loader

फ़र्ज़ी चीनी पत्रकार बन किसने लिखा- राहुल हैं तो चीन को चिंता की ज़रूरत नहीं

चीनी घुसपैठ के बाद सोशल मीडिया पर हाल के दिनों में फ़र्ज़ी या पैरोडी अकाउंट के पोस्ट को शेयर करने के कई मामले सामने आए हैं। ये या तो भारत का समर्थन करते हुए ट्वीट किए गए हैं या फिर देश में विपक्षी नेताओं को ट्रोल करने वाले हैं। चाहे वे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप या उनकी बेटी इवांका ट्रंप के नाम पर पैरोडी अकाउंट के मामले हों या फिर चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, इजराइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के। कई लोगों ने उनके ट्वीट को शेयर किया है। लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ को लेकर जब राहुल गाँधी ने सवाल पूछे तो चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स का पत्रकार होने का दावा करने वाले एक फ़र्ज़ी अकाउंट के जवाब को धड़ाधड़ रीट्वीट मिलने लगे। इस ट्वीट में राहुली की छवि को नुक़सान पहुँचाने वाला ट्वीट किया गया था।

दरअसल, यह पूरा मामला शुरू हुआ 17 जून को राहुल गाँधी के ट्वीट के बाद। कांग्रेस नेता ने लद्दाख में सीमा पर जो घट रहा था उसके बारे में देश को पूरी जानकारी नहीं उपलब्ध कराने का आरोप लगाया था। राहुल गाँधी ने ट्वीट किया, 'पीएम चुप क्यों हैं? वह क्यों छुप रहे हैं? अब बहुत हो गया है। हमें यह जानना होगा कि क्या हुआ है। चीन ने हमारे सैनिकों को मारने की हिम्मत कैसे की? हमारी ज़मीन कब्जा करने की उसकी हिम्मत कैसे हुई?'

लेकिन इसमें ट्विस्ट तब आया जब एक ट्विटर यूज़र ने ट्वीट किया और उस ट्वीट को धड़ाधड़ रीट्वीट मिलने लगे। यह ट्वीट था  Li Jie (@Lijeng) के नाम से। इसने अपने बायो में लिखा है कि वह ग्लोबल टाइम्स से जुड़ा हैं। इस यूज़र ने ट्वीट किया, 'धन्यवाद राहुल गाँधी आपके वास्तविक सवालों के लिए... जब तक आप वहाँ हैं तब तक हमें किसी भी चीज के बारे में चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।'

इस ट्वीट पर जब खलबली मची तो फ़ैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट 'ऑल्ट न्यूज़' ने इसकी पड़ताल की।  Li Jie के ट्विटर अकाउंट को देखने पर पता चलता है कि इसे जून 2020 में बनाया गया है। इस पर सभी ट्वीट 17 जून के ही हैं। 17 जून से पहले का कोई भी ट्वीट नहीं है।

fake twitter account to troll rahul gandhi image on china - Satya Hindi
 'ऑल्ट न्यूज़' ने लिखा है कि ज़्यादा शक इसलिए होता है क्योंकि ग्लोबल टाइम्स से जुड़ा पत्रकार क्या इतना नया अकाउंट बनाएगा। रिपोर्ट में कहा गया है कि ख़ुद को ग्लोबल टाइम्स से जुड़ा हुआ शख्स बताने वाले का चीनी मूल के फ़ॉलोअर नहीं हैं। सभी फ़ॉलोअर हिंदुस्तानी हैं। ग्लोबल टाइम्स का कोई भी पत्रकार उसे फ़ॉलो नहीं कर रहा है। बड़े मीडिया समूह में काम करने वाले के साथ ऐसा होना मुमकिन नहीं लगता। 

ऑल्ट न्यूज़ ने लिखा है कि Li Jie के ट्विटर अकाउंट के प्रोफ़ाइल पिक्चर में जो तसवीर है उसकी पड़ताल करने पर पता चला कि वह तसवीर हुआंग यीबो की है। हुआंग को उनकी प्रतिभा के लिए जाना जाता है। 

fake twitter account to troll rahul gandhi image on china - Satya Hindi
फ़ोटो साभार: ऑल्ट न्यूज़

ऑल्ट न्यूज़ ने लिखा है कि शायद कुछ घंटे पहले बनने वाले अकाउंट की पहुँच अचानक इतनी कैसे हुई? इसकी पड़ताल कर रिपोर्ट में कहा गया है कि ट्वीट करने के लगभग 6 मिनट में इसे 3 रिप्लाई आये थे। इसमें से एक रिप्लाई @vijaymishrakh के हैंडल से ट्वीट करने के महज 3 मिनट के अंदर रिप्लाई आ गया था। ऑल्ट न्यूज़ ने लिखा है, 'इन तीनों रिप्लाई में एक बात समान थी– राहुल गाँधी और @Lijeng_ के अलावा एक तीसरे हैंडल की मौजूदगी। ये उसी केस में होता है जब कोई ट्विटर यूज़र एक रीट्वीट को जवाब देता है। इस केस में रीट्वीट करने वाले 2 लोग– @hhfyttth99jhgy और @SmokingSkills_ थे।

रिपोर्ट के अनुसार, हैंडल @hhfyttth99jhgy के पास महज़ 304 फ़ॉलोवर हैं। @SmokingSkills_ एक ट्रोलिंग अकाउंट है जो कि बिना अपनी पहचान ज़ाहिर किये चलाता है। इसके 66 हज़ार 261 फ़ॉलोवर हैं। इतने बड़े ट्विटर अकाउंट ने 3 मिनट के भीतर एक नए अकाउंट के ट्वीट को रीट्वीट किया, ये अपने आप में एक अचम्भा है। 

इससे लगता है कि ट्विटर हैंडल @Lijeng_ को या तो @SmokingSkills_ ने बनाया है या फिर वह इसे पॉपुलर करना चाहता है।

बड़ी सेलिब्रिटी के नाम पर फ़ेक अकाउंट

इससे अलग हाल के दिनों में बड़ी-बड़ी सेलिब्रिटी के नाम से बने फ़ेक अकाउंट चर्चा में रहे हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की बेटी इवांका ट्रंप के नाम से किसी ने फ़ेक अकाउंट बनाया और लिख दिया कि वह भारत के समर्थन में हैं। ऑल्ट न्यूज़ के अनुसार, इस ट्वीट को बीजेपी के महिला मोर्चा के सोशल मीडिया की नेशनल इंचार्ज प्रीति गांधी ने रीट्वीट किया। बाद में ‘इवांका’ का ये ट्वीट डिलीट हो गया। मालूम पड़ा कि अब ये अकाउंट अस्तित्व में ही नहीं है।

fake twitter account to troll rahul gandhi image on china - Satya Hindi
फ़ोटो साभार: ऑल्ट न्यूज़

ऐसा ही एक फ़ेक अकाउंट डोनल्ड ट्रंप के नाम से भी था। इसमें लिखा गया था कि भारत के साथ हूँ। ऑल्ट न्यूज़ ने लिखा कि इस ट्वीट को ख़ुद को फ़ॉरेन अफेयर्स डिपार्टमेंट के इंचार्ज बताने वाले डॉक्टर विजय चौथाईवाले ने रीट्वीट किया। बाद में यह अकाउंट भी डिलीट हो गया।

fake twitter account to troll rahul gandhi image on china - Satya Hindi
फ़ोटो साभार: ऑल्ट न्यूज़

एक ऐसा ही फ़र्ज़ी अकाउंट चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के नाम से बनाया गया और लिखा गया कि वह और चीन भारत के समर्थन में है। यह अजीब बात है कि चीन के साथ लड़ाई चल रही है और 'चीन भारत के समर्थन में है' का ट्वीट किया जा रहा है। 

ऐसा ही एक अकाउंट इज़राइल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू के नाम से सामने आया है। इसमें तो प्रधानमंत्र मोदी के दोस्त होने के साथ ही यह भी लिखा गया है कि दोनों मिलकर चीन को धूल चटाएँगे। कुछ वक़्त के बाद यह अकाउंट भी बंद हो गया। 

बता दें कि लद्दाख में चीनी सेना की घुसपैठ और गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के हिंसक झड़प में 20 जवानों के शहीद होने के बाद से सोशल मीडिया पर फ़र्ज़ी अकाउंट से ऐसे मैसेज करने के सैकड़ों मामले सामने आ रहे हैं। 

माना जा रहा है कि ऐसे मामले तब बढ़ गए जब लोग सोशल मीडिया पर आलोचना करने लगे कि प्रधानमंत्री, रक्षा मंत्री सहित तमाम मंत्री की ओर से कोई प्रतिक्रिया क्यों नहीं आई। मंत्रियों की यह आरोप लगाकर भी आलोचना की जा रही है कि देश को चीन से लगी सीमा पर वास्तविक स्थिति नहीं बताई जा रही है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें