loader

अग्निपथ: पांचवे दिन भी विरोध जारी, राजनाथ ने फिर बुलाई बैठक 

सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए लाई गई अग्निपथ योजना का पांचवें दिन भी विरोध जारी है। विरोध के कारण बिहार में बड़े पैमाने पर सरकारी संपत्ति का नुकसान हुआ है और इस वजह से ट्रेनों को रद्द करना पड़ा है। उत्तर प्रदेश और बिहार में हुए हिंसक प्रदर्शनों को लेकर पुलिस गिरफ्तारियों में जुटी हुई है। बिहार में 700 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है और पुलिस ने 25 एफआईआर दर्ज की हैं। विरोध के बीच अग्निपथ योजना को लेकर सशस्त्र बलों की ओर से दिन में 2 बजे प्रेस कॉन्फ्रेन्स की जाएगी। 

उत्तर प्रदेश पुलिस ने भी 12 जिलों में 29 एफआईआर दर्ज की हैं और 300 से ज्यादा लोगों की गिरफ्तारियां की गई हैं। यह गिरफ्तारियां मथुरा, अलीगढ़, वाराणसी, जौनपुर, मिर्जापुर, गौतम बुद्ध नगर, बलिया आदि से की गई हैं।

याद दिला दें कि बलिया में उपद्रवियों ने ट्रेन की एक बोगी में आग लगा दी थी जबकि मथुरा, अलीगढ़, वाराणसी में तोड़फोड़ की हिंसक घटनाएं हुई थीं। 

ताज़ा ख़बरें

इस बीच रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने लगातार दूसरे दिन शनिवार को एक अहम बैठक बुलाई और इसमें तीनों सेनाओं के प्रमुख शामिल रहे। 

अग्निपथ योजना के जोरदार विरोध के बीच भारतीय एयरफोर्स ने नई भर्ती प्रक्रिया से जुड़ी अहम जानकारी जारी कर दी है। इसमें आयु सीमा, शैक्षणिक योग्यता, फिजिकल और मेडिकल स्टैंडर्ड, यूनिफॉर्म ऑनर्स एंड अवॉर्ड्स, अग्निवीरों को दी जाने वाली ट्रेनिंग सहित तमाम बातों का जिक्र किया गया है। नई भर्ती 24 जून से शुरू होगी। 

Agnipath recruitment scheme protests demanding a rollback of scheme - Satya Hindi

अग्निपथ योजना के तहत अग्निवीरों के लिए तमाम एलान करने के बाद भी युवाओं का गुस्सा शांत होते नहीं दिखाई दे रहा है। बता दें कि अग्निवीरों को रक्षा मंत्रालय की नौकरियों में 10 फीसद आरक्षण दिए जाने, सेंट्रल आर्म्ड पुलिस फोर्स यानी सीएपीएफ और असम राइफल्स में भी 10 फीसद आरक्षण का एलान गृह मंत्रालय कर चुका है। 

गृह मंत्रालय ने अग्निवीरों को सीएपीएफ और असम राइफल्स में भर्ती के लिए तय आयु सीमा में 3 साल की छूट देने का भी फैसला किया है और अग्निपथ योजना के पहले बैच के लिए यह छूट 5 वर्ष होगी। इससे पहले केंद्र सरकार ने गुरूवार को इसमें संशोधन किया था। सरकार ने कहा था कि 2022 में होने वाली सेना भर्ती में वह 2 साल की छूट देगी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें