loader

गुजरात: आग लगने से हुई थी 8 लोगों की मौत, दो दिन बाद भी एफ़आईआर तक दर्ज नहीं

अहमदाबाद के श्रेय अस्पताल में आग लगने से 8 लोगों की दर्दनाक मौत हो गई थी। यह घटना 6 अगस्त की तड़के हुई थी। लेकिन दो दिन बीतने के बाद भी इस घटना के लिए जिम्मेदार किसी शख़्स के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं हुई है। 

किसी कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में आग लगने का यह पहला मामला है और लापरवाही का आलम यह है कि इस मामले में अब तक कोई एफ़आईआर तक दर्ज नहीं हुई है। इससे यह शक पैदा होता है कि ऐसा करके क्या किसी को बचाने की कोशिश की जा रही है। 

कोचिंग सेंटर में लगी थी आग 

पिछले साल सूरत में एक कोचिंग सेंटर में आग लगी थी। इस घटना की कई डरावनी फ़ोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुई थीं, जिसमें छात्रों को कोचिंग सेंटर की बिल्डिंग से नीचे कूदते देखा गया था। इस दर्दनाक घटना में 22 लोगों की मौत हुई थी। तब पुलिस ने तुरंत एफ़आईआर दर्ज की थी और कोचिंग सेंटर के मालिक को गिरफ़्तार करने के अलावा दो बिल्डर्स के ख़िलाफ़ भी केस दर्ज किया था। इसके अलावा दो फ़ायर अफ़सरों को इस बिल्डिंग को नो ऑब्जेक्शन सर्टिफ़िकेट (एनओसी) देने के कारण सस्पेंड भी किया गया था। 

क्यों नहीं हुई कार्रवाई?

लेकिन श्रेय अस्पताल के मामले में फ़ायर विभाग की ओर से अब तक इस घटना की जिम्मेदारी लेने के लिए कोई आगे नहीं आया है। ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि क्या इस घटना पर पर्दा डालने की कोशिश की जा रही है। जिस तरह सूरत के मामले में कोचिंग सेंटर के मालिक और बिल्डर्स के ख़िलाफ़ कार्रवाई की गई, वैसी ही कार्रवाई इस मामले में अस्पताल प्रबंधन के ख़िलाफ़ भी की जानी चाहिए थी। लेकिन अब तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। 

अस्पताल का असली मालिक कौन?

‘अहमदाबाद मिरर’ ने एक शीर्ष आईएएस अफ़सर के हवाले से कहा है कि अभी तक यह तक पता नहीं चल सका है कि श्रेय अस्पताल का असली मालिक कौन है। अहमदाबाद ज़ोन-1 के डीसीपी रविंद्र पटेल कहते हैं कि दुर्घटना से मौत होने की शिकायत दर्ज की गई है और वे फ़ॉरेंसिक सहित पांच विभागों की रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं।  

‘अहमदाबाद मिरर’ के मुताबिक़, जांचकर्ताओं ने दावा किया है कि अस्पताल की ओर से किसी तरह की लापरवाही का कोई सबूत नहीं मिला है।

डीसीपी पटेल ने कहा कि अस्पताल की फ़ायर एनओसी इस साल 4 अप्रैल को ख़त्म हो गई थी और अस्पताल की ओर से अग्निशमन यंत्रों को फिर से भरे जाने और एनओसी लेने की प्रक्रिया 21 मार्च को ही शुरू कर दी गई थी। लेकिन लॉकडाउन की वजह से अस्पताल इसकी अर्जी नहीं लगा सका। लेकिन ‘अहमदाबाद मिरर’ ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि एनओसी को डेडलाइन से पहले रिन्यू नहीं कराया गया। 

गुजरात से और ख़बरें

डीसीपी का कहना है कि फ़ायर विभाग ने एक रिपोर्ट जमा की थी जिसमें कहा गया था कि अस्पताल में आग से बचने के लिए सभी इंतज़ाम किए गए हैं। तो फिर इतना बड़ा हादसा कैसे हो गया, इसका जवाब फ़ायर विभाग को देना चाहिए। 

पुलिस का कहना है कि वह सीसीटीवी फ़ुटेज हासिल करने की कोशिश में जुटी है जिससे पता चल सके कि आग किस वजह से लगी लेकिन अब तक उसे किसी भी तरह की लापरवाही का सबूत नहीं मिला है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें