loader

पिज्जा-बर्गर की होम डिलीवरी है तो राशन की क्यों नहीं: केजरीवाल

दिल्ली में राशन की होम डिलीवरी योजना पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और बीजेपी फिर आमने-सामने हैं। इस योजना पर एक दिन पहले ही बीजेपी की केंद्र सरकार द्वारा रोक लगाए जाने का आरोप लगाने के बाद आज यानी रविवार को केजरीवाल ने पूछा कि जब पिज्जा और बर्गर की होम डिलीवरी हो सकती है तो राशन की क्यों नहीं? इस सवाल के साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया कि वह राज्य सरकार को घर-घर राशन पहुँचाना शुरू करने दें। उन्होंने तो केंद्र सरकार से यहाँ तक अपील की कि कोरोना को देखते हुए इस योजना को राष्ट्रीय स्तर पर इस्तेमाल किया जाना चाहिए। 

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने आज ऑनलाइन ब्रीफिंग में पूछा कि आख़िर इस योजना के शुरू होने के कुछ दिन पहले केंद्र सरकार ने क्यों रोक लगा दी। 

ताज़ा ख़बरें

यदि एक नज़र से देखा जाए तो मुख्यमंत्री केजरीवाल के इन तर्कों से किसी को भी शायद ही आपत्ति हो। तो फिर केंद्र क्यों आपत्ति कर रहा है? दरअसल, केंद्र सरकार की भी अपनी एक दलील है। और इसी को लेकर विवाद रहा है।

केंद्र का तर्क है कि दिल्ली सरकार इसके लिए स्वतंत्र है कि वह अपनी प्रस्तावित योजना के लिए अधिसूचित तय दर पर अनाज खरीदे और उस योजना को लागू करे। केंद्रीय खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्रालय का कहना है कि लेकिन दिल्ली सरकार ऐसा नहीं कर रही है। वह चाहती है कि राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा क़ानून के तहत पीडीएस यानी सार्वजनिक वितरण प्रणाली को 'बेपटरी' कर दे और इसके तहत काफ़ी ज़्यादा सब्सिडी पर राज्यों को मिलने वाले अनाज का उस योजना के लिए इस्तेमाल करे। 

यानी एक तरह से कह सकते हैं कि केंद्र सरकार की आपत्ति इस बात को लेकर है कि केंद्र सरकार के पैसे के अनाज का इस्तेमाल राज्य सरकार अपनी योजना में क्यों करे। अरविंद केजरीवाल ने भी कुछ ऐसी ही बातें कही हैं। उन्होंने दावा किया कि उनको कुछ अधिकारियों ने कहा है कि केंद्र सरकार के राशन का इस्तेमाल राज्य की योजना में कैसे हो सकता है। हालाँकि केजरीवाल यहाँ तर्क रखते हैं कि कोरोना जैसे संकट में आपस में लड़ना नहीं चाहिए और मिलकर साथ काम करना चाहिए। 

अरविंद केजरीवाल ने यह भी दावा किया है कि उन्होंने डोर स्टेप डिलीवरी के लिए कम से कम पाँच बार केंद्र सरकार को लिखा है। लेकिन उन्हें इस पर सहमति नहीं मिल पाई।

इसके जवाब में बीजेपी के प्रवक्त संबित पात्रा ने 'एएनआई' से कहा, 'केजरीवाल जी ने आज बात रखी है कि मोदी जी दिल्ली की गरीब जनता को उनके अधिकार से वंचित रख रहे हैं और घर-घर राशन रोकने की कोशिश कर रहे हैं जबकि ऐसा नहीं है। मोदी जी नेशनल फूड सेक्यूरिटी एक्ट और पीएम गरीब कल्याण योजना द्वारा दिल्ली के ज़रूरतमंदों को राशन पहुँचा रहे हैं।'

arvind kejriwal asks if pizza burger can be delivered home, why not ration - Satya Hindi

दोनों पक्षों की दलीलें ऐसी हैं कि यह पूरा मामला राजनीतिक लड़ाई का हो गया लगता है। दिल्ली सरकार की इस राशन योजना के नाम को लेकर काफ़ी पहले से केंद्र और दिल्ली सरकारों के बीच विवाद है। मार्च महीने में दिल्ली सरकार की इस योजना के नाम और राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा क़ानून के तहत मिलने वाले अनाज को लेकर केंद्र ने आपत्ति की थी। तब केजरीवाल सरकार ने इस योजना का नाम 'मुख्यमंत्री घर घर राशन योजना' रखा था। लेकिन केंद्र की इस आपत्ति के बाद केजरीवाल सरकार ने इसका नाम बदल कर डोर स्टेप राशन डिलीवरी कर दिया। इसके बाद दिल्ली सरकार ने दावा किया कि केंद्र सरकार द्वारा उठाई गई सभी चिंताओं का समाधान कर दिया गया है। 

दिल्ली से और ख़बरें

लेकिन इस पर केंद्र की तरफ़ से शनिवार को प्रतिक्रिया तब आई जब केजरीवाल ने केंद्र पर योजना को रोकने का आरोप लगाया। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण मंत्रालय के प्रवक्ता ने शनिवार को कहा, 'भारत सरकार ने दिल्ली सरकार से उस तरह से राशन नहीं बांटने के लिए कहा है जिस तरह से वे चाहते हैं। वे किसी अन्य योजना के तहत ऐसा कर सकते हैं। केंद्र अपने अधिसूचित दरों के तहत इसके लिए अतिरिक्त राशन उपलब्ध कराएगा। मुद्दा कहाँ है? एनएफ़एसए (राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा क़ानून) के तहत मौजूदा अखिल भारतीय योजना को बाधित करने पर जोर क्यों?'

इस पूरे विवाद के बीच ही अब अरविंद केजरीवाल कह रहे हैं कि कोरोना के समय में राशन की दुकानों पर भीड़ लगाने से बेहतर है कि राशन की डोर स्टेप डिलीवरी की जाए। इसके लिए वह तर्क रख रहे हैं कि पिज्जा-बर्गर की डिलीवरी हो सकती है तो राशन की क्यों नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें