loader

'बीजेपी का संदेश, आप तोड़कर हमारे साथ आओ, बंद होंगे केस'

आबकारी नीति को लेकर दिल्ली में बीजेपी और आम आदमी पार्टी के बीच घमासान बढ़ता जा रहा है। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने सोमवार सुबह ट्वीट कर कहा है कि उनके पास बीजेपी का संदेश आया है कि वह आम आदमी पार्टी तोड़कर उनके साथ आ जाएं तो उनके खिलाफ चल रहे सीबीआई और ईडी के सारे मुकदमे बंद हो जाएंगे। 

सिसोदिया ने ट्वीट में लिखा है कि उनका भाजपा के लिए यह जवाब है कि, “मैं महाराणा प्रताप का वंशज हूं, राजपूत हूं। सिर कटा लूंगा लेकिन भ्रष्टाचारियों-षड्यंत्रकारियों के सामने झुकूंगा नहीं। मेरे ख़िलाफ़ सारे केस झूठे हैं। जो करना है कर लो।”

सिसोदिया के ट्वीट के बाद केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने पत्रकारों से कहा कि मनीष सिसोदिया के पास शिक्षा विभाग के साथ ही शराब का विभाग भी है। उन्होंने सवाल उठाया कि अगर दिल्ली सरकार की आबकारी नीति इतनी बेहतर थी तो उसने इसे वापस क्यों लिया। उन्होंने कहा कि जांच में सब कुछ सामने आ जाएगा। अनुराग ठाकुर ने कहा कि आबकारी नीति के कथित घोटाले के मामले में अरविंद केजरीवाल किंगपिन हैं और मनीष सिसोदिया नंबर वन के अभियुक्त हैं।

ताज़ा ख़बरें

कुछ अहम सवाल 

लेकिन यहां पर कुछ सवालों का जवाब मनीष सिसोदिया को देना चाहिए। पहला सवाल यह कि उनसे बीजेपी के किस नेता ने संपर्क किया। उन्हें बीजेपी का संदेश कैसे मिला, उन्हें क्या कोई वॉट्स एप या टेक्स्ट मैसेज भेजा गया था। अगर उन्हें कोई संदेश बीजेपी की ओर से भेजा गया है तो वह इसे सार्वजनिक क्यों नहीं कर रहे हैं। वह बीजेपी के उस नेता का नाम क्यों नहीं बता रहे हैं, जिसने उन्हें संदेश भेजा है। 

क्या जेल जाएंगे मनीष सिसोदिया?

बीजेपी और कांग्रेस के द्वारा आबकारी नीते के मामले में केजरीवाल सरकार को घेरने के बाद जब सीबीआई की टीम उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर पहुंची थी तो सवाल यही खड़ा हुआ था कि क्या अब सिसोदिया के गिरफ्तार होने की बारी है। 

शनिवार को की गई प्रेस कॉन्फ्रेंस में सिसोदिया ने कहा था कि अगले दो-चार दिन में केंद्रीय जांच एजेंसियां उन्हें गिरफ्तार कर सकती हैं। अरविंद केजरीवाल इस बात को कह चुके हैं कि सत्येंद्र जैन के जेल जाने के बाद मनीष सिसोदिया को गिरफ्तार किया जाएगा।

‘कोई घोटाला नहीं हुआ’

मनीष सिसोदिया ने कहा था कि दिल्ली सरकार की जिस आबकारी नीति को लेकर विवाद हो रहा है, वह सबसे अच्छी आबकारी नीति थी और दिल्ली सरकार उस आबकारी नीति को पूरी ईमानदारी और पारदर्शिता से लागू कर रही थी। उन्होंने कहा कि अगर दिल्ली के तत्कालीन उप राज्यपाल ने 48 घंटे पहले उस आबकारी नीति को फेल करने की साजिश के तहत अपना फैसला नहीं बदला होता तो दिल्ली सरकार को इस आबकारी नीति से कम से कम 10000 करोड़ रुपये हर साल मिलते। उन्होंने कहा कि नई आबकारी नीति में किसी तरह का कोई घोटाला नहीं हुआ था।

Manish Sisodia Claims Message from BJP delhi liquor policy controversy - Satya Hindi

आबकारी नीति को लिया था वापस

यहां बताना होगा कि दिल्ली सरकार ने पिछले साल नवंबर में नई आबकारी नीति को लोगों के सामने रखा था लेकिन इस पर अच्छा खासा विवाद होने के बाद इसे इस साल 30 जुलाई को वापस ले लिया गया था। दिल्ली बीजेपी के नेताओं का कहना है कि नई आबकारी नीति के जरिए केजरीवाल सरकार ने शराब माफियाओं को फायदा पहुंचाया और शराब लाइसेंसधारियों का 144 करोड़ रुपए माफ कर दिया। 

अरोड़ा, नायर देश छोड़कर क्यों भागे: बीजेपी 

बीजेपी ने पूछा है कि जब से नई आबकारी नीति के खिलाफ सीबीआई की जांच शुरू हुई है तब से दिनेश अरोड़ा देश छोड़कर फरार है और उसने इंस्टाग्राम पर मनीष सिसोदिया के साथ जो फोटो लगाई थी वह भी डिलीट कर दी है। उन्होंने कहा कि विजय नायर भी देश छोड़कर भाग चुका है। 

बीजेपी ने कहा है कि विजय नायर और दिनेश अरोड़ा अरविंद केजरीवाल और मनीष सिसोदिया के लिए कैश कलेक्शन का काम करते थे।
अब यहां अहम बात यह है कि अगर दिनेश अरोड़ा और विजय नायर को केंद्रीय जांच एजेंसियों ने गिरफ्तार कर लिया और उनसे नई आबकारी नीति के मामले में पूछताछ की गई तो क्या सिसोदिया की गिरफ्तारी होना तय है। और अगर इस मामले में सिसोदिया की गिरफ्तारी हुई तो क्या इसकी आंच आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल तक भी पहुंच सकती है? 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें