loader

सोनिया गांधी के 71 वर्षीय निजी सचिव पर दुष्कर्म की एफ़आईआर

दिल्ली पुलिस ने कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी के निजी सचिव के ख़िलाफ़ एक महिला से कथित तौर पर रेप और धमकी देने का मामला दर्ज किया है। पुलिस ने कहा है कि आरोपी की पहचान 71 वर्षीय पीपी माधवन के रूप में हुई है। वह सोनिया गांधी के निजी सचिव हैं।

हालाँकि इस मामले में अब तक किसी की गिरफ़्तारी नहीं हुई है। पुलिस के मुताबिक, महिला ने माधवन पर नौकरी दिलाने और शादी करने का झांसा देकर कई मौकों पर उसके साथ कथित तौर पर बलात्कार करने और परेशान करने का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई है।

ताज़ा ख़बरें

पुलिस के अनुसार महिला ने कहा कि 2020 में कोविड लॉकडाउन के दौरान अपने पति को खोने के तुरंत बाद वह आरोपी से मिली। उनका पति पार्टी कार्यालय में एक सहायक के रूप में काम करता था। उन्होंने कहा कि वह अक्सर नौकरी की तलाश में कांग्रेस कार्यालय जाती थीं। 

उन्होंने कई जगहों पर ज़बरदस्ती करने का आरोप लगाया है। इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक़ डीसीपी (द्वारका) हर्षवर्धन ने कहा, 'आरोप एक 71 वर्षीय व्यक्ति के ख़िलाफ़ लगाए गए हैं। वह एक वरिष्ठ राजनीतिक नेता के पीएस के रूप में कार्यरत हैं। 25 जून को एक शिकायत मिली थी। आईपीसी की धारा 376 (बलात्कार) और 506 (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया है। हम मामले की जांच कर रहे हैं।'

माधवन ने अख़बार को बताया, 'यह सिर्फ कांग्रेस पार्टी को बदनाम करने के लिए एक निराधार आरोप है। इसमें कोई सच्चाई नहीं है। यह पूरी साज़िश है।'

दिल्ली से और ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार महिला ने शिकायत में कहा है, 'मेरी आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी और मैं कांग्रेस कार्यालय गयी जहाँ मुझे सोनिया गांधी के पीए पीपी माधवन का नंबर मिला। मैंने उनसे कहा कि मुझे नौकरी की ज़रूरत है और उन्होंने मेरी मदद करने का वादा किया...। 21 जनवरी को उन्होंने मुझे एक साक्षात्कार के लिए बुलाया। उन्होंने मुझसे कई सवाल पूछे और मेरे सारे दस्तावेज देखे... फिर उन्होंने मुझसे कहा कि वह मुझसे शादी करना चाहते हैं। मैंने हाँ कह दिया... एक दिन, उन्होंने मुझे मिलने के लिए बुलाया... वह मुझे एक कार में लेने आये... उन्होंने अपने ड्राइवर को कार से बाहर जाने के लिए कहा। उन्होंने मेरा यौन शोषण किया और मेरे साथ बलात्कार करने की कोशिश की। जब मैंने इस पर आपत्ति की तो वह नाराज़ हो गए और मुझे सड़क पर अकेला छोड़ दिया।'

शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि आरोपी ने बाद में उनसे माफी मांगी और वे फिर से बात करने लगे। कुछ दिनों के बाद उन्होंने उसे फिर से मिलने के लिए बुलाया। उन्होंने आरोप लगाया है कि इस दौरान उनसे दुष्कर्म किया गया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया है कि बाद में भी उन्हें ऐसा करने के लिए मजबूर किया गया और फिर अपहरण करवाने की धमकी दी गई।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें