loader

कोरोना वैक्सीन से 51 पर दुष्प्रभाव, '1 गंभीर': दिल्ली सरकार

कोरोना टीकाकरण का जो अभियान शनिवार को शुरू हुआ है उसमें दुष्प्रभाव के कम से कम 52 मामले सामने आए हैं। इसमें से अधिकतर सामान्य दुष्प्रभाव हैं जबकि एक मामले में एक व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने रविवार को ख़ुद इसकी जानकारी दी है। उन्होंने कहा है कि एक मामला गंभीर था जिसमें मरीज़ को एम्स में भर्ती कराया गया है। 

बता दें कि भारत में शनिवार को शुरू हुए कोरोना टीकाकरण अभियान के पहले दिन 1 लाख 91 हज़ार लोगों को टीका लगाया गया। अभियान की शुरुआत दिल्ली एम्स में सैनिटेशन वर्कर मनीष कुमार को पहला टीका लगाकर की गई। एम्स, दिल्ली के निदेशक रणदीप गुलेरिया को भी कोरोना वैक्सीन लगाई गई। प्रधानमंत्री मोदी ने इस टीकाकरण की शुरुआत की है। पहले दिन के इसी टीके के बाद ख़बरें आती रहीं कि वैक्सीन के दुष्परिणाम सामने आ रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

इसी बीच सत्येंद्र जैन की आज सफ़ाई आई है। उन्होंने एएनआई से कहा, 'कल 51 छोटी घटनाएँ आई हैं, जहाँ कुछ मामूली जटिलताएँ थीं और एक थोड़ी गंभीर थी। गंभीर वाले मामले में एम्स में भर्ती कराया गया था। कल रात तक उन्हें वहाँ भर्ती रखा गया था।' उन्होंने कहा कि भर्ती किये गये मरीज 22 वर्ष के हैं और वह अस्पताल में भी सिक्योरिटी गार्ड के तौर पर काम करते हैं। उन्हें आईसीयू में भर्ती किया गया था और अब हालत स्थिर बनी हुई है।

बता दें कि दिल्ली में क़रीब 4000 स्वास्थ्य कर्मियों को टीका लगाया गया है। दिल्ली सरकार के तहत आने वाले अस्पतालों में ऑक्सफ़ोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका द्वारा विकसित और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा तैयार कोविशील्ड वैक्सीन लगाई गई है। केंद्र सरकार के तहत आने वाले छह अस्पतालों में भारत बायोटेक की कोवैक्सीन का टीका लगाया गया है। कोवैक्सीन का टीके का ट्रायल अभी तीसरे चरण में है।

भारत में कोरोना की दो वैक्सीन के इस्तेमाल की मंजूरी दी गई है। इनमें से एक को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और ऐस्ट्राज़ेनेका ने तैयार किया है जबकि दूसरी को भारत बायोटेक ने।

भारत बायोटेक की कोवैक्सीन पर हाल में विवाद हुआ था। कथित तौर पर उस वैक्सीन के तीसरे चरण के आँकड़ों के बिना ही उसको मंजूरी दिए जाने पर सवाल उठे। सवाल इसलिए उठे क्योंकि कोवैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में शामिल रहे विशेषज्ञों के पास ही कोई डेटा नहीं थे। ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया यानी डीसीजीआई ने तीन जनवरी को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया की कोविशील्ड के साथ ही भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को 'सीमित इस्तेमाल' की मंजूरी दी है।

delhi health minister says 51 adverse events reported and 1 bit serious on corona vaccines - Satya Hindi

प्रधानमंत्री मोदी ने भारत बायोटेक की वैक्सीन को लेकर हुए विवाद के संबंध में कहा कि ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ने पूरी तरह संतुष्ट होने के बाद ही दोनों वैक्सीन को स्वीकृति दी है इसलिए लोग अफ़वाहों से दूर रहें। 

प्रधानमंत्री ने स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और वैज्ञानिकों की तारीफ़ की और वैक्सीन को लेकर अफ़वाह फैलाने वालों को चेताया।

बता दें कि रिपोर्टों में वैक्सीन को लेकर आशंकाओं की भी ख़बरें हैं। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार जिनको पहली वैक्सीन लगाई गई उन्होंने भी इसकी पुष्टि की। रिपोर्ट के अनुसार एम्स में पहला टीका लगवाने वाले मनीष कुमार ने कहा, 'उनमें (कर्मचारियों में) से कई डरे हुए थे। इसलिए, मैं अपने सीनियर्स के पास गया और मैंने कहा कि मुझे पहले वैक्सीन दी जाए। मैं अपने सहयोगियों को साबित करना चाहता था कि डरने की कोई ज़रूरत नहीं है। मेरी पत्नी ने मुझसे कहा भी कि वैक्सीन नहीं लगवाओ। मैंने उसे बताया कि यह सिर्फ़ एक इंजेक्शन है। खुराक लेने के बाद मैंने अपनी माँ से कहा कि वह मेरी पत्नी को बताए कि मैं सुरक्षित हूँ।'

delhi health minister says 51 adverse events reported and 1 bit serious on corona vaccines - Satya Hindi

'कोवैक्सीन की जगह कोविशील्ड लगवाएँगे'

राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टरों ने माँग की कि उनको कोवैक्सीन नहीं, बल्कि कोविशील्ड वैक्सीन लगाई जाए क्योंकि कोविशील्ड ने प्रोटोकॉल के तहत ट्रायल के तीनों चरण पूरे कर लिए हैं। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल अभी भी जारी है। हालाँकि, केंद्र सरकार ने इन आशंकाओं को दरकिनार कर दिया है। लेकिन राम मनोहर लोहिया अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने मेडिकल सुपरिंटेंडेंट को पत्र लिखा है। अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के उपाध्यक्ष डॉ. निर्मलय महापात्रा ने कहा कि बहुत से डॉक्टरों ने शनिवार को शुरू किए गए देशव्यापी अभियान के लिए अपने नाम नहीं दिए हैं।

भारत का टीकाकरण अभियान दुनिया में ऐसा सबसे बड़ा अभियान बताया जा रहा है। अगले कुछ महीनों में ही 30 करोड़ भारतीयों को टीका लगाए जाने का लक्ष्य रखा गया है। इसकी शुरुआत स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स से हो गई है और सबसे पहले ऐसे 3 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जाएँगी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें