loader

 एग्जिट पोल के नतीजों के बाद दिल्ली बीजेपी के सांसदों की बैठक

दिल्ली चुनावों पर हुए तमाम एग़्जिट पोल में बीजेपी की संभावित हार के संकेत मिलने के बाद पार्टी ने राजधानी के सभी सांसदों की बैठक बुलाई। गृह मंत्री और पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने यह बैठक बुलाई।
इस बैठक में अमित शाह के अलावा पार्टी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा और दूसरे बड़े नेता मौजूद थे। दिल्ली बीजेपी के प्रमुख मनोज तिवारी समेत सभी सांसद मौजूद थे। इस बैठक में सभी सांसदों से पार्टी की संभावित हार पर राय ली गई, इसकी वजह उनसे पूछी गई। समझा जाता है कि गृह मंत्री ने अपनी नाराज़गी सख़्त शब्दों में जताई। 

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर से लेकर बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने बेहद भड़काऊ बयान दिये थो। वर्मा और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने केजरीवाल को आतंकवादी तक कहा। बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने शाहीन बाग़ को तौहीन बाग़ कहा और पूरी तरह यह आंदोलन पार्टी नेताओं के निशाने पर रहा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने केजरीवाल सरकार पर शाहीन बाग़ में बैठे प्रदर्शनकारियों को बिरयानी खिलाने का आरोप लगाया। इसे लेकर दिल्ली के विधानसभा चुनाव में ख़ूब विवाद हुआ। लेकिन इस सबके बाद भी पार्टी अपने पिछले प्रदर्शन में बस थोड़ा सा सुधार करती दिख रही है। 2015 के विधानसभा चुनाव में उसे 3 सीटें मिली थीं। 

ताज़ा ख़बरें

इंडिया टुडे-एक्सिस माइ इंडिया के एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 59-68, बीजेपी को 2-11 और कांग्रेस को 0 सीटें मिलने की बात कही गई है। इस एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 56 फ़ीसदी, बीजेपी को 35 फ़ीसदी और कांग्रेस को 5 फ़ीसदी वोट मिलने की बात कही गई है। रिपब्लिक टीवी-जन की बात एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 48 से 61, बीजेपी को 9 से 21 और कांग्रेस को 1 सीट मिलने की बात कही गई है। टाइम्स नाउ-इपसॉस और इंडिया टुडे-इपसॉस के एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 47 सीटें मिल सकती हैं, बीजेपी को 23 सीट मिलने की बात कही गई है। एग्जिट पोल के मुताबिक़, कांग्रेस को कोई सीट नहीं मिल रही है। 

इसी तरह टीवी-9 सिसेरो के एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 54 सीटें, बीजेपी को 15 और कांग्रेस को सिर्फ 1 सीट मिलने की बात कही गई है। एबीपी-सी वोटर के एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को 49 से 63 सीटें, बीजेपी को 5 से 19 और कांग्रेस को 0-4 सीटों पर जीत मिलने की बात कही गई है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें