loader

गुजरात: धर्म के आधार पर अलग कोरोना वार्ड बनाने के मामले में अब लीपापोती?

गुजरात के अहमदाबाद के सिविल हॉस्पिटल में धर्म के आधार पर कोरोना वार्ड बनाने की ख़बर आने के बाद लगता है कि अब इस मामले में लीपापोती शुरू हो गयी है। गुजरात सरकार ने तो उस रिपोर्ट को खारिज कर ही दिया है, उस हॉस्पिटल के मेडिकल सुप्रींटेंडेंट डॉ. गुणवंत एच राठौड़ ने भी अब कहा है कि धर्म के आधार पर अलग कोरोना वार्ड नहीं बनाया गया है और उनके बयान को ग़लत तरीक़े से पेश किया गया है। यानी वह पिछले बयान से पूरी तरह पलट गए। एक दिन पहले ही 'द इंडियन एक्सप्रेस' ने लिखा था कि राठौड़ ने कहा था कि 'यहाँ हमने हिंदू और मुसलिम मरीजों के लिए अलग-अलग वार्ड बनाए हैं।' इस पर सवाल उठता है कि क्या यह बयान लीपापोती की कोशिश है?

अलग वार्ड बनाए जाने की इस रिपोर्ट के आने के बाद मामले ने तूल पकड़ लिया था। इस पर अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता पर अमेरिकी आयोग यानी यूएससीआईआरएफ़ ने ट्वीट कर धर्म के आधार पर मरीजों को अलग रखे जाने पर चिंता जताई थी। इस पर भारत के विदेश मंत्रालय ने प्रतिक्रिया में कहा था कि यूएससीआईआरएफ़ भ्रमित करने वाली रिपोर्ट को फैला रहा है। इसने कहा था कि कोरोना के ख़िलाफ़ राष्ट्रीय लक्ष्य को धार्मिक रंग नहीं देना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

इस मामले में गुजरात सरकार की तरफ़ से प्रेस इंफ़ोर्मेशन ब्यूरो ने ट्वीट कर कहा था, 'गुजरात सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय ने साफ़ किया है कि सिविल अस्पताल में धर्म के आधार पर कोई भी विभाजन नहीं किया गया है। कोरोना मरीजों का इलाज बीमारी के लक्षण, गंभीरता और डॉक्टरों की सलाह के अनुसार किया जा रहा है।'

इस बीच मेडिकल सुप्रींटेंडेंट डॉ. गुणवंत एच राठौड़ ने एक बयान में कहा कि हॉस्पिटल में धर्म के आधार पर कोई भी विभाजन नहीं किया जा रहा है। उन्होंने अपने पिछले बयान पर सफ़ाई दी और दावा किया कि अख़बारों में मेरे बयान को ग़लत अर्थ में पेश किया गया। उन्होंने कहा कि मेरे नाम से पहले दिए गये बयान ग़लत व आधारहीन हैं और मैं इसकी निंदा करता हूँ। आगे उन्होंने कहा, 'मरीजों को अलग-अलग और संबंधित वार्डों में इस आधार पर भर्ती किया जा रहा है कि वे पुरुष, महिला, बच्चों की स्थिति, मरीज की गंभीरता, कोरोना पॉजिटिव-नेगेटिव आने की स्थिति कैसी है। यह भी देखा जा रहा है कि मरीज कहीं डायबिटीज, हाइपरटेंशन, दिल या किडनी का मरीज तो नहीं है।'

गुजरात से और ख़बरें
हालाँकि राठौड़ के इन दावों पर 'द इंडियन एक्सप्रेस' ने साफ़ कहा है कि उसने राठौड़ का जो पहले वाला बयान छापा है वह ठीक-ठीक वैसा ही है जैसा उन्होंने मंगलवार को दिया था। अख़बार ने बुधवार को अंक में लिखा था, "राठौड़ ने कहा है, 'आमतौर पर पुरुष और महिला रोगियों के लिए अलग-अलग वार्ड होते हैं। लेकिन यहाँ हमने हिंदू और मुसलिम मरीजों के लिए अलग-अलग वार्ड बनाए हैं।' इस तरह के अलगाव का कारण पूछे जाने पर डॉ. राठौड़ ने कहा था, 'यह सरकार का निर्णय है और आप उनसे पूछ सकते हैं।" अख़बार ने इस रिपोर्ट के साथ ही राज्य के उपमुख्यमंत्री और कलेक्टर का बयान भी छापा था जिसमें उन्होंने ऐसी कोई जानकारी होने से इनकार किया था। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें