loader

दिल्ली का डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव, संपर्क में आए 900 लोगों का क्वरेंटाइन हुआ

उत्तर पूर्वी दिल्ली में मोहल्ला क्लिनिक के एक डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। इसके साथ ही उनकी पत्नी और उनकी बेटी में भी इस वायरस की पुष्टि हुई है। हाल के दिनों में उस डॉक्टर से इलाज कराने आए सभी लोगों को क्वरेंटाइन में भेजा गया है। दिल्ली सरकार का कहना है कि क़रीब 900 लोगों को क्वरेंटाइन किया गया है। मौजपुर के उस क्लिनिक में 12 मार्च से लेकर 18 मार्च तक इलाज कराने आए लोगों से कहा गया है कि वे क्वरेंटाइन में चले जाएँ और कोरोना वायरस का कोई भी लक्षण दिखने पर तुरंत किसी डॉक्टर से संपर्क करें। यह एक बड़ा ख़तरा है। ख़तरा इसलिए कि जितने भी लोग अपनी बीमारी के इलाज के लिए उनके संपर्क में आए होंगे उनमें इसके फैलने की ज़्यादा आशंका रहेगी। इसीलिए सख़्ती से ऐसे लोगों की पहचान कर उनको क्वरेंटाइन में भेजा जाना ज़रूरी है।

हालाँकि अभी यह साफ़ नहीं हुआ है कि वह डॉक्टर हाल के दिनों में विदेश यात्रा पर गये थे या नहीं और किसी पहचान वाले कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आए या नहीं। 

ताज़ा ख़बरें

हाल में दिल्ली में पॉजिटिव मामले बढ़े हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बुधवार को ही कहा था कि 24 घंटे में पाँच नये मामले आए और कुल संख्या बढ़कर 35 हो गई। इसको तेज़ी से फैलने से रोकने के लिए पूरी तरह लॉकडाउन किया गया है। इसके साथ ही कई और सख़्त क़दम उठाए गए हैं। हालाँकि इस सख़्ती के बीच केजरीवाल ने कहा है कि किसी को भी राशन की कमी नहीं होने दी जाएगी। उन्होंने आने-जाने में दिक्कत होने के कारण सब्जी बेचने वालों और राशन दुकान वाले लोगों को पास जारी करने की बात कही है। इसके लिए हेल्पलाइन नंबर 1031 भी जारी किया गया है।

दिल्ली से और ख़बरें

कारोना का कहर सिर्फ़ दिल्ली में ही नहीं है, बल्कि पूरे देश में ही ऐसी स्थिति है। देश में कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या बढ़कर अब 606 हो गई है। मृतकों की संख्या 10 है। पॉजिटिव मामले अब तेज़ी से बढ़ने लगे हैं और इसी बीच पूरे देश भर में लॉकडाउन किया गया है। 

दुनिया भर में कोरोना का वायरस तेज़ी से फैल रहा है और अब तक 4 लाख 68 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आ चुके हैं। 21 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। 

Satya Hindi Logo जब मुख्यधारा का मीडिया देख कर न देखे, सुन कर न सुने, गोद में हो, लोभ में हो या किसी डर में, तब सत्य की लड़ाई के लिए क्या आप साथ आएँगे? स्वतंत्र पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने के लिए हमें केवल भारतीय नागरिकों से आर्थिक सहयोग की ज़रुरत है।
सहयोग राशि के लिए नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें