loader

एलजी को केजरीवाल की चिट्ठी, कहा, राशन स्कीम को आपकी मंजूरी की ज़रूरत नहीं

द्वार तक राशन स्कीम पर दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और लेफ़्टीनेंट गवर्नर अनिल बैजल एक बार फिर आमने-सामने हैं और एक बार फिर टकराव बढ़ने के आसार हैं। मुख्यमंत्री ने एक चिट्ठी लिख कर एलजी से कहा है कि चुनी हुई सरकार को इस स्कीम में 'आपकी मंजूरी की ज़रूरत नहीं है' और यह मामला अंतिम परिणाम तक पहुँच चुका है।

इतना ही नहीं, मुख्यमंत्री ने एक फ़ाइल पर नोट लिखा कि लेफ़्टीनेंट गवर्नरल को यह तय करना है कि क्या वे चुनी हुई सरकार की इस स्कीम के नाम से 'मुख्यमंत्री' शब्द हटा देना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा है कि इस स्कीम की अधिसूचना 20 फरवरी को ही जारी कर दी गई और इस पर एलजी के पुनर्विचार की कोई ज़रूरत नहीं है।

ख़ास ख़बरें

अरविंद केजरीवाल ने यह भी कहा कि इस स्कीम की अधिसूचना जारी होने के बाद भी लेफ़्टीनेंट गवर्नर ने कोई विरोध नहीं जताया था। उन्होंने कहा, 'सुप्रीम कोर्ट के 4.7.2018 के आदेश के मुताबिक़, माननीय लेफ्टीनेंट गवर्नर के पास इस योजना पर अपनी अलग राय जाहिर करने का एक और मौका था, पर उन्होंने कुछ नहीं कहा। यह पूरी योजना अपने अंजाम तक पहुँच चुकी है और अब उनके विचार के लिए नहीं है।' 

दिल्ली सरकार का आरोप

बता दें कि इसके पहले दिल्ली सरकार ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार ने घर-घर राशन पहुँचाने की योजना पर रोक लगा दी है। 

अरविंद केजरीवाल सरकार ने एक बयान में कहा था, 'दिल्ली सरकार एक-दो दिन में ही दरवाजे-दरवाजे राशन पहुँचाने की योजना शुरू करने वाली थी, जिससे राजधानी के 72 लाख गरीबों को फ़ायदा होता।' इसने यह भी कहा है कि केंद्र के कहने पर राज्य सरकार ने स्कीम से मुखयमंत्री शब्द भी हटा दिया था। 

दिल्ली सरकार सूत्रों के मुताबिक, केंद्र सरकार ने कहा था कि इस योजना के लिए केंद्र सरकार की मंजूरी नहीं गई, इसलिए इसपर रोक लगाई गई है।

arvind kejriwal : ration at door scheme needs no L-G approval2 - Satya Hindi

नाम में क्या रखा है?

बता दें कि राशन योजना के नाम को लेकर पहले भी केंद्र और दिल्ली सरकारों के बीच तनातनी हो चुकी है। केंद्र सरकार ने इस बात पर आपत्ति जताई थी कि यह योजना केंद्र की योजना नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के तहत आती है, जिसमें कोई भी बदलाव केवल संसद कर सकती है न कि राज्य।

इसलिए दिल्ली सरकार इस योजना का न तो नाम बदल सकती है और न ही इसको किसी और के साथ जोड़ कर सकती है।

याद दिला दें कि इसके पहले सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि कोरोना की दूसरी लहर में दिल्ली, यूपी और हरियाणा में फँसे प्रवासियों को परिवहन को परिवहन व्यवस्था देने के लिए उठाए गए कदमों की जानकारी दे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें