loader

दिल्ली दंगा: पिछले साल जो किया, ज़रूरत पड़ी तो फिर करूंगा- कपिल मिश्रा

दिल्ली दंगों को एक साल का वक़्त पूरा हो रहा है। ऐसे मौक़े पर बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने विवादित बयान दिया है। बीते साल फ़रवरी में उत्तर-पूर्वी दिल्ली के सीलमपुर और जाफ़राबाद समेत कुछ और इलाक़ों में सांप्रदायिक दंगे भड़के थे, जिसमें 53 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग घायल हो गए थे। 

सोमवार को दिल्ली के कांस्टीट्यूशन क्लब में आयोजित एक कार्यक्रम में मिश्रा ने कहा, “पिछले साल 23 फ़रवरी को जो किया, ज़रूरत पड़ी तो दुबारा करूंगा।” 

दिल्ली विधानसभा चुनाव में हार का स्वाद चख चुके मिश्रा ने आगे कहा कि उन्हें अपने किए का कोई पछतावा नहीं है लेकिन पछतावा इस बात का है कि आईबी अफ़सर अंकित शर्मा और कांस्टेबल रतन लाल को नहीं बचा पाए। 

ताज़ा ख़बरें

कपिल मिश्रा पर आरोप है कि पिछले साल दिए गए उनके एक भाषण के बाद उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगे भड़के थे। कपिल मिश्रा ने जाफ़राबाद मेट्रो स्टेशन के नज़दीक मौजपुर में भाषण देते हुए कहा था, “हमारी तरफ से एक भी पत्थर नहीं चला है, डीसीसी साहब हमारे सामने खड़े हैं। ट्रंप के जाने तक हम शांत हैं लेकिन उसके बाद हम आपकी (पुलिस) भी नहीं सुनेंगे। ट्रंप के जाने तक आप जाफ़राबाद और चांदबाग रोड खाली खाली करा दीजिए वरना हमें रोड पर आना पड़ेगा।” उस दौरान इस इलाक़े में मुसलिम समुदाय के लोग नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में धरना दे रहे थे। 

Kapil Mishra accused in delhi riots 2020 - Satya Hindi

इस कार्यक्रम में “दिल्ली दंगा: द अनटोल्ड स्टोरी” नाम की किताब को लिखने वाले लोग भी मौजूद थे। किताब की सह लेखिका सुप्रीम कोर्ट की वकील मोनिका अरोड़ा, मिरांडा हाउस की असिस्टेंट प्रोफ़ेसर सोनाली चिटालकर व अन्य हैं। कपिल मिश्रा को इस किताब पर चर्चा के लिए बुलाया गया था। 

मिश्रा ने कहा, “हमने दंगों में पीड़ित हिंदुओं की अपने स्तर पर मदद की और तब हमसे सवाल पूछा जा रहा है कि हमने दूसरे समुदाय की मदद क्यों नहीं की। मैं कहता हूं कि वक्फ़ बोर्ड, पूरी दिल्ली सरकार, मीडिया, एनजीओ सब उनके साथ खड़े हैं।” 

दिल्ली से और ख़बरें

दिल्ली पुलिस पर उठे थे सवाल

दिल्ली दंगों की जांच को लेकर पूर्व आईपीएस अफ़सर जूलियो रिबेरो ने दिल्ली पुलिस पर कई सवाल खड़े किए थे। रिबेरो ने दिल्ली पुलिस के कमिश्नर एसएन श्रीवास्तव को ख़त लिखकर कहा था कि उन्होंने ‘बीजेपी के तीन बड़े नेताओं को लाइसेंस’ दिए जाने की बात का जवाब नहीं दिया है। रिबेरो ने पूछा था कि बीजेपी नेता कपिल मिश्रा, अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा से दिल्ली दंगों को लेकर पूछताछ क्यों नहीं की जा रही है।

मुंबई के पुलिस कमिश्नर रहे रिबेरो ने श्रीवास्तव को ख़त लिखकर कहा था कि दिल्ली पुलिस उन लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई कर रही है जो शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे थे जबकि हिंसा से पहले सांप्रदायिक और उकसाने वाला भाषण देने वाले बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं को नज़रअंदाज़ किया जा रहा है। उन्होंने लिखा था कि 'सच्चे देशभक्तों' को आपराधिक मामलों में घसीटा जा रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें