loader

केंद्र बताए, बूस्टर डोज़ क्यों नहीं उपलब्ध कराई जा रही है: हाई कोर्ट

दिल्ली हाई कोर्ट ने गुरुवार को केंद्र सरकार से पूछा है कि भारत में लोगों को बूस्टर डोज़ उपलब्ध क्यों नहीं कराई जा रही है जबकि दुनिया के दीगर मुल्क़ों में इसे बढ़ावा दिया जा रहा है। अदालत ने कहा कि केंद्र सरकार बूस्टर डोज़ को लेकर प्रस्तावित रोलआउट उसके सामने रखे। अदालत ने सरकार को निर्देश दिया कि वह इस बारे में उसे अपना स्टैंड बताए।

जस्टिस विपिन संघी और जस्टिस जसमीत सिंह की बेंच ने इस बात पर गौर किया कि बूस्टर डोज को लेकर मीडिया में अलग-अलग रिपोर्ट्स आ रही हैं और इसे लेकर मेडिकल ओपिनियन भी अलग-अलग हैं। 

ताज़ा ख़बरें

अदालत ने केंद्र सरकार से कहा कि इस बारे में कोई भी फ़ैसला पैसों को देखते हुए नहीं होना चाहिए। हाई कोर्ट ने कहा कि ये महंगी ज़रूर है और सरकार इसे मुफ़्त में दे रही है लेकिन इसे न लगाने पर हम टीकाकरण से मिलने वाले फ़ायदे को खो देंगे। अदालत ने यह बात दिल्ली में कोरोना को लेकर बने हालात के संबंध में दायर एक याचिका पर सुनवाई करते हुए कही। 

अदालत ने कहा, “देश में कई लोग विशेषकर बुजुर्ग जानना चाहते हैं कि कि कोरोना की दोनों डोज़ लगाने के बाद क्या बूस्टर डोज़ को लगाना भी ज़रूरी होगा और इसकी इजाजत कब दी जाएगी।”  

सुनवाई के दौरान जस्टिस संघी ने डॉक्टर्स के एक वर्ग की चिंता की ओर ध्यान दिलाया। इस वर्ग की चिंता है कि अगर बूस्टर डोज़ नहीं लगाई जाती है तो हालात फिर से ख़राब हो सकते हैं। उन्होंने एक डॉक्टर के शब्दों को दोहराते हुए कहा, “अगर आप अभी बूस्टर डोज़ नहीं देते हैं तो जो किया है, सब पर पानी फिर जाएगा।” 

दिल्ली से और ख़बरें

उन्होंने कहा कि पश्चिमी देश बूस्टर डोज़ को बढ़ावा दे रहे हैं और इसे हासिल कर रहे हैं लेकिन हम उन लोगों को जो इसे लगवाना चाहते हैं, उन्हें तक इसकी इजाजत नहीं दे रहे हैं। 

एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने भी कहा है कि मौजूदा सूरत-ए-हाल में बूस्टर डोज की ज़रूरत नहीं है। बल्कि ज़रूरत इस बात की है कि वैक्सीन ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को लगाई जाए। गुलेरिया ने यह भी कहा है कि हर गुजरते दिन के साथ भारी-भरकम तीसरी लहर आने की संभावना भी कम होती जा रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें