loader

कपिल मिश्रा ने जैन पर लगाया था झूठा आरोप, मांगी माफ़ी

आम आदमी पार्टी से बीजेपी में जाने वाले कपिल मिश्रा को दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर लगाए गए झूठे आरोपों के चलते माफ़ी मांगनी पड़ी है। मिश्रा ने साल 2017 में आरोप लगाया था कि सत्येंद्र जैन ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को उनके घर जाकर नक़द दो करोड़ रुपये दिए थे और उन्होंने ऐसा होते हुए देखा था। 

मिश्रा के मुताबिक़, उन्होंने केजरीवाल से पूछा था कि यह क्या मामला है लेकिन उन्होंने जवाब देने से मना कर दिया था और कहा कि राजनीति में कुछ बातें होती हैं, जो बाद में बताई जाएंगी। 

मिश्रा ने तब दावा किया था कि जैन को कुछ दिनों में जेल जाना पड़ेगा। मिश्रा ने यह भी दावा किया था कि जैन ने केजरीवाल के एक रिश्तेदार की 50 करोड़ की ज़मीन की डील में समझौता कराया था। 

ताज़ा ख़बरें

मिश्रा के इस आरोप के बाद उस समय जोरदार हंगामा हुआ था और नई किस्म की राजनीति की बात करने वाले केजरीवाल को खासी आलोचनाओं का सामना करना पड़ा था। हालांकि सत्येंद्र जैन, केजरीवाल और आम आदमी पार्टी ने मिश्रा के इन आरोपों को ग़लत बताया था। 

इसके बाद 2017 में जैन की ओर से मिश्रा के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कराया गया था। जैन ने कहा था कि मिश्रा के बेबुनियाद बयानों के कारण उनकी और केजरीवाल की छवि ख़राब हुई है। 

बुधवार को कपिल मिश्रा के माफी मांगने के बाद इस मामले का निपटारा हो गया। मिश्रा ने अदालत को दिए माफीनामे में कहा है कि उन्होंने जो बयान दिया था, वह राजनीति से प्रेरित था और ग़लत था। उन्होंने माफ़ीनामे में यह भी लिखा है कि वह शिकायतकर्ता यानी सत्येंद्र जैन से बिना शर्त माफ़ी मांगते हैं और आगे इस तरह की ग़लती नहीं करेंगे। 

दिल्ली से और ख़बरें

मिश्रा के माफ़ी मांगने के बाद सत्येंद्र जैन ने ट्वीट कर कहा, ‘कपिल मिश्रा की उस झूठी कहानी को कई टीवी चैनलों और अखबारों ने काफी चलाया था। इससे मुझे और मेरे परिवार को काफी दुख हुआ था। मेरा उनसे निवेदन है कि मिश्रा की इस माफी को भी अपने चैनल और अखबार में तरजीह ज़रूर दें।’

कपिल मिश्रा ने अपना राजनीतिक करियर आम आदमी पार्टी से शुरू किया था और वह दिल्ली सरकार में मंत्री भी बने थे। लेकिन 2017 से वह केजरीवाल की आलोचना करने लगे और फ़रवरी, 2020 के विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी में शामिल हो गए। 

मिश्रा को बीजेपी ने उत्तरी दिल्ली की मॉडल टाउन सीट से उम्मीदवार भी बनाया था लेकिन उन्हें करारी हार मिली थी। बीजेपी को भी विधानसभा चुनाव में मुंह की खानी पड़ी थी और उसे 70 सीटों में से सिर्फ़ 8 पर जीत नसीब हुई थी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें