loader

ज्ञानवापी मस्जिद थी और क़यामत तक रहेगी: ओवैसी 

ज्ञानवापी मस्जिद मामले में चल रहे घटनाक्रमों के बीच एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कहा है कि ज्ञानवापी मस्जिद थी और क़यामत तक रहेगी। 

ओवैसी ने यह बात सोमवार को गुजरात के वडमाम के छापी में आयोजित जनसभा में कही। 

ओवैसी ने कहा कि जब वह 19-20 साल के थे तब बाबरी मस्जिद को उनसे छीन लिया गया लेकिन हम अब 19-20 साल के बच्चों की आंखों के सामने एक और मस्जिद को नहीं खोएंगे। उन्होंने लोगों से कहा कि क्या वे संकल्प लेते हैं कि वह किसी और मस्जिद को नहीं खोएंगे। उनकी इस बात पर तमाम लोगों ने उन्हें अपना समर्थन दिया।

ताज़ा ख़बरें
हैदराबाद के सांसद ओवैसी ने कहा कि भारत का मुसलमान अब एक और मस्जिद को खोने के लिए तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि हम पीठ नहीं दिखाएंगे और सीना तान कर अपने हक के लिए लड़ेंगे और भारत का संविधान हमें इसकी इजाजत देता है। 

मौर्य का बयान

वहीं, उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने इस मामले में कहा है कि बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर ज्ञानवापी में बाबा महादेव के प्रकटीकरण ने देश की सनातन हिंदू परंपरा को एक पौराणिक संदेश दिया है।

ओवैसी ने कुछ दिन पहले भी कहा था कि जिस तरह बाबरी मस्जिद को छीना गया, वैसा ही इतिहास दोहराया जा रहा है। ओवैसी ने कहा कि कल अगर वह अदालत से जाकर यह कहें कि प्रधानमंत्री के सरकारी निवास के नीचे मस्जिद है तो क्या उन्हें इसकी खुदाई करने की अनुमति दी जाएगी। उन्होंने कहा था कि बीजेपी और संघ परिवार देश को 1990 के दशक में ले जाने की कोशिश कर रहे हैं।

Asaduddin Owaisi on controversy on gyanvapi masjid - Satya Hindi

शिवलिंग मिलने का दावा

बता दें कि ज्ञानवापी मस्जिद में सोमवार को सर्वे का काम पूरा हो गया है। सर्वे के बाद हिंदू पक्ष ने दावा किया है कि ज्ञानवापी मस्जिद में नंदी के सामने शिवलिंग मिला है जबकि मुस्लिम पक्ष ने कहा है कि शिवलिंग मिलने की बात गलत है। इस मामले में अदालत की ओर से नियुक्त किए गए कमिश्नर अब अपनी रिपोर्ट कोर्ट के सामने रखेंगे। सुप्रीम कोर्ट में इस मामले की सुनवाई मंगलवार को होगी।

देश से और खबरें

हिंदू पक्ष के वकील विष्णु जैन ने कहा है कि एक स्थानीय अदालत ने शिवलिंग को संरक्षित करने और उस जगह को सील करने के निर्देश पुलिस और प्रशासन को दिए हैं। वहां पर वजू करने पर भी रोक लगा दी गई है। 

शिवलिंग मिलने के दावे के बाद वहां मौजूद लोगों ने नारेबाजी की। 

सियासी माहौल गर्म 

बीते कुछ ही दिनों में ज्ञानवापी मस्जिद का मामला बेहद तूल पकड़ गया है। टीवी चैनलों, अखबारों, सोशल मीडिया और तमाम गली-चौराहों व नुक्कड़ों पर ज्ञानवापी मस्जिद के मामले की जबरदस्त चर्चा है। यह माना जा रहा है कि आने वाले दिनों में इस मुद्दे पर देश में सियासी संग्राम छिड़ सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें