loader

केजरीवाल की बैठक में पहुंचे 53 विधायक, आप बोली- ऑपरेशन लोटस फेल 

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के विधायकों को खरीदे जाने की कोशिशों के आरोपों के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को दिल्ली में पार्टी के विधायकों की बैठक बुलाई। इस बैठक में 53 विधायक मौजूद रहे जबकि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के पास 62 विधायक हैं। बैठक के बाद सभी विधायक महात्मा गांधी की समाधि राजघाट पर पहुंचे और श्रद्धांजलि अर्पित की। 

आम आदमी पार्टी ने कहा है कि दिल्ली में पार्टी के सारे विधायकों ने कहा है कि वे आख़िरी सांस तक केजरीवाल के साथ हैं और बीजेपी के ऑपरेशन लोटस को अरविंद केजरीवाल ने फेल कर दिया है। 

विधायक सौरभ भारद्वाज ने कहा है कि बीजेपी वाले 20-20 करोड़ देकर 40 विधायकों को तोड़ना चाहते थे। उन्होंने पूछा कि इनके पास 800 करोड़ का काला धन कहां से आया। क्या सीबीआई और ईडी इसकी जांच करेंगी?

AAP MLAs Meeting operation lotus in delhi  - Satya Hindi

उन्होंने कहा कि अदालत में विधायकों की गवाही सबूत मानी जाती है। समय आने पर देश के सामने ऐसे-ऐसे सबूत रखेंगे कि बीजेपी नेताओं के पैरों के नीचे से ज़मीन खिसक जाएगी।

दिल्ली में घमासान 

बता दें कि पिछले कई महीने से दिल्ली में नई आबकारी नीति को लेकर बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच घमासान चल रहा है। कांग्रेस भी इस मामले में आम आदमी पार्टी पर हमलावर है। 

आम आदमी पार्टी के विधायकों और कार्यकर्ताओं ने दिल्ली में कई जगह पर बीजेपी के खिलाफ पोस्टर लगाए हैं जबकि बीजेपी भी आबकारी नीति के नाम पर केजरीवाल सरकार द्वारा भ्रष्टाचार करने का आरोप लगाते हुए उसे घेर रही है। शुक्रवार को दिल्ली विधानसभा का विशेष सत्र भी बुलाया गया है। 

ताज़ा ख़बरें

20 करोड़ का ऑफ़र

आम आदमी पार्टी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर आरोप लगाया था कि दिल्ली में उसके 4 विधायकों को बीजेपी की ओर से करोड़ों रुपए का ऑफर दिया गया है। आम आदमी पार्टी के मुताबिक, उसके विधायकों से कहा गया है कि अगर वह अपनी पार्टी छोड़कर बीजेपी के साथ आते हैं तो उन्हें 20 करोड़ रुपये मिलेंगे और अगर वह दूसरे विधायकों को लाते हैं तो उन्हें 25 करोड़ रुपये दिए जाएंगे।

इससे पहले उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कह चुके हैं कि बीजेपी की ओर से उन्हें ऑफर आया है कि अगर वह आम आदमी पार्टी छोड़कर बीजेपी में आ जाएं तो उनके खिलाफ दर्ज सभी मुकदमों को खत्म कर दिया जाएगा।

'सिसोदिया जैसा होगा हाल'

प्रेस कॉन्फ्रेंस में बुराड़ी से विधायक संजीव झा ने कहा कि बीजेपी के नेता और एक पूर्व विधायक उनके पास आए थे और उन्होंने कहा कि अब आम आदमी पार्टी का भविष्य नहीं है। विधायक के मुताबिक, बीजेपी नेता ने कहा कि अगर आप आम आदमी पार्टी छोड़ते हैं तो आपको 20 करोड़ दिए जाएंगे। विधायक संजीव झा ने कहा कि उन्होंने बीजेपी के नेता से पूछा कि अगर वह उनका ऑफर स्वीकार नहीं करते हैं तो क्या होगा। इस पर बीजेपी नेता ने कहा कि जैसा मनीष सिसोदिया के साथ हुआ है एक-एक विधायक के साथ ऐसा ही होगा।
AAP MLAs Meeting operation lotus in delhi  - Satya Hindi
मालवीय नगर से विधायक सोमनाथ भारती अंबेडकर नगर से विधायक अजय दत्त ने भी ऐसे ही आरोप लगाए थे। इन विधायकों के मुताबिक, बीजेपी नेताओं ने उनसे कहा था कि या तो वे बीजेपी के साथ आ जाएं वरना जिस तरह मनीष सिसोदिया के खिलाफ ईडी और सीबीआई का फर्जी मुकदमा कराया गया है वैसा ही आपके साथ होगा। 
AAP MLAs Meeting operation lotus in delhi  - Satya Hindi

दिल्ली में मजबूत है आप

भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन से निकली आम आदमी पार्टी ने पिछले तीन चुनावों में दिल्ली में बीजेपी को धूल चटाई है। 2013 के विधानसभा चुनाव के बाद आम आदमी पार्टी ने कांग्रेस के साथ मिलकर सरकार बनाई थी जबकि 2015 और 2020 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को अपने दम पर बड़ी जीत मिली थी। 2015 के विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी को 70 सदस्यों वाली दिल्ली में 67 सीटों पर जीत मिली थी जबकि 2020 में यह आंकड़ा 62 सीटों का था।

दिल्ली के साथ ही आम आदमी पार्टी ने इस साल फरवरी-मार्च में पंजाब के चुनाव में भी प्रचंड जीत हासिल की थी। इसके बाद वह हिमाचल प्रदेश और गुजरात के चुनाव में मजबूती से उतरने की कोशिश कर रही है। लेकिन आबकारी नीति पर हुए घमासान के बीच उसे इस बात का डर है कि उसके बड़े नेता और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को जांच एजेंसियां गिरफ्तार कर सकती हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें