loader

कोरोना: दिल्ली में एक दिन में 1106 मामले, पड़ोसी राज्यों ने सील किए बॉर्डर

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमण के मामले बीते दिनों में तेजी से बढ़े हैं। शुक्रवार को ऐसा पहली बार हुआ जब राजधानी में संक्रमण के 1 हज़ार से ज़्यादा मामले आए। शुक्रवार को कुल 1106 मामले सामने आए और 13 लोगों की मौत हुई। हालात बिगड़ते देख दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सामने आए और उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस से घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है। 

देश में कोरोना संक्रमित राज्यों की संख्या में दिल्ली अब तीसरे स्थान पर पहुंच गई है। पहले पर महाराष्ट्र और दूसरे स्थान पर तमिलनाडु है। राजधानी में  संक्रमण के अब तक कुल 17,386 मामले सामने आए हैं और 398 लोगों की मौत हुई है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली में लगातार बढ़ रहे संक्रमण को देखकर पड़ोसी राज्यों ने भी राजधानी से लगती अपनी सीमाओं को सील कर दिया है। पहले उत्तर प्रदेश और फिर हरियाणा ने यह क़दम उठाया है। इन दोनों ही राज्यों का कहना है कि दिल्ली से आने वाले लोग उनके राज्य में संक्रमण बढ़ा सकते हैं। 

‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक़, सफदरजंग अस्पताल के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के प्रमुख डॉ. जुगल किशोर ने कहा, ‘दिल्ली की आबादी को देखते हुए यहां लोगों में संक्रमण का ख़तरा ज़्यादा है। इसलिए संक्रमण के मामले और बढ़ सकते हैं। हमें इस पर ध्यान देना होगा कि डेथ रेट न बढ़े।’ एम्स में एमएस डीके शर्मा ने अख़बार से कहा कि एम्स में ही 195 स्वास्थ्य कर्मी अब तक कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। 

दिल्ली से और ख़बरें

दिल्ली हाई कोर्ट ने जताई नाराजगी 

दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को कहा है कि वह राजधानी के अस्पतालों, शवगृहों और श्मशानों में कोरोना से मारे गए लोगों के शवों के ढेर को देखकर दुखी है। जस्टिस राजीव सहाय एंडलॉ और आशा मेनन की पीठ ने इन हालात को बेहद असंतोषजनक और मृतकों के अधिकारों का अतिक्रमण बताया। अदालत ने मानवाधिकारों के उल्लंघन का स्वत: संज्ञान लेने का फैसला किया और इस बारे में दिल्ली सरकार के साथ-साथ नगर निगमों को भी नोटिस जारी किया है। 

दिल्ली सरकार का कहना है कि वर्तमान में 2100 मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं और उसने 5 हज़ार बेड की व्यवस्था की है। लेकिन कुछ दिन पहले दिल्ली पुलिस के एक कांस्टेबल को उसके दोस्त कई अस्पतालों में इलाज के लिए ले गए लेकिन किसी भी अस्पताल ने उसे भर्ती नहीं किया और उसकी मौत हो गई। 

लॉकडाउन 4.0 में जैसे ही केजरीवाल सरकार ने बसों, ऑटो को शुरू किया और बाज़ारों को खोला, कोरोना संक्रमण के मामलों में तेज़ी आई है। ऐसे में सरकार को इस बात का ध्यान रखना होगा कि घनी आबादी वाले इस महानगर में ज्यादा छूट देना कहीं महंगा न पड़ जाए। 

'सत्य हिन्दी'
सदस्यता योजना

'सत्य हिन्दी' अपने पाठकों, दर्शकों और प्रशंसकों के लिए यह सदस्यता योजना शुरू कर रहा है। नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से आप किसी एक का चुनाव कर सकते हैं। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है, जिसका नवीनीकरण सदस्यता समाप्त होने के पहले कराया जा सकता है। अपने लिए सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। हम भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें