loader

पाक के पुराने वीडियो को भारत में तब्लीग़ी जमात का बताकर झूठ फैला रहे कुछ लोग

जब से दिल्ली के निज़ामुद्दीन में तब्लीग़ी जमात का कार्यक्रम हुआ है और उसमें कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामले आए हैं तब से सोशल मीडिया पर ऐसे वीडियो और मैसेज शेयर किए जा रहे हैं जो नफ़रत को फैलाते हैं। जो एक समुदाय को दानवीकरण करने की कोशिश करता है। सुप्रीम कोर्ट में तो एक याचिका दाखिल करके आरोप लगाया गया है कि मीडिया का कुछ हिस्सा भी यही काम कर रहा है और इसको रोका जाए व उन पर कार्रवाई की जाए। लेकिन सोशल मीडिया का क्या? वहाँ ऐसी ग़लत सूचनाएँ और अफवाह फैलाने वाले तो बेलगाम हैं। यदि पाकिस्तान के डेढ़ साल पुराने वीडियो को देश में ताज़ा हुई घटना बताई जाए तो इसके पीछे मक़सद क्या हो सकता है?

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल किया गया था। शेयर किए गए इस वीडियो में दिख रहा है कि ख़ून में सना एक व्यक्ति नंगा पड़ा है। इसके कैप्शन में लिखा गया था कि 'देखिए 14 दिन के एकांतवास में भी इन तबलीगी जमात के लोगों ने अश्लीलता और आतंक मचा रखा है'। फ़ैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट 'ऑल्ट न्यूज़' ने लिखा कि वीडियो को 'राज शर्मा कानपुर💯%FB' (@RajShar41438261) ने ट्विटर पर 7 अप्रैल को शेयर किया था। हालाँकि बाद में जब यह फ़ेक न्यूज़ साबित हो गया तो उसने उस ट्वीट को डिलीट कर दिया। 

ताज़ा ख़बरें

दूसरे कुछ सोशल हैंडल पर शेयर किए गए कुछ ज़्यादा समय के उस वीडियो में दिख रहा है कि वह व्यक्ति खिड़की के शीशे को अपने सर और हाथों से तोड़ रहा है। 'ऑल्ट न्यूज़' ने लिखा कि HindustanKi Awazlive फ़ेसबुक पेज से इसे शेयर किया गया। इसमें कैप्शन में लिखा गया था कि ये तबलीगी जमात का है और आतंक मचा रखा है... क्वरेंटाइन में जमकर किया हंगामा....। फ़ेक न्यूज़ साबित होने पर बाद में इस पेज से भी उस पोस्ट को डिलीट कर दिया गया।

इस वीडियो को वाट्सऐप, ट्विटर और फ़ेसबुक पर भी कई लोगों ने इसी दावे के साथ शेयर किया है। 

जबकि सचाई यह है कि यह वीडियो भारत का है ही नहीं। न ही यह वीडियो हाल का है। 'ऑल्ट न्यूज़' ने फ़ैक्ट चेक कर बताया है कि यह वीडियो क्लिप एक बड़े वीडियो का एक छोटा सा हिस्सा है। यूट्यूब पर 26 अगस्त 2019 को अपलोड किए गए इसी वीडियो के टाइटल में लिखा गया है कि नंगा आदमी गुलशान ए हदीद कराची की मसजिद में घुसा। कराची पाकिस्तान का एक प्रमुख शहर है। 'ऑल्ट न्यूज़' ने वीडियो में दिख रहे शॉट को गूगल मैप में मिले इमेज के साथ इसका मिलान किया। इसमें पाया गया है कि यह घटना जामिया मसजिद खालिद बिन वालीद की है। 26 अगस्त से तीन दिन पहले इसी वीडियो को पोस्ट किया गया था जिसके डिस्क्रिप्शन में दावा किया गया था कि उस व्यक्ति की पहचान शफीक अब्रो के रूप में हुई थी जिसे घटना के बाद पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया था। उसमें दावा किया गया कि वह एक पुलिस कमांडो का बेटा है और वह मानसिक रूप से असंतुलित है। 

असत्य से और ख़बरें

इससे साफ़ होता है कि यह वीडियो भारत का तो है ही नहीं। यह पाकिस्तान के कराची का है और वह भी काफ़ी पुराना। इस वीडियो में दिख रहे व्यक्ति का तब्लीग़ी जमात, कोरोना वायरस, क्वरेंटाइन से कुछ भी लेनादेना नहीं है। इस वीडियो को मुसलिमों को 'दानवीकरण' करने के मक़सद से झूठ फैलाया जा रहा है। 

इसी तरह से मुसलिमों को निशाना बनाए जाने के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में एक दिन पहले ही यानी बुधवार को याचिका दायर की गई है।जमीयत उलेमा ए हिंद ने आरोप लगाया है कि मीडिया का कुछ हिस्सा तब्लीग़ी जमात के दिल्ली में पिछले महीने हुए कार्यक्रम को लेकर सांप्रदायिक नफ़रत फैला रहा है। इसने कोर्ट से अपील की है कि वह केंद्र सरकार को निर्देश दे कि 'फ़ेक न्यूज़' को फैलने से रोके और इसके व नफ़रत फैलाने के लिए ज़िम्मेदार मीडिया और लोगों पर सख़्त कार्रवाई करे। याचिका में दलील दी गई है कि तब्लीग़ी जमात की दुर्भाग्यपूर्ण घटना का इस्तेमाल पूरे मुसलिम समुदाय पर दोष मढ़ने और 'दानवीकरण' करने के लिए किया जा रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

असत्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें