loader

आबकारी नीति- दिनेश अरोड़ा, विजय नायर देश छोड़कर क्यों भागे: बीजेपी 

आबकारी नीति को लेकर उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के घर पर सीबीआई की छापेमारी के बाद दिल्ली में बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच संग्राम जारी है। दिल्ली में बीजेपी के सांसद परवेश साहिब सिंह वर्मा ने कहा है कि जब से नई आबकारी नीति के खिलाफ सीबीआई की जांच शुरू हुई है तब से दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार है और उसने इंस्टाग्राम पर मनीष सिसोदिया के साथ जो फोटो लगाई थी वह भी डिलीट कर दी है। उन्होंने कहा कि दिनेश अरोड़ा के अलावा विजय नायर नाम का एक शख्स भी देश छोड़कर भाग चुका है। 

उन्होंने कहा कि विजय नायर और दिनेश अरोड़ा अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के लिए कैश कलेक्शन का काम करते थे। उन्होंने कहा कि नई आबकारी नीति के निर्देशक केजरीवाल हैं, विलेन सिसोदिया हैं और इस कहानी में शराब माफिया का भी किरदार है। 

ताज़ा ख़बरें

उधर, दक्षिणी दिल्ली से बीजेपी के सांसद और वरिष्ठ नेता रमेश बिधूड़ी ने कहा है कि न्यूयार्क टाइम्स और खलीज टाइम्स में कोई खबर नहीं छपी है बल्कि वह आर्टिकल है। बिधूड़ी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल देश को यह कहकर गुमराह न करें कि किसी अखबार में खबर छपी है।

बिधूड़ी ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में कहा कि इस आर्टिकल को लिखने वाला शख्स खालिस्तान समर्थक है और खालिस्तान समर्थक तत्व आम आदमी पार्टी को फंडिंग करते हैं।

CBI raids Delhi Deputy Chief Minister Manish Sisodia home - Satya Hindi

बिधूड़ी ने कहा कि पैसे देकर किसी अखबार में आर्टिकल छपवा कर केजरीवाल सरकार इसे देश में बेचना चाहती है। उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार न्यूयॉर्क टाइम्स का नाम लेकर लोगों को बेवकूफ बनाना चाहती है।

बीजेपी सांसद ने कहा कि न्यूयार्क टाइम्स और खलीज टाइम्स में छपी खबर बिल्कुल एक जैसी है।

बीजेपी सांसद ने कहा कि अरविंद केजरीवाल को अपनी सरकार की आबकारी नीति पर बोलना चाहिए। उन्होंने कहा कि अगर सरकार की आबकारी नीति इतनी अच्छी थी तो उसे इसे वापस क्यों लेना पड़ा। उन्होंने कहा कि कोरोना के नाम पर शराब माफियाओं का लगभग डेढ़ सौ करोड रुपए छोड़ दिया गया। उन्होंने पूछा कि उन शराब माफियाओं से अरविंद केजरीवाल की क्या रिश्तेदारी थी।

इस बारे में दिल्ली बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष और सांसद मनोज तिवारी ने भी ट्वीट किया है। उन्होंने कहा है कि दोनों अखबारों में आर्टिकल लिखने वाला एक ही आदमी है और शब्द भी एक ही हैं। तिवारी ने कहा कि आम आदमी पार्टी दिल्ली की जनता का पैसा बर्बाद कर रही है।  

न्यूयॉर्क टाइम्स का बयान

इस बारे में न्यूयॉर्क टाइम्स ने एक बयान जारी कर कहा, दिल्ली की शिक्षा प्रणाली में सुधार के प्रयासों के बारे में हमारी रिपोर्ट निष्पक्ष, ऑन-द-ग्राउंड रिपोर्टिंग पर आधारित है। शिक्षा एक ऐसा मुद्दा है जिसे द न्यूयॉर्क टाइम्स ने कई वर्षों से कवर किया है। अखबार के प्रवक्ता निकोल टाइलर ने एनडीटीवी से कहा कि द न्यूयॉर्क टाइम्स की पत्रकारिता हमेशा से आजाद है और यह किसी भी तरह के राजनीतिक या विज्ञापनदाता के प्रभाव से भी मुक्त है। 

सीबीआई को 'ऊपर' से है आदेश: केजरीवाल 

जबकि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा है कि सीबीआई को ऊपर से आदेश है कि दिल्ली सरकार के मंत्रियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा है कि न्यूयॉर्क टाइम्स में दिल्ली के शिक्षा मॉडल की तारीफ की गई और मनीष सिसोदिया की तस्वीर छपी है। उन्होंने कहा कि सिसोदिया सर्वश्रेष्ठ शिक्षा मंत्री हैं।

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने प्रेस कॉन्फ्रेन्स कर कहा है कि अगर शराब मुद्दा है तो गुजरात में जांच क्यों नहीं हुई? 

दिल्ली से और खबरें
संजय सिंह ने कहा कि दिल्ली का 'शिक्षा और स्वास्थ्य मॉडल' पूरी दुनिया में लोकप्रिय हो रहा है जिसे केंद्र सरकार हर हाल में रोकना चाहती है। अगर देश में ऐसी छोटी सोच के प्रधानमंत्री हैं जो 'शिक्षा और स्वास्थ्य' पर काम ना करने दें तो वो देश को क्या आगे लेकर जाएंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें