loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

सूरत में फिर सड़क पर उतरे प्रवासी मजदूर, घर भेजने की मांग

घर भेजे जाने की मांग को लेकर शनिवार को गुजरात के सूरत में प्रवासी मजदूरों ने एक बार फिर जोरदार प्रदर्शन किया। सैकड़ों की संख्या में आक्रोशित मजदूर सूरत जिले के मोरा गांव में सड़कों पर उतर आए। न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़, प्रदर्शन कर रहे मजदूरों में से 40 से ज़्यादा को हिरासत में ले लिया गया है। 

मजदूरों की पुलिस के साथ झड़प भी हुई और उन्होंने पुलिस पर और पुलिस के वाहनों पर पत्थर भी फेंके। मोरा गांव हाज़िरा इंडस्ट्रियल टाउन के नजदीक है। 

ताज़ा ख़बरें

पीटीआई के मुताबिक़, प्रदर्शनकारी मजदूर मांग कर रहे थे कि जिला प्रशासन उनके राज्यों में जाने का इंतजाम करे। प्रदर्शन में उत्तर प्रदेश, बिहार, ओड़िशा सहित दूसरे राज्यों के मजदूर शामिल थे। इनमें से अधिकांश मजदूर हाज़िरा में लगी औद्योगिक इकाइयों में काम करते हैं। 

बीते कुछ दिनों में कई बार मजदूर घर भेजे जाने की मांग को लेकर सड़कों पर उतर आए हैं। इनमें से कई बार वे सूरत में ही जोरदार प्रदर्शन कर चुके हैं। कुछ दिन पहले सूरत के कडोदारा इलाक़े में प्रवासी मजदूरों ने पुलिस पर पथराव किया था और घर भेजे जाने की मांग की थी। मजदूरों के हंगामे का यह वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। 

सूरत में इसी मांग को लेकर 28 अप्रैल को मजदूरों ने डायमंड बोर्स कंपनी के दफ़्तर पर पत्थर फेंके थे। उससे पहले सूरत के ही लस्काना में स्थित डायमंड नगर इंडस्ट्रियल एरिया की फ़ैक्ट्रियों में काम करने वाले मजदूरों ने लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए सड़कों को जाम कर दिया था और आगजनी की थी।

लॉकडाउन के चलते बड़ी संख्या में मजदूर महानगरों में फंस गए हैं। क्योंकि लॉकडाउन के बाद काम-धंधा चौपट हो चुका है और मजदूरों के लिए गुजर-बसर करना बेहद मुश्किल हो गया है।

सूरत के अलावा मुंबई के बांद्रा स्टेशन पर भी कुछ दिन पहले हज़ारों की संख्या में मजदूर इकट्ठा हो गये थे और उनकी भी यही मांग थी कि उन्हें उनके घर भेजने की व्यवस्था की जाए। इन प्रवासी मजदूरों के पास न पैसे हैं और न ही राशन, ऐसे में इनकी मांग है कि इन्हें इनके घर भेज दिया जाए। प्रवासी मजदूर लगातार सोशल मीडिया के माध्यम से भी आवाज़ उठा रहे हैं। 

गुजरात से और ख़बरें

मजदूरों के लगातार प्रदर्शन के बाद केंद्र व राज्य सरकारें दबाव में आई हैं और कई राज्यों से मजदूरों, छात्रों को उनके राज्य में ले जाया जा रहा है। लेकिन इसमें हो रही देरी की वजह से मजदूरों का आक्रोश चरम पर है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें