loader

दिल्ली के निजी अस्पताल ख़ुद करें कोरोना जाँच, रोगियों को भर्ती करें, हाई कोर्ट का आदेश

दिल्ली का कोई भी निजी अस्पताल अब किसी रोगी को यह नहीं कह सकता कि वह किसी और अस्पताल जाकर पहले कोरोना जाँच करवाए और उसकी रिपोर्ट आने और उसमें निगेटिव पाए जाने के बाद ही उसे भर्ती किया जाएगा।
दिल्ली से और खबरें

अदालत का आदेश

दिल्ली हाई कोर्ट ने एक बेहद अहम फ़ैसले में आदेश दिया है कि सभी निजी अस्पताल, जिन्हें 20 प्रतिशत बिस्तर कोरोना रोगियों के लिए सुरक्षित रखने को कहा गया है, और जिनके पास कोरोना जाँच की सुविधआएं हैं, वे भर्ती के लिए आए सभी रोगियों की कोरोना जाँच खुद करें और उसके बाद उस हिसाब से उनका इलाज करें। 
जस्टिस हिमा कोहली और जस्टिस सुब्रमणियम प्रसाद के खंडपीठ ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करने के बाद यह फैसला दिया है। बेंच ने कहा, 'हमें यह सूचना मिली है कि जो लोग कोरोना के अलावा दूसरे रोगों के इलाज के लिए अस्पताल जाते हैं, उन्हें भर्ती नहीं किया जाता है और तब तक उन पर ध्यान नहीं दिया जाता है जब तक वे कोविड-19 की जाँच न करा लें और उसमें निगेटिव न पाए जाएं, और उसके लिए उन्हें दूसरे अस्पताल जाना होता है।' 
बेंच ने कहा, 'यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिन अस्पतालों में कोरोना जाँच की सुविधाएँ हैं, वहाँ गये रोगियों को भी बाहर के किसी अस्पताल से जाँच करवा कर रिपोर्ट लानी होती है और उन्हें तब तक इंतजार करते रहना होता है।'
जजों ने फ़ैसले में यह भी कहा है कि 'ऐसा लगता है कि दिल्ली जल्द ही देश की कोरोना राजधानी बनने जा रही है। ऐसे में यह ज़रूरी है कि वे सभी निजी अस्पताल जहां कोरोना जाँच की सुविधा है, उन्हें  बग़ैर समय गंवाए यह जाँच शुरू कर देनी चाहिए। यह इसलिए भी अहम है कि दिल्ली सरकार ने सभी निजी अस्पतालों से कह दिया है कि वे अपने 20 प्रतिशत बिस्तर कोरोना रोगियों के लिए सुरक्षित रखें।' 
दिल्ली हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर करने वाले राकेश मलहोत्रा ने अदालत से कहा कि जो लोग कोरोना के अलावा दूसरे रोग के लिए भी इलाज कराने निजी अस्पताल जाते हैं, उन्हें भी यह कह कर भर्ती नहीं लिया जाता है कि वे पहले कोरोना की जाँच किसी और जगह से कराएं, वहां निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद ही उन्हें भर्ती किया जाएगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें