loader

सस्पेंस से भरी फ़िल्म लंदन कॉन्फिडेंशियल की समीक्षा, जानिए कैसी है यह फ़िल्म

फ़िल्म- लंदन कॉन्फिडेंशियल

डायरेक्टर- कंवल सेठी

स्टार कास्ट- मौनी रॉय, पूरब कोहली, कुलराज रंधावा

स्ट्रीमिंग प्लेटफ़ॉर्म- ज़ी 5

शैली- स्पाई-थ्रिलर

रेटिंग- 3/5

इस वक़्त जहाँ एक तरफ़ देश कोरोना संक्रमण से जूझ रहा है वहीं दूसरी तरफ़ भारत-चीन सीमा पर भी लगातार तनाव बना हुआ है। इसी बीच ओटीटी प्लेटफॉर्म ज़ी 5 पर फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' रिलीज़ हुई है। इसमें शुरुआत में ही यह बताया गया कि चीन ने एक और ख़तरनाक वायरस बना लिया है और उसे बॉर्डर पर छोड़ने की तैयारी में है। जिसका भंडाभोड़ भारत के अंडर कवर एजेंट लंदन में होने वाली कॉन्फ्रेंस में करने वाले हैं। फ़िल्म का निर्देशन कंवल सेठी ने किया और इसकी कहानी हुसैन ज़ैदी ने लिखी है। इसके साथ ही फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' में मौनी रॉय, पूरब कोहली और कुलराज रंधावा लीड रोल में हैं। तो आइये जानते हैं इसकी क्या है कहानी-

सिनेमा से और ख़बरें

क्या है 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' में ख़ास

फ़िल्म की कहानी है कि 7 दिनों में लंदन में दुनिया भर के वायरस विशेषज्ञों की एक कॉन्फ्रेंस होनी है और इससे पहले लंदन में काम कर रहे भारतीय एजेंट बीरेन घोष को अपने एक चीनी सूत्र से यह मालूम पड़ता है कि कोरोना के बाद चीन भारत की सीमा पर एक और वायरस अटैक करने जा रहा है। यह बात वो भारतीय इंटेलिजेंस टीम को लीड कर रही उमा (मौनी रॉय) को बताने ही वाला होता है कि चीनी एजेंट बीरेन को किडनैप करके उसकी हत्या कर देते हैं। उमा के साथ ही उसके सहयोगी अर्जुन (पूरब कोहली) के आगे अब यह चुनौती खड़ी हो जाती है कि आख़िर वो चीनी सूत्र कौन है और इसके साथ ही उमा को यह भी पता चलता है कि इंडियन इंटेलिजेंस टीम में कोई ऐसा व्यक्ति है जो चीनी ख़ुफ़िया एजेंसी एमएसएस को यहाँ की पूरी जानकारी दे रहा है। 

एक तरफ़ उमा और अर्जुन के लिए लंदन कॉन्फ्रेंस से पहले सब कुछ पता लगाने की चुनौती होती है वहीं दूसरी तरफ़ चीनी ख़ुफ़िया एजेंसी एमएसएस भी काफ़ी सक्रिय है। अब ऐसे में उमा और अर्जुन 7 दिनों में सब कुछ कैसे पता लगायेंगे? क्या वो चीनी सूत्र मिल पायेगा या चीन भारत की सीमा में वायरस अटैक करने में कामयाब हो जायेगा? भारतीय इंटेलिजेंस में कौन है जो सारी जानकारी इधर से उधर कर रहा है? ये सब कुछ आपको ज़ी 5 पर फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' देखने के बाद पता चलेगा। यह फ़िल्म सिर्फ़ 1 घंटे 17 मिनट की है। 

london confidential film review - Satya Hindi

निर्देशन

फ़िल्म निर्माता कंवल सेठी ने फ़िल्म में कास्ट का चुनाव बेहतर तरीक़े से किया है लेकिन इसकी कहानी काफ़ी भागती हुई नज़र आती है। फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' की काफ़ी सस्पेंस के साथ शुरुआत होती है लेकिन उसे इतनी जल्दी में दिखाया जाता है, जिसे देखकर ऐसा लगता है कि काफ़ी कुछ बीच में ही छोड़ दिया गया।

ताज़ा ख़बरें

एक्टिंग

फ़िल्म ‘गोल्ड’ या ‘मेड इन चाइना’ में मुख्य किरदार निभा चुकीं मौनी रॉय ने फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' में अच्छा अभिनय किया है। अर्जुन के किरदार में पूरब कोहली ने भी एजेंट के रोल में काफ़ी शानदार एक्टिंग की। भारतीय राजदूत के रोल में कुलराज रंधावा का किरदार भले ही फ़िल्म में ज़्यादा बड़ा न हो लेकिन एक्ट्रेस ने अच्छा काम किया है। इसके अलावा फ़िल्म के बाक़ी सभी स्टार्स ने भी बख़ूबी अपने रोल को निभाया।

london confidential film review - Satya Hindi
फ़िल्म 'लंदन कॉन्फिडेंशियल' सिर्फ़ डेढ़ घंटे की फ़िल्म है इसे आप एक बार देख सकते हैं। फ़िल्म में कई ऐसे सस्पेंस हैं जो आख़िर में ही खुलेंगे और ये आपको अंत तक बांधे रखेंगे। इस फ़िल्म की कमजोर कड़ी बस ये है कि जिस तरह से भारी भरकम संवाद के साथ फ़िल्म की शुरुआत होती है उस तरीक़े से इसका क्लाइमेक्स नहीं होता और फ़िल्म काफ़ी जल्दी में भागती हुई नज़र आती है। परफॉर्मेंस के मामले में फ़िल्म में मौजूद सभी स्टार्स ने अच्छा काम किया है और इसलिए भी आप फ़िल्म को एक बार देख सकते हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें