loader

दिल्ली कोरोना प्लान : जाँच दूनी, 750 आईसीयू बेड

ऐसे समय जब दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या एक बार फिर बढ़ रही है, सरकार ने एक एक्शन प्लान बनाया है। गृह मंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के बीच हुई इस बैठक में रोज़ाना की जाने वाली कोरोना जाँच की संख्या दूनी करने, 750 बिस्तर अलग से तैयार रखने और ऑक्सीजन सिलिंडर मुहैया कराने पर फ़ैसला हुआ है।
बैठक के बाद केजरीवाल ने कहा कि 750 आईसीयू बिस्तर कोरोना रोगियों के लिए अलग से तैयार रखे जाएंगे। केंद्र सरकार डीआरडीओ केंद्र पर इसकी व्यवस्था करेगी। इसके साथ ही रोज़ाना जाँच की संख्या बढ़ा कर एक लाख कर दी जाएगी। फ़िलहाल रोज़ाना 60 हज़ार लोगों की कोरोना जाँच की जाती है।
ख़ास ख़बरें

दूनी कोरोना जाँच

दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की संख्या में बीते 12 दिनों में बहुत ही अधिक बढ़ोतरी हुई है। कुछ हफ़्तों तक संख्या कम रहने के बाद 3 नवंबर को यह 6,725 पर पहुँच गई। अगले तीन दिनों में यह तादाद 7 हज़ार पार कर गई। हालात और बिगड़ी व 11 नवंबर को दिल्ली में कोरोना रोगियों की संख्या 8,593 हो गई।
दिल्ली के अस्पतालों में 12 नंवंबर को सिर्फ़ 13 फ़ीसदी आईसीयू बेड ही खाली थे। एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में कुल 1,283 आईसीयू बेड में वेंटिलेटर की सुविधा थी, जिसमें से 1,119 भरे हुए थे। इसका मतलब हुआ कि क़रीब 87 फ़ीसदी बेड भरे हुए थे। दिल्ली में इस तारीख तक 42 हज़ार से ज़्यादा लोग संक्रमित हैं। दिल्ली में अब तक साढ़े 4 लाख से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और सात हज़ार से ज़्यादा मरीज़ों की मौत हो चुकी है।

अदालत का फ़ैसला

इसी दिन दिल्ली हाई कोर्ट ने एक अहम फ़ैसले में कहा था कि 33 निजी अस्पतालों में 80 फ़ीसदी आईसीयू बेड कोरोना मरीज़ों के लिए आरक्षित रखे जा सकते हैं। कोर्ट का फ़ैसला ऐसे समय में आया है जब दिल्ली में हर रोज़ अब 8,000 से ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले आने लगे हैं और ऐसी रिपोर्टें हैं कि अधिकतर अस्पतालों में आईसीयू मरीज़ों से क़रीब-क़रीब भरने वाले हैं।>
amit shah, kejriwal announce 12-point delhi action plan - Satya Hindi
याद दिला दें कि इसके पहले दिल्ली के 33 बड़े निजी अस्पतालों के आईसीयू में 80 फ़ीसदी बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने के दिल्ली सरकार के फ़ैसले पर दिल्ली हाई कोर्ट ने रोक लगा दी थी। इसके बाद संक्रमण के कारण ख़राब स्थिति को देखते हुए अरविंद केजरीवाल सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली के निजी अस्पतालों के आईसीयू बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने की माँग की थी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें