारंभिक जाँच में ही पुलिस ने टेंडर प्रक्रिया में भी बड़े पैमाने पर फ़र्जीवाड़ा पाया है।  
डॉ. पुनीत गुप्ता ने 99 करोड़ की फ़र्जी ऑडिट रिपोर्ट से 64 करोड़ का लोन रायपुर के पंजाब नेशनल बैंक से लिया था।

नियमानुसार किसी भी प्रोजेक्ट के लिये लोन जारी करने से पहले बैंक, आवेदन पत्र के साथ उस संस्थान की ऑडिट रिपोर्ट अनिवार्य रूप से जमा करवाता है। यह इसलिए ज़रूरी होती है, क्योंकि बैंक यह जानना चाहता है कि अगर वह लोन दे रहा है तो लोन लेने वाला व्यक्ति या संस्थान रकम को किस तरह और कैसे अदा करेगा। इस ऑडिट रिपोर्ट में लोन लेने वाला व्यक्ति या संस्थान, बैंक को बताता है कि किस तरह से संस्थान की आमदनी होगी और लोन की रकम मय ब्याज अदा की जाएगी। 

संबंधित ख़बरें

फ़र्जी निकले सीए के हस्ताक्षर 

अस्पताल वाले मामले में जाँच के दौरान यह बात सामने आई है कि ऑडिट रिपोर्ट जिस चार्टर्ड एकाउंटेंट (सीए) प्रकाश देशमुख के हवाले से जमा की गई है, उस शख़्स ने अपने फ़र्जी हस्ताक्षर होने का बयान पुलिस में दर्ज कराया है। सीए प्रकाश देशमुख ने पुलिस को दिए बयान में कहा है कि पीएनबी को भेजी गई ऑडिट रिपोर्ट में उनके फ़र्जी हस्ताक्षर हैं। सीए के इस बयान के बाद रायपुर के एसएसपी आरिफ़ शेख़ ने इस घोटाले से जुड़े सभी  दस्तावेजों की फ़ॉरेंसिक जाँच कराने के निर्देश दिए हैं।    इस मामले को लेकर डॉ. रमन सिंह और डॉ. पुनीत गुप्ता की मुश्किलें बढ़ती ही जा रही हैं। अस्पताल में अनियमितता के दो अलग-अलग मामलों में पुलिस ने डॉ. गुप्ता को आरोपी बनाया है। लोकसभा चुनाव के मौक़े पर इससे बीजेपी के सामने मुसीबत खड़ी हो गई है।

फ़रार डॉ. पुनीत गुप्ता और लोन के लिए अस्पताल तक को गिरवी रखने के मामले में कांग्रेस ने बीजेपी और डॉ. रमन सिंह को घेरना शुरू कर दिया है। इस मामले में किसी भी तरह की प्रतिक्रिया जाहिर करने में रमन सिंह और बीजेपी दोनों ही कन्नी काट रहे हैं।
दरअसल, रायपुर के डॉ. भीमराव अंबेडकर हॉस्पिटल के निर्माण के लिए सालों पहले 1944 में दाऊ कल्याण सिंह नामक समाज सेवक ने तत्कालीन सरकार को 1.25 लाख रुपये और कई एकड़ ज़मीन दान में दी थी। इस ज़मीन के एक बड़े हिस्से में राज्य सरकार द्वारा स्वर्गीय दाऊ कल्याण सिंह के नाम पर डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटयूट एंड रिसर्च सेंटर का संचालन किया जा रहा था। इस अस्पताल में डॉ. पुनीत गुप्ता काफ़ी समय से सेवाएँ दे रहे थे। इस बीच उनकी शादी तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह की पुत्री से हो गई। शादी के बाद डॉ. पुनीत गुप्ता इस अस्पताल और रिसर्च सेंटर के स्वयंभू सर्वेसर्वा बन गए। 
डॉ. पुनीत गुप्ता ने अस्पताल की आड़ में मोटी रकम इकट्ठा करने की योजना तैयार की। यह योजना डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटयूट एंड रिसर्च सेंटर को आधुनिक बनाने की थी।
डॉ. गुप्ता के इस प्रोजेक्ट को अमलीजामा पहनाने के लिए तत्कालीन बीजेपी सरकार ने स्वास्थ्य विभाग के अवर सचिव सुनील विजयवर्गीय को गारंटर बनाकर पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) से 64 करोड़ रुपये के टर्म लोन और 5 करोड़ रुपये के कैश क्रेडिट की मंजूरी कराई थी। बताया जाता है कि इस लोन को लेने के लिए कोई सरकारी प्रक्रिया पूरी नहीं की गई। ना तो मामले को कैबिनेट में लाया गया और ना ही लोन के लिए कोई नोटिफ़िकेशन जारी हुआ। 
अवर सचिव सुनील विजयवर्गीय को रमन सिंह सरकार ने बतौर गारंटर बैंक के सामने प्रस्तुत किया जबकि डॉ. पुनीत गुप्ता ने लोन के दस्तावेजों में बतौर अस्पताल के अधीक्षक के रूप में हस्ताक्षर किये थे।

इस घोटाले को स्वास्थ्य विभाग के अलावा मुख्यमंत्री सचिवालय के आला अफ़सरों के संरक्षण में अंजाम दिया गया था। जाँच में यह बात सामने आई है कि तत्कालीन प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) एवं हेल्थ कमिश्नर को इस प्रक्रिया में शामिल नहीं किया गया। 

रमन सिंह को थी जानकारी!

लोन के लिए बैंक को सौंपी गई प्रोजेक्ट रिपोर्ट में स्वर्गीय दाऊ कल्याण सिंह द्वारा दान में दी गई ज़मीन और डीकेएस पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीटयूट एंड रिसर्च सेंटर को बैंक में गिरवी रख दिया गया। बताया जाता है कि तत्कालीन मुख्यमंत्री रमन सिंह को इस मामले की पूरी जानकारी थी। इसी के आधार पर स्वास्थ्य विभाग के तत्कालीन अवर सचिव सुनील विजयवर्गीय को लोन संबंधी प्रक्रिया को पूरा करने के निर्देश मुख्यमंत्री सचिवालय से प्राप्त हुए थे। इन्हीं निर्देशों के आधार पर पीएनबी और स्वास्थ्य विभाग ने लोन संबंधी सारी प्रक्रियाएँ पूरी कर 64 करोड़ का लोन मंजूर कर दिया था। 

मामले के ख़ुलासे के बाद जिस तत्कालीन अवर सचिव सुनील विजयवर्गीय को पूर्व की रमन सिंह सरकार ने बतौर गारंटर बैंक के सामने प्रस्तुत किया था, उनका स्थानांतरण सहकारिता विभाग में कर दिया गया है।

विदेश तो नहीं भाग गए 'दामाद जी'

डॉ. पुनीत गुप्ता के ख़िलाफ़ लगभग 50 करोड़ रुपये के फ़र्जीवाड़े को लेकर डीकेएस अस्पताल के मौजूदा अधीक्षक के.के सहारे ने एफ़आईआर दर्ज कराई है। अस्पताल की तीन सदस्यीय कमेटी की प्राथमिक जाँच के बाद इस एफ़आईआर की सिफ़ारिश की गई थी। फ़िलहाल आरोपी डॉ. पुनीत गुप्ता पुलिस को ढूंढे नहीं मिल रहे हैं। पुलिस की दो टीम उनके कई ठिकानों पर दबिश दे चुकी है। बताया जाता है कि पिछले दो हफ़्तों से आरोपी न तो छत्तीसगढ़ में दिखाई दिए हैं और ना ही राज्य के बाहर के अपने ठिकानों में। लिहाज़ा, अंदेशा यह भी लगाया जा रहा है कि कहीं डॉ. पुनीत गुप्ता अपनी गिरफ़्तारी के डर से विदेश तो नहीं भाग गए।  
छत्तीसगढ़ से और ख़बरें
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 2014 लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान अपने लगभग सभी भाषणों में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी के पति रॉबर्ट वाड्रा का जिक्र ‘दामाद जी’ कह कर किया करते थे। मोदी लगातार आरोप लगाते रहे हैं कि कांग्रेस परिवार वाड्रा को फायदा पहुँचाता रहा है। लेकिन बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और वरिष्ठ नेताओं में शुमार डॉ. रमन सिंह के ख़िलाफ़ वह एक शब्द बोलने को तैयार नहीं है। रॉबर्ट वाड्रा के कथित भ्रष्टाचार पर उन्हें घेरने वाले प्रधानमंत्री मोदी और बीजेपी आख़िर डॉ. रमन सिंह के ‘दामाद जी’ के भ्रष्टाचार पर क्यों चुप हैं?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
मनमीत कौर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

छत्तीसगढ़ से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें