loader

फिर टूटी गुजरात कांग्रेस, राज्यसभा चुनाव से पहले 2 और विधायकों ने छोड़ी पार्टी

राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले कांग्रेस को गुजरात में जोरदार झटका लगा है। पार्टी के दो विधायकों ने विधानसभा से इस्तीफ़ा दे दिया है। गुजरात में 19 जून को राज्यसभा की चार सीटों के लिए चुनाव होने हैं। 

कांग्रेस ने राज्य में सत्तारूढ़ दल बीजेपी पर आरोप लगाया है कि वह राज्यसभा चुनाव जीतने के लिए उसके विधायकों को तोड़ रही है। इस पर बीजेपी ने पलटवार किया है और कहा है कि कांग्रेस विधायक अपनी पार्टी से नाख़ुश हैं, इसलिए वे पार्टी छोड़ रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें
गुजरात विधानसभा के स्पीकर राजेंद्र त्रिवेदी ने कहा कि कांग्रेस विधायक अक्षय पटेल और जीतू चौधरी बुधवार शाम को उनसे मिले और अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया। स्पीकर ने कहा कि उनका इस्तीफ़ा स्वीकार कर लिया गया है। अक्षय पटेल वडोदरा की कर्जन सीट से जबकि जीतू चौधरी वलसाड की कपराडा सीट से विधायक हैं। 

बीजेपी ने अभय भारद्वाज, रामिलाबेन बारा और नरहरि अमीन को उम्मीदवार बनाया है जबकि कांग्रेस ने शक्ति सिंह गोहिल और भरत सिंह सोलंकी को चुनाव मैदान में उतारा है। पहले ये चुनाव 26 मार्च को होने थे लेकिन कोरोना संकट के कारण इन्हें टाल दिया गया था। 

19 जून को जिन 4 सीटों के लिए चुनाव होना है, उनमें से 3 सीटें बीजेपी के पास हैं और 1 सीट कांग्रेस के पास है। कांग्रेस ने चुनाव में 2 उम्मीदवार जबकि बीजेपी ने 3 उम्मीदवार खड़े किए हैं। कांग्रेस की कोशिश थी कि वह दोनों सीटों पर जीत हासिल करे लेकिन विधायकों की बग़ावत के कारण अब ऐसा होना मुश्किल दिख रहा है। 

गुजरात से और ख़बरें

विधायकों को नहीं संभाल पा रही कांग्रेस 

गुजरात कांग्रेस में जबरदस्त भगदड़ चल रही है। मार्च, 2019 के बाद से अब तक 7 विधायक पार्टी छोड़ चुके हैं। इससे पहले कांग्रेस विधायक कुवंरजी बावलिया, आशा पटेल, जवाहर चावड़ा और पुरुषोत्तम साबरिया ने भी बीजेपी का दामन थाम लिया था। इनमें से बावलिया और चावड़ा को तो बीजेपी ने सरकार में मंत्री भी बनाया था। 

182 सदस्यों वाली राज्य की विधानसभा में बीजेपी के पास 103 विधायक हैं जबकि कांग्रेस के 66 विधायक बचे हैं। राज्य के बड़े ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने भी कांग्रेस का दामन छोड़ दिया था। ठाकोर ने राहुल गाँधी पर उन्हें धोखा देने का आरोप लगाया था। 

2017 में हुए गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी के बीच जोरदार टक्कर देखने को मिली थी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने राज्य में चुनाव प्रचार के दौरान जमकर पसीना बहाया था और इसके बेहतर परिणाम भी सामने आए थे। कांग्रेस को 77 सीटों पर जीत मिली थी। जबकि 2012 के विधानसभा चुनाव में 115 सीटें जीतने वाली बीजेपी 99 सीटों पर आकर रुक गई थी। लेकिन उसके बाद कांग्रेस अपने विधायकों को संभाल नहीं सकी और एक के बाद एक विधायक पार्टी का साथ छोड़कर चलते बने। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें