loader

कांग्रेस की जीत के बाद लगे 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' के नारे?

सोशल मीडिया पर एक विडियो शेयर किया जा रहा है जिसमें दावा किया गया है कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत को अभी दो दिन भी नहीं हुए और मुसलमानों ने बाबरी मसजिद बनाने के लिए जुलूस निकाला और पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगाए। इस विडियो को 16,000 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है और तीन लाख से ज़्यादा लोग इसे देख चुके हैं।
आइए, पड़ताल करते हैं कि वायरल हो रहा यह विडियो सच है या झूठ। विडियो Politics Solitics नाम के फ़ेसबुक पेज से शेयर किया गया। इसमें लिखा था ‘उन सभी भाइयों को मुबारक़ जिसने कांग्रेस को वोट दिया’। पहले देखते हैं यह विडियो -
विडियो की पड़ताल करने पर पता चला कि दो साल पहले 6 दिसंबर 2016 को इस विडियो को यूट्यूब पर शेयर किया गया था। यह विडियो उत्तर प्रदेश के संभल जिले का है न कि उन तीनों राज्यों का जहाँ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत हुई है। रैली में शामिल लोगों के हाथ में बाबरी मसजिद की तसवीर थी और वे इसे फिर से बनाने के लिए नारे लगा रहे थे। इसमें पाकिस्तान ज़िंदाबाद का एक भी नारा नहीं लगा है। नीचे देखें असली विडियो - 
इस तरह पड़ताल में कांग्रेस की जीत के बाद निकली रैली में 'पाकिस्तान ज़िंदाबाद' के नारे लगाने का यह दावा झूठा साबित हुआ है।
कुछ दिन पहले ही सोशल मीडिया पर एक और विडियो शेयर हुआ था जिसमें दावा किया गया था कि राजस्थान में कांग्रेस की रैली में पाकिस्तान का झंडा लहराया गया। हमने इसकी पड़ताल की। ख़बर विस्तार से यहाँ पढ़ें - क्या कांग्रेस की रैली में लहराया गया पाकिस्तानी झंडास्पष्ट है कि तीन राज्यों में बीजेपी की हार से एक तबक़ा बौखला गया है और वह अपनी हार की खीझ मिटाने के लिए झूठे शीर्षक के साथ पुराने विडियो पोस्ट कर रहा है जिससे समाज में सांप्रदायिक वैमनस्य बढ़े और उसका लाभ लोकसभा चुनावों में उठाया जा सके।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें