loader

हरियाणा: बच गई खट्टर सरकार, गिरा अविश्वास प्रस्ताव 

किसान आंदोलन से जूझ रही हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार को बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव का सामना करना पड़ा। अविश्वास प्रस्ताव पर काफी देर तक चर्चा हुई और फिर वोटिंग कराई गई। वोटिंग में अविश्वास प्रस्ताव के पक्ष में 32 जबकि इसके ख़िलाफ़ 55 वोट पड़े। अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान कृषि क़ानूनों को लेकर विधानसभा में काफी हंगामा भी हुआ। 

90 सदस्यों वाली हरियाणा की विधानसभा में दो सीटें खाली हैं। ऐसे में 88 सदस्यों की मौजदूगी में खट्टर सरकार को 45 विधायकों की ज़रूरत थी। बीजेपी के पास 40, जेजेपी के पास 10 विधायक हैं। 7 निर्दलीय विधायकों में से 5 ने सरकार को समर्थन दिया हुआ है जबकि कांग्रेस के पास 30 विधायक हैं। हरियाणा लोकहित पार्टी के एक विधायक का भी सरकार को समर्थन हासिल है। 

ताज़ा ख़बरें

अविश्वास प्रस्ताव लाने से पहले विपक्ष के नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा था कि अविश्वास प्रस्ताव से यह पता चल जाएगा कि कौन सा विधायक सरकार के साथ खड़ा है और कौन सा किसानों के साथ। 

कई नेताओं ने छोड़ी बीजेपी-जेजेपी 

बीजेपी-जेजेपी के भीतर कृषि क़ानूनों को लेकर किसानों के समर्थन में न खड़े होने को लेकर जबरदस्त उथल-पुथल है और इस बीच दोनों दलों के कई नेताओं ने इस्तीफ़ा दे दिया है। हरियाणा बीजेपी के नेता और पूर्व संसदीय सचिव रामपाल माजरा ने कृषि क़ानूनों के विरोध में पार्टी छोड़ दी थी। इसके अलावा फतेहाबाद से बीजेपी के पूर्व विधायक बलवान सिंह दौलतपुरिया पार्टी छोड़ चुके हैं। दादरी से निर्दलीय विधायक सोमवीर सांगवान हरियाणा पशुधन विकास बोर्ड के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे चुके हैं। करनाल जिले के अध्यक्ष इंद्रजीत सिंह गौराया किसानों के समर्थन में पार्टी को अलविदा कह चुके हैं। इसके अलावा भी कई नेता पार्टी छोड़ चुके हैं। 

No confidence motion in Haryana assembly  - Satya Hindi

किसान मोर्चा ने की थी अपील

पांच राज्यों के चुनावों में बीजेपी को वोट नहीं देने की अपील करने के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने हरियाणा सरकार को गिराने में सहयोग करने का आह्वान किया था। मोर्चा के नेताओं ने कहा था कि हरियाणा में अभियान चलाएगा जिससे सरकार गिर जाए। मोर्चा की ओर से लोगों से कहा गया था कि वे अविश्वास प्रस्ताव में बीजेपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को हराएं।

हरियाणा से और ख़बरें

दबाव में हैं दुष्यंत चौटाला

किसान आंदोलन को लेकर जितना दबाव बीजेपी पर है, उतना ही उसके सहयोगी दलों पर। जैसे-जैसे किसान आंदोलन आगे बढ़ता गया, बीजेपी के सहयोगी उसे छोड़ते गए, जो बचे हैं, वे जबरदस्त दबाव में हैं। किसानों के दबाव के कारण ही शिरोमणि अकाली दल और राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी एनडीए से बाहर निकल चुकी हैं लेकिन जेजेपी इस मामले में फ़ैसला नहीं ले पा रही है।

सोशल मीडिया पर किसान और युवा लगातार दुष्यंत चौटाला पर सियासी हमले कर रहे हैं। किसानों और युवाओं का कहना है कि दुष्यंत ने बीजेपी के विरोध और किसानों की हिमायत करने के वादे के कारण पहले ही चुनाव में बड़ी सफ़लता हासिल की थी। लेकिन अब वह कुर्सी मोह के कारण किसानों का साथ नहीं देना चाहते। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें