loader

रोहिणी कोर्ट में धमाके के मामले में DRDO का वैज्ञानिक गिरफ़्तार

9 दिसंबर को रोहिणी की ज़िला अदालत में एक कम तीव्रता वाला विस्फोट हुआ था। विस्फोट कोर्ट रूम नंबर 102 के अंदर हुआ था और इसमें एक कांस्टेबल घायल हो गया था। हालांकि पुलिस अफ़सरों ने कहा था कि यह विस्फोट निम्न स्तर का था लेकिन फिर भी इस मामले की गहन तरीक़े से जांच की गई। 

अब पुलिस ने पता लगा लिया है कि यह घटना क्यों हुई। इस घटना को डिफ़ेंस रिसर्च डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन के एक वैज्ञानिक ने अंजाम दिया था। 

पुलिस का कहना है कि वैज्ञानिक ने यह विस्फोटक कोर्ट रूम के अंदर इसलिए फिट किया था क्योंकि वह अपने पड़ोसी की हत्या करना चाहता था। उसका पड़ोसी पेशे से वकील है। दोनों के बीच कई मामलों को लेकर पुराना विवाद होने की बात पुलिस ने कही है। 

ताज़ा ख़बरें

दिल्ली पुलिस के आयुक्त राकेश अस्थाना ने मीडिया को बताया कि इस मामले की जांच के लिए बनी स्पेशल टीम ने उस दिन रोहिणी कोर्ट के अंदर आई 1 हज़ार गाड़ियों की जांच की और 100 से ज़्यादा सीसीटीवी कैमरों की फ़ुटेज खंगाली। 

पुलिस ने बताया कि विस्फोटक को तैयार करने के लिए अमोनियम नाइट्रेट का इस्तेमाल किया गया था और यह आसानी से मिल जाता है। 

वैज्ञानिक का नाम भारत भूषण कटारिया है और उसके घर से विस्फोटक बनाने वाला पदार्थ जब्त कर लिया गया है। पुलिस ने बताया कि वैज्ञानिक वकील के भेष में अदालत के अंदर घुसा और धमाके के बाद फरार हो गया। 

दिल्ली से और ख़बरें

पुलिस को जांच में पता चला है कि कटारिया और उसके पड़ोसी अमित वशिष्ठ के बीच कोई पुराना विवाद चल रहा है और दोनों ने एक-दूसरे के ख़िलाफ़ कई मुक़दमे दर्ज करा रखे हैं। 

पुलिस इस बात की जांच कर रही है कि आख़िर कटारिया कैसे इस विस्फोटक को अदालत परिसर के अंदर ले गया। पुलिस को यह भी पता चला है कि उसने विस्फोटक में धमाका करने के लिए रिमोट और कुछ दूसरी चीजें एक ई-कॉमर्स वेबसाइट से खरीदी थीं। 

इस घटना से दो महीने पहले भी रोहिणी की जिला अदालत में फायरिंग की घटना हुई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें