loader

कोविशील्ड के बाद भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को भी मंजूरी

शुक्रवार को कोविशील्ड को मंजूरी मिलने के बाद शनिवार को भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को भी सरकार की ओर से गठित पैनल ने मंजूरी दे दी है। हालांकि इन दोनों वैक्सीन के आपात इस्तेमाल को लेकर ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया की मंजूरी जरूरी होगी। 

डॉ. हर्षवर्धन ने दी सफाई

कोरोना की वैक्सीन को देश भर के लोगों के लिए मुफ़्त बताने के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने इसे लेकर सफाई दी है। डॉ. हर्षवर्धन ने पहले कहा था कि कोरोना की वैक्सीन देश भर में सभी लोगों के लिए मुफ़्त होगी। लेकिन बाद में उन्होंने ट्वीट कर रहा कि टीकाकरण के पहले दौर में कोरोना की मुफ़्त वैक्सीन देश भर में 1 करोड़ हेल्थकेयर वर्कर्स और 2 करोड़ फ्रंटलाइन वर्कर्स को मिलेगी। इसके अलावा बचे 27 करोड़ लोग कौन लोग होंगे, जिनका टीकाकरण होना है, इस बारे में जुलाई तक फ़ैसला कर लिया जाएगा।

ड्राई रन किया गया

कोरोना वायरस से लड़ने के लिए ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को मंजूरी मिलने के बाद सरकार ने शनिवार को ड्राई रन किया। देश के सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में यह ड्राई रन किया गया। केंद्र सरकार की ओर से सभी से कहा गया था कि वे अपनी राजधानी में कम से कम तीन जगहों पर प्रक्रिया को करें। कुछ राज्यों ने राजधानी से बाहर के जिलों में भी इस प्रक्रिया को किया। 

ड्राई रन से मतलब है टीकाकरण अभियान से पहले की तैयारी। साफ़ कहें तो यह एक पूर्वाभ्यास है। यह देखने के लिए कि टीकाकरण अभियान के लिए वैक्सीन को स्टोर करने, एक जगह से दूसरी जगह ढोने, सुरक्षित रखने जैसी व्यवस्था दुरुस्त है या नहीं।

ताज़ा ख़बरें

कोविशील्ड को मंजूरी 

इससे पहले शुक्रवार शाम को कोविशील्ड को मंजूरी दे दी गई थी। ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राज़ेनेका कंपनी की इस वैक्सीन के लिए सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया ने आपात मंजूरी मांगी थी। एक्सपर्ट पैनल ने रिपोर्टों की समीक्षा के बाद इसे सुरक्षित और प्रभावी माना। 

ख़ास ख़बरें
ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को भारत में मंजूरी मिलने की शायद सकारात्मक संकेतों को देखकर ही सीरम इंस्टीट्यूट ने पहले से ही बड़ी संख्या में वैक्सीन बनानी शुरू कर दी थी। दुनिया की सबसे बड़ी वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला ने कहा कि ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका शॉट की लगभग 5 करोड़ खुराक पहले ही तैयार कर ली गई है और अगले साल मार्च तक इसे 10 करोड़ तक बढ़ाने की योजना है।
मंजूरी के लिए जिन तीन वैक्सीन के लिए और आँकड़े माँगे गए थे उनमें से एक वैक्सीन को मंजूरी मिलने की संभावनाएँ तब बढ़ गई थीं जब ब्रिटेन में ऑक्सफॉर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन को मंजूरी मिल गई।

ब्रिटेन में ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन को मंजूरी मिलने की इस ख़बर के बाद एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया ने भी कहा था कि गिने-चुने दिनों में ही इस वैक्सीन को भारत में मंजूरी मिल सकती है। 

oxford coronavirus vaccine approved in india - Satya Hindi

गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कहा था कि कोरोना के ख़िलाफ़ टीकाकरण कार्यक्रम के लिए तैयारी अंतिम चरण में है। उन्होंने कहा था कि लोगों को भारत में निर्मित वैक्सीन मिलेगी। मोदी ने कहा था, "मैं कहता था कि 'जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं'। लेकिन अब 2021 के लिए हमारा मंत्र होना चाहिए: दवाई भी, कड़ाई भी।"

बता दें कि इस महीने की शुरुआत में जिन तीन कंपनियों ने वैक्सीन के आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए आवेदन किया था उन्होंने वैक्सीन से जुड़ी पूरी जानकारी मुहैया नहीं कराई थी। इसीलिए किसी को भी तब मंजूरी नहीं मिली। उन कंपनियों से कहा गया था कि वे वैक्सीन के ट्रायल से जुड़े पूरे आँकड़े लेकर फिर से आएँ और तब इस पर विचार किया जाएगा।

वीडियो चर्चा में देखिए, क्या है कोरोना का नया ख़तरा?

फ़ाइजर एस्ट्रेज़ेनेका और मॉडर्ना जैसी वैक्सीन को भी दुनिया के कई देशों में मंजूरी मिल गई है और जल्द ही इनके भारत में भी मंजूरी मिल सकती है। फ़ाइजर की वैक्सीन को  सबसे पहले ब्रिटेन ने इसको मंजूरी दी थी। इसके बाद एक के बाद एक कई देशों में इसको मंजूरी दी गई। अब तो विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्ल्यूएचओ ने भी कह दिया है कि फ़ाइजर वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित और प्रभावी है। इसने कहा है कि वैक्सीन के मानक पर फाइजर की वैक्सीन पूरी तरह खरा उतरती है।

देश से और ख़बरें

वैसे, इस वैक्सीन से भारत की काफ़ी ज़्यादा उम्मीदें हैं। यह इसलिए कि ऑक्सफ़ोर्ड की इस वैक्सीन को स्टोर करना और देश के दूर-दराज के इलाकों में ले जाना आसान है। जहाँ फाइज़र जैसी वैक्सीन के लिए -70 डिग्री सेल्सियस यानी ज़ीरो से भी इतने नीचे के तापमान पर रखना होगा वहीं ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन के लिए सामान्य रेफ़्रिजरेटर का तापमान पर्याप्त है। इसीलिए कहा जा रहा है कि भारत के लिए ऑक्सफ़ोर्ड की वैक्सीन ज़्यादा सही और दूर-दराज के क्षेत्रों में पहुँचाने के लिए आसान होगी।

2020 कोरोना वायरस का साल रहा। 2021 के कोरोना वैक्सीन के साल रहने की उम्मीद है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें