loader

राहुल पर ओबामा की टिप्पणी के बाद ट्रेंड हुआ #माफ़ी_माँग_ओबामा

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की कांग्रेस नेता राहुल गांधी को लेकर ज़ाहिर की गई राय के बाद भारत में सोशल मीडिया पर इसे लेकर चर्चा हो रही है। 

न्यूयार्क टाइम्स के मुताबिक़, ओबामा ने अपनी जीवनी ‘ए प्रोमिज्ड लैंड’ में अमेरिका के साथ ही कई दूसरे देशों के नेताओं के बारे में अपने विचारों को लिखा है। 

ओबामा ने राहुल गांधी को लेकर लिखा है, ‘राहुल एक नर्वस और कच्चे गुण वाले व्यक्ति हैं, वह एक ऐसे छात्र की तरह हैं, जिसने अपना कोर्स पूरा कर लिया है और वह अपने टीचर को प्रभावित करना चाहता है लेकिन उस छात्र में योग्यता या विषय में मास्टर होने के लिए ज़रूरी जुनून की गहरी कमी है।’ 

ताज़ा ख़बरें

जिस दौरान ओबामा अमेरिका के राष्ट्रपति थे, तब राहुल कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष थे। ओबामा के भारत दौरे में राहुल उनसे मिले थे और उन्होंने इस मुलाक़ात को लेकर ट्वीट भी किया था। यह दिसंबर, 2017 का वाक़या है। राहुल ने लिखा था कि ओबामा के साथ बातचीत बढ़िया रही और वह उनसे फिर मिलना चाहेंगे। 2015 में भी बराक ओबामा भारत आए थे और गणतंत्र दिवस समारोह के मुख्य अतिथि बने थे। 

राहुल और मनमोहन के अलावा ओबामा ने अपनी जीवनी में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, अमेरिका के पूर्व रक्षा मंत्री बॉब गेट्स और अमेरिका में हुए राष्ट्रपति पद के चुनाव में फतेह हासिल करने वाले जो बाइडन का भी जिक्र है। 

मनमोहन सिंह को लेकर ओबामा ने लिखा है, ‘बॉब गेट्स और मनमोहन सिंह दोनों में एक ईमानदारी है।’ ओबामा ने अपनी जीवनी में जो बाइडेन के बारे में लिखा है कि वह एक सभ्य और ईमानदार शख़्स हैं। 

देश से और ख़बरें

ओबामा के राहुल गांधी को लेकर नर्वस कहे जाने के बाद मोदी सरकार के कई मंत्रियों ने ओबामा की इस टिप्पणी को लेकर ट्वीट किया। गिरिराज सिंह ने लिखा कि राहुल गांधी की जैसे ही देश में बेइज्जती कम होने लगती है, विदेश से करवा लेते हैं।

बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सैयद शाहनवाज़ हुसैन ने लिखा कि राहुल को लेकर बराक ओबामा के आकलन की चर्चा अमेरिका से लेकर भारत तक में हो रही है। ग़ज़ब है!

कांग्रेस ने दिया जवाब 

बीजेपी को जवाब देने के लिए कांग्रेस मैदान में उतरी। पार्टी के प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने ट्वीट कर कहा, ‘एक चुनौती उन सारे न्यूज़ चैनल्स को जो राहुल गांधी पर ओबामा के बयान पर बहस कर रहे हैं। मोदी के बारे में दुनिया के नेता क्या-क्या राय रखते हैं। एक बहस सारे चैनल्स पर हो जाये। हिम्मत, हैसियत और हौसला हो तो आइये मैदान में।’ कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्णम ने भी इसे लेकर ट्वीट किया और ओबामा के बयान पर सवाल उठाया। 

सोशल मीडिया पर लोगों ने #माफ़ी_माँग_ओबामा ट्रेंड करा दिया और हंसी-मजाक के ट्वीट किए। संयम जैन ने लिखा, ‘हम यह बर्दाश्त नहीं करेंगे। मिस्टर ओबामा, आप हमारे स्टार कैंपेनर की बेइज्जती कैसे कर सकते हैं।’ 

राखी नाम की ट्विटर यूजर ने लिखा #माफ़ी_माँग_ओबामा ट्रेंड पर वामपंथियों का ये कहना है।
सोशल मीडिया पर इसे लेकर कांग्रेस और बीजेपी समर्थकों के बीच भिड़ंत चलती रही तो ट्विटर के लगभग हर ट्रेंड पर चटखारे लेने वाले यूजर्स ने भी #माफ़ी_माँग_ओबामा पर गुदगुदाने वाले ट्वीट किए। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें