loader

लॉकडाउन: क्या दिल्ली में अब 'ऑड-ईवन' के आधार पर बाज़ार और मॉल खुलेंगे?

प्रदूषण नियंत्रित करने के जिस 'ऑड-ईवन' फ़ॉर्मूले की वकालत केजरीवाल करते रहे हैं अब उसी 'ऑड-ईवन' के आधार पर वह बाज़ार और मॉल खोलने की तैयारी में हैं। एक रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार से अनुमति माँगी है कि 17 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बीच ही दिल्ली में बाज़ार, शॉपिंग कॉम्पलेक्स और बस व मेट्रो को चलाने की इजाजत दी जाए। हालाँकि कहा जा रहा है कि ये गतिविधियाँ कंटेनमेंट ज़ोन से बाहर के ज़िलों में चलाने की ही अनुमति माँगी गई है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली सरकार की यह माँग ऐसे समय में आई है जब दिल्ली देश के चार सबसे ज़्यादा कोरोना वायरस प्रभावित राज्यों में से एक है। दिल्ली में अब तक कोरोना वायरस के 8470 पॉजिटिव मामले आ चुके हैं और 115 लोगों की मौत हो गई है। अभी भी लगातार मामले आ रहे हैं। ऐसी ही स्थिति देश भर में है। आज ही 24 घंटे में देश भर में क़रीब 4000 नये पॉजिटिव मामले आए हैं। देश भर में क़रीब 82 हज़ार पॉजिटिव केस आ चुके हैं और 2600 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इसके बावजूद देश भर में लॉकडाउन में ढील दी जा रही है। इसी बीच कहा जा रहा है कि अरविंद केजरीवाल द्वारा यह ताज़ा माँग रखी गई है।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने प्रधानमंत्री के साथ वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग में भी इस बात पर ज़ोर दिया था कि कंटेनमेंट ज़ोन के अलावा दूसरे ज़ोन में आर्थिक गतिविधियों को बहाल किया जाए। इसके बाद उन्होंने दिल्ली वासियों से इस संबंध में सुझाव भी माँगे थे। फिर उन्होंने कहा था कि लोगों ने उन्हें सुझाव भेजा है कि 17 मई के बाद भी स्कूल, कॉलेज, स्पा, सलून, सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पुल को नहीं खोला जाए लेकिन मेट्रो की सीमित सेवाएँ शुरू की जानी चाहिए। इसके साथ ही लोगों ने सुझाव दिया कि 17 मई के बाद ढील देने पर मास्क नहीं पहनने वालों और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वालों के ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाए। केजरीवाल ने यह भी कहा कि मार्केट एसोसिएशनों से भी सुझाव मिले और उन्होंने ऑड-ईवन के आधार पर बाज़ार खोलने की पैरवी की। कुछ लोगों ने मॉल में एक तिहाई शॉप को खोलने का सुझाव दिया है।

दिल्ली से और ख़बरें

अब 'हिंदुस्तान टाइम्स' की रिपोर्ट में कहा गया है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लेफ़्टिनेंट गवर्नर अनिल बैजल के साथ बैठक में बाज़ार और मॉल खोलने को लेकर केंद्र सरकार को प्रस्ताव भेजा है। पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके लिए 'ऑड-ईवन' फ़ॉर्मूले का ज़िक्र किया गया है। हालाँकि अभी यह तय नहीं है कि बाज़ार और मॉल की दुकानों के लिए 'ऑड-ईवन' कैसे अपनाया जाएगा, क्योंकि कारों पर लागू करने के लिए कारों के ऑड और ईवन नंबरों के आधार पर यह फ़ॉर्मूला लागू किया गया था।

इसके साथ ही दिल्ली के अंदर निर्माण कार्य शुरू करने की भी माँग की गई है। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए टैक्सी में सिर्फ़ दो लोगों को जाने और बसों में सिर्फ़ 20 लोगों के यात्रा करने की पैरवी की गई है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें