loader

ताहिर हुसैन ने लोगों को हिंसा के लिए उकसाया: दिल्ली पुलिस

दिल्ली पुलिस ने कहा है कि आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन ने दिल्ली दंगों में अपनी भूमिका होने की बात स्वीकार की है। फरवरी में हुए दंगों की जांच कर रही दिल्ली पुलिस की पूछताछ रिपोर्ट में कहा गया है कि ताहिर ने इस बात को स्वीकार किया है कि उसने लोगों को हिंसा करने के लिए उकसाया। 

रिपोर्ट के मुताबिक़, हुसैन ने कहा कि वह 8 जनवरी को दिल्ली के शाहीन बाग़ में स्थित प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ़्रंट ऑफ़ इंडिया के दफ़्तर में जेएनयू के छात्र नेता उमर ख़ालिद से मिला था। 

दिल्ली पुलिस ने कहा है कि दंगों के दौरान हुसैन का काम ज़्यादा से ज़्यादा कांच की बोतलें, पेट्रोल, एसिड, पत्थरों को अपनी छत पर इकट्ठा करना था। पुलिस ने कहा कि हुसैन ने ऐसा किया जाना स्वीकार किया है। इसके अलावा दंगों में इस्तेमाल करने के लिए उसने अपनी पिस्टल भी पुलिस थाने से वापस ले ली थी।  

ताज़ा ख़बरें

रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ताहिर हुसैन के एक जानकार, ख़ालिद सैफी को लोगों को इकट्ठा करने का काम दिया गया था। पुलिस के मुताबिक़, हुसैन ने पूछताछ में कहा, ‘ख़ालिद सैफी ने अपने दोस्त इशरत जहां के साथ मिलकर शाहीन बाग़ की तर्ज पर खुरेजी में धरना शुरू किया। 4 फ़रवरी को मैं, दंगों की योजना बनाने के लिए अबू फ़ज़ल एनक्लेव में ख़ालिद सैफी से मिला। इसमें यह तय हुआ कि लोगों को नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ चल रहे धरनों में बैठने के लिए उकसाया जाएगा।’ 

दिल्ली पुलिस के मुताबिक़, ताहिर ने बताया, ‘ख़ालिद ने कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के भारत दौरे के दौरान कुछ बड़ा करना है जिससे सरकार घुटने टेक दे।’ 

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक़, हुसैन ने दिल्ली पुलिस को बताया, ‘24 फ़रवरी को हमारी योजना के मुताबिक़, मैंने कई लोगों को बुलाया और उन्हें बताया कि उन्हें किस तरह मेरी छत से पत्थर, पेट्रोल बम और एसिड की बोतलें फेंकनी हैं। हमने दिन में 1.30 बजे से पत्थर फेंकने शुरू कर दिए थे। मैंने अपने परिवार को दूसरी जगह भेज दिया था।’ 

कुछ दिनों पहले ताहिर हुसैन को दिल्ली की एक अदालत ने यह कहते हुए जमानत देने से इनकार कर दिया था कि उसने दंगाइयों को 'मानव हथियार' की तरह इस्तेमाल किया था। ताहिर की ओर से आईबी के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के मामले में जमानत के लिए याचिका लगाई गई थी। 

दिल्ली से और ख़बरें

‘दंगों का मास्टर माइंड’

जून महीने में दिल्ली पुलिस की ओर से दिल्ली दंगों को लेकर दायर चार्जशीट में ताहिर हुसैन को दंगों का मास्टर माइंड बताया गया था। पुलिस ने 1,030 पेज की चार्जशीट में कहा था कि हुसैन ने हिंसा भड़काई थी, दंगों की साजिश रची थी और दंगे कराने के लिए 1.30 करोड़ रुपये खर्च किए थे।  

दिल्ली पुलिस ने ताहिर हुसैन पर ग़ैरक़ानूनी गतिविधियां (रोकथाम) अधिनियम यानी यूएपीए भी लगा दिया था।

अंकित की हत्या का आरोप

अंकित शर्मा का शव नाले में मिलने के बाद उसके परिजनों का कहना था कि ताहिर हुसैन के घर से लोगों पर पत्थर और पेट्रोल बम फेंके गये और ताहिर के समर्थकों ने ही अंकित की हत्या की है। लेकिन ताहिर ने इन आरोपों को ग़लत बताया था। ताहिर ने कहा था कि वह पूरी तरह निर्दोष है और बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के भड़काऊ बयान के बाद दिल्ली में हालात ख़राब हुए थे। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें