loader

हिंदुत्व का औरंगज़ेबी चेहरा?

लालकृष्ण आडवाणी और डाॅ. मुरलीमनोहर जोशी बीजेपी के अध्यक्ष रहे हैं और अटल बिहारी वाजपेयी के साथ इन्हें बीजेपी की त्रिमूर्ति समझा जाता रहा है। लेकिन पहले तो इन्हें  ‘मार्गदर्शक मंडल’ में रखा गया था, अब मोदी ने दोनों को बाहर का मार्ग दिखा दिया है। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

लोकसभा चुनावों के लिए पार्टियाँ अपने-अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर रही हैं। कई नामी-गिरामी उम्मीदवार रातों-रात पार्टियाँ बदल रहे हैं, उनकी चर्चा सुर्खियों में है लेकिन बीजेपी ने अपने जिन वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया है, उनकी चर्चा सबसे ज़्यादा है। इनमें सबसे प्रमुख लालकृष्ण आडवाणी और डाॅ. मुरलीमनोहर जोशी हैं। ये दोनों नेता बीजेपी के अध्यक्ष रहे हैं और अटल बिहारी वाजपेयी के साथ इन्हें बीजेपी की त्रिमूर्ति समझा जाता रहा है। श्यामाप्रसाद मुखर्जी, बलराज मधोक और दीनदयाल उपाध्याय के बाद ये ही नेता पिछले कई दशकों से जनसंघ और बीजेपी की पहचान रहे हैं। कई दशकों से वे सांसद रहे हैं। आडवाणीजी राम-मंदिर के देश-व्यापी आंदोलन के सूत्रधार थे।

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी की सरकार जब 1996 में बनी तो उन्होंने अपना ताज अटलजी के सिर पर रख दिया। डाॅ. जोशी ने कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा की और सारी धमकियों के बावजूद 1992 में श्रीनगर जाकर ध्वज फहराया। शिक्षा मंत्री के तौर पर उन्होंने कई अपूर्व सुधार किए।

नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनते ही इन दोनों नेताओं, लालकृष्ण आडवाणी और मुरलीमनोहर जोशी जी को ‘मार्गदर्शक मंडल’ में रख दिया। मार्गदर्शक याने मार्ग देखनेवाला। दिखानेवाला नहीं। अब मोदी ने दोनों को बाहर का मार्ग दिखा दिया।

यह ठीक है कि एक 92 और दूसरे 85 साल के हैं लेकिन दोनों मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ हैं। जर्मनी के कोनराड एडेनावर 87 साल की उम्र में राष्ट्रपति थे और मलेशिया के प्रधानमंत्री महाथिर मुहम्मद 93 साल के हैं। दोनों बीजेपी नेता सिर्फ़ सांसद बने रहना चाहते थे। यदि दोनों को चुनाव लड़ने दिया जाता तो उसमें कोई बुराई नहीं थी लेकिन उन्हें मना किया गया, इसे कौन अच्छा कहेगा? इसे हिंदुत्व का औरंगज़ेबी चेहरा भी कहा जा सकता है।

सम्बंधित खबरें

अटलजी ने कहा था, राजधर्म का उल्लंघन नहीं होने देंगे

2002 में गुजरात के दंगों के समय प्रधानमंत्री अटलजी ने मेरा लेख ‘नवभारत टाइम्स’ में पढ़ा और मुझे फोन करके कहा कि गुजरात में वे ‘राजधर्म का उल्लंघन’ (मेरे शब्द) नहीं होने देंगे। वे मोदी को मुख्यमंत्री पद से हटाना चाहते थे लेकिन गोवा में हुई बीजेपी कार्यकारिणी की बैठक में मोदी को बचाने का श्रेय अकेले किसी को था तो वह आडवाणीजी को था। 

आडवाणी और जोशी जी ने हवा का रुख़ पिछले पाँच साल में क्यों नहीं पहचाना? उन्हें चाहिए था कि वे ख़ुद ही पार्टी के सारे पद छोड़ देते। लेकिन राजनीति है ही ऐसी बला! वह नाज़ुक मिजाज लोगों की खाल को भी गेंडे की तरह मोटी बना देती है।

बादशाह और प्रधानमंत्री जैसे लोगों के सीने में भी वह एक भिखारी को बिठा देती है। असली स्वाभिमानी आदमी वह होता है, जो किसी भी पद, पुरस्कार या पैसे के लिए हाथ नहीं फैलाता है बल्कि वह उन्हें तभी स्वीकारता है जबकि वे ख़ुद हाथ जोड़े हुए उसके सामने उपस्थित होते हैं।

(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग से साभार)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

ब्लॉग से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें