loader

पत्नी अपूर्वा ने की थी रोहित शेखर की हत्या, अपराध कबूला

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण दत्त तिवारी के बेटे रोहित शेखर तिवारी की हत्या उनकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला ने की थी। अपूर्वा ने पूछताछ में अपना अपराध कबूल कर लिया है। इससे पहले अपूर्वा को दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्राँच ने गिरफ़्तार कर लिया था। 

दिल्ली पुलिस का कहना है कि अपूर्वा शादी से ख़ुश नहीं थी इसलिए उसने रोहित की गला दबाकर हत्या कर दी। हत्या के दौरान रोहित नशे में था। रोहित की माँ उज्जवला तिवारी ने भी कहा था कि शादी के बाद पहले दिन से ही अपूर्वा और रोहित में झगड़े होते थे और इससे उनका बेटा बेहद तनाव में था। बता दें कि 16 अप्रैल को रोहित अपने घर में मृत पाए गए थे। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में रोहित की हत्या की पुष्टि के बाद पुलिस ने अपूर्वा और घर के अन्य लोगों से पूछताछ की थी। 

ताज़ा ख़बरें

पुलिस को शुरुआती जाँच में ही अपूर्वा पर शक हो गया था और इसके बाद पुलिस लगातार उससे पूछताछ कर रही थी। अपूर्वा ने 15 अप्रैल की रात को रोहित के कमरे में जाने की बात स्वीकार की थी लेकिन इसे लेकर वह सही जवाब नहीं दे पा रही थी। यहीं से पुलिस का उस पर शक पुख्ता हुआ और पूछताछ में उसे अपना गुनाह कबूल करना पड़ा।

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई थी कि रोहित की गर्दन पर उंगलियों के निशान मिले हैं। यह भी बात सामने आई थी कि हत्या से पहले उन्हें नशीला पदार्थ पिलाया गया और बेहोश होने पर उनकी हत्या की गई। तभी से यह सवाल उठ रहा था कि आख़िर रोहित की हत्या क्यों की गई और किसने की? रोहित के पिता एन. डी. तिवारी यूपी और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री रहे थे। 

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के मुताबिक़, रोहित की मौत 15-16 अप्रैल की रात 1:30 बजे के आसपास हुई थी। जबकि उन्हें 16 अप्रैल को शाम क़रीब 5 बजे अस्पताल ले जाया गया। रोहित की मौत की ख़बर सामने आने के बाद से ही यह मामला संदिग्ध दिखाई दे रहा था। यह माना जा रहा था कि यह स्वाभाविक मौत नहीं है, रोहित की हत्या हुई है और पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से यह बात सही साबित हुई। 

बता दें कि रोहित ने ख़ुद को एन.डी.तिवारी का बेटा साबित करने के लिए लंबी क़ानूनी लड़ाई लड़ी थी। मृत्यु से कुछ साल पहले कोर्ट के आदेश पर तिवारी ने उन्हें अपना बेटा मान लिया था और उनकी माँ उज्जवला से शादी की थी। तिवारी अपने अंतिम समय में रोहित और उज्जवला के साथ ही रहे थे। रोहित राजनीति में करियर बनाना चाहते थे और 2017 के विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी में शामिल हुए थे। लेकिन बीजेपी ने उन्हें उम्मीदवार नहीं बनाया था। उसके बाद भी रोहित अपनी सियासी ज़मीन मजबूत करने के लिए लगातार उत्तराखंड के दौरे कर रहे थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें