loader

आज के दौर की पत्रकारिता को आईना दिखाती है सीरीज़ 'पाताल लोक'

सीरीज़- 'पाताल लोक'

डायरेक्टर- अविनाश अरुण, प्रोसित रॉय

कास्ट- जयदीप अहलावत, नीरज काबी, अभिषेक बनर्जी, आसिफ खान, इश्वाक सिंह, मैरेमबाम रोनाल्डो सिंह, गुल पनाग, जगजीत संधू

स्ट्रीमिंग प्लेटफॉर्म- अमेज़न प्राइम

शैली- एक्शन-थ्रिलर

रेटिंग- 4/5

अमेज़न प्राइम पर हाल ही में एक सीरीज़ रिलीज हुई है जिसका नाम है 'पाताल लोक'। वैसे तो हमने कहानियों में हमेशा स्वर्ग, नर्क, धरती और 'पाताल लोक' के बारे में सुना है लेकिन इस सीरीज़ में हमें फिर से बताया गया है कि दुनिया में तीन लोक होते हैं। स्वर्ग लोक जहां देवता रहते हैं, धरती लोक जहां इंसान रहते हैं और 'पाताल लोक' जहां कीड़े रहते हैं। 

सुदीप शर्मा द्वारा लिखी गई और अविनाश अरुण व प्रोसित रॉय के निर्देशन में बनी सीरीज़ 'पाताल लोक' में कई ऐसी घटनाओं को दिखाया गया है जो कि आज के वक्त में हमें आए दिन देखने व सुनने को मिलती हैं। इनमें पत्रकारों पर हमला, दंगे, दलितों पर अत्याचार और बलात्कार जैसी घटनाएं शामिल हैं। 

ताज़ा ख़बरें

'पाताल लोक' में लीड रोल में जयदीप अहलावत, नीरज काबी, अभिषेक बनर्जी, इश्वाक सिंह, गुल पनाग, आसिफ खान सहित और भी कई स्टार्स हैं। तो आइये जानते हैं इसकी कहानी के बारे में -

शुरुआत कुछ इस तरह से होती है कि विशाल अका हथौड़ा त्यागी (अभिषेक बनर्जी), कबीर एम. (आसिफ खान), तोप सिंह (जगजीत संधू) और मैरी (मैरेमबाम रोनाल्डो), ये चारों लोग किसी के कहने पर एक प्राइम टाइम एंकर संजीव मेहरा (नीरज काबी) को मारने की फिराक़ में निकलते हैं लेकिन इन्हें बीच में ही दिल्ली पुलिस गिरफ्तार कर लेती है। 

ये कहते हुए सब जगह तहलका मच जाता है कि अभिव्यक्ति की आजादी पर हमला किया जा रहा है। ये केस हाथीराम चौधरी (जयदीप अहलावत) और इनके साथी इमरान अंसारी (इश्वाक सिंह) को सॉल्व करने को दिया जाता है। हाथीराम चौधरी को इससे पहले कभी भी बड़ा केस नहीं मिला था,  इसलिए वह इस केस पर मेहनत के साथ काम करने के लिए जुट जाता है। 

पत्रकार पर होने वाले हमले के मामले की तफ्तीश में प्याज के छिलके की तरह एक के बाद एक परत हटती जाती है और फिर जो कुछ सामने आता है, वह बेहद ही हैरान करने वाला होता है। इसके अलावा ये चारों लोग अपराधी कैसे बने, इसके पीछे की भी अलग-अलग कहानी सामने आती है। जिसे देखकर आपको लगने लगेगा कि हां, वाकई हमारे समाज में ऐसा होता है। 

तो, पत्रकार पर हमले की योजना क्यों और कौन बनाता है? ये चारों लड़के अपराधी क्यों बने? क्या हाथीराम चौधरी पूरा केस सुलझा पाता है या नहीं? क्या एंकर पर हमले के पीछे किसी राजनीतिक पार्टी का हाथ होता है? ये सब जानने के लिए आपको अमेज़न प्राइम पर सीरीज़ 'पाताल लोक' देखनी पड़ेगी।

सीरीज़ में क्या है खास 

'पाताल लोक' में पत्रकार पर होने वाले हमले से शुरू कर कई पहलुओं को दिखाया गया है। इसमें गौरी लंकेश का भी जिक्र किया गया है कि कैसे उनकी हत्या कर दी जाती है। इस पर भी गौर किया गया है कि अगर कोई पत्रकार सरकार के पक्ष में नहीं रहता तो उसपर हमला कराया जाता है या उसे धमकी मिलती है। 

सीरीज़ में एंकर संजीव मेहरा एक बात कहते हैं, "हम जर्नलिस्ट पहले हीरो हुआ करते थे और अब हम ट्रोल, फायर्ड और मारे जाते हैं।" तो वहीं दूसरी तरफ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया का वह चेहरा भी दिखाया जाता है कि कैसे चैनलों को हर मामले में बस टीआरपी बटोरने और मसाला ढूंढने की आदत हो गई है। तो कहीं पर फे़क न्यूज और खबरों को तोड़-मरोड़ कर पेश किया जाता है। 

इसके अलावा गांव में कमजोर जाति वालों पर ऊँची जाति वालों का अत्याचार तो वहीं दूसरी तरफ किसी का बदला लेने के लिए किसी का बलात्कार कर दिया गया, ये भी दिखाया गया है। 

‘राम लला हम आएंगे-मंदिर वहीं बनाएंगे’ इन नारों के साथ हिंदू-मुसलमानों के बीच लड़ाई और अगर एक मुसलमान कोई अपराध कर दे तो कैसे उसे तुरंत आतंकवादी या पाकिस्तानी कह दिया जाता है, इसे भी दिखाया गया है।

अगर किसी मुसलमान ने कोई अपराध न भी किया हो और वह आम जीवन जी रहा हो तो कुछ लोग उसे इस नज़र से देखते हैं, जैसे वह कोई अपराधी हो। इन सब से परे इस मुद्दे को भी दिखाया गया है कि अगर कोई चुनाव आ रहा है तो कैसे राजनीतिक पार्टी को वोट हासिल करने के लिए कोई मुद्दा चाहिए होता है या कुछ ऐसा किया जाता है कि लोग उसे समर्थन दें। 

'पाताल लोक' आपको आखिर में सोचने पर ज़रूर मजबूर कर देगी कि देश में आखिर चल क्या रहा है और क्या लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया को इस स्थिति में लाने के लिए हम खुद जिम्मेदार हैं।

निर्देशन -

'एनएस 10' और 'उड़ता पंजाब' जैसी शानदार फ़िल्मों की स्क्रिप्ट लिख चुके सुदीप शर्मा ने 'पाताल लोक' की कहानी भी अच्छी लिखने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। इस अच्छी कहानी पर अविनाश अरुण व प्रोसित रॉय का अच्छा डायरेक्शन सोने पर सुहागा जैसा काम कर गया। हर एक मुद्दे को दिखाती हुई ये सीरीज़ आपको जरा भी वक्त नहीं देगी कि आप बोर हो जाएं।

सभी ने की बेहतरीन एक्टिंग

'पाताल लोक' में पुलिस अफसर का रोल कर रहे जयदीप अहलावत ने बेहतरीन एक्टिंग की है। नीरज काबी ने एक एंकर का रोल प्ले किया है और उन्होंने अपने किरदार को बखूबी निभाया है। इसके अलावा अभिषेक बनर्जी की बात करें तो उन्हें उन स्टार्स की कैटेगरी में रखा जा सकता है जिन्हें कोई भी रोल दे दीजिए, वे सभी को परफेक्ट तरीके से पेश करेंगे। अभिषेक ने भी शानदार एक्टिंग की है। 

इश्वाक सिंह ने सीधे-साधे पुलिस अफसर की भूमिका निभाई है लेकिन अपने किरदार को बखूबी निभाया है। पहले भी अपने काम से पहचान बना चुके आसिफ खान ने फिर से अपने काम से खुद को साबित किया है। इसके अलावा बाकी सभी स्टार्स गुल पनाग, जगजीत संधू, निहारिका लायरा दत्त, आकाश खुराना, विपिन शर्मा, राजेश शर्मा ने भी अपने रोल को बेहतरीन तरीके से निभाया है। 

सिनेमा से और ख़बरें

क़तई बोर नहीं होंगे आप 

9 एपिसोड की सीरीज़ 'पाताल लोक' आपको जरा देर के लिए भी बोर नहीं करेगी और न ही निराश करेगी। सीधे प्वाइंट से सीरीज़ की कहानी शुरू होती है और ज्यादा न खींचते हुए खत्म हो जाती है। हर एक एपिसोड के अंत में छोड़ा गया सस्पेंस आपको पूरी सीरीज़ जल्द से जल्द खत्म करने पर मजबूर कर देगा। 

हां, अगर आप सीरियस, एक्शन, थ्रिलर सीरीज़ देखना पसंद नहीं करते हैं तो ये आपको एकदम पसंद नहीं आयेगी। क्योंकि इसमें सीरियस इन्वेस्टिगेशन है और भरपूर मात्रा में अपशब्दों का इस्तेमाल किया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दीपाली श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें