loader

बिशप ने कहा - किसी छात्र को ईसाई नहीं बनाया, कर्नाटक सरकार को चुनौती

बेंगलुरू के के आर्चबिशप पीटर मचाडो ने गुरुवार को कहा कि बेंगलुरू के क्लेरेंस हाई स्कूल में बाइबल पढ़ाने को लेकर हुए विवाद से वह थोड़ा आहत हैं। स्कूल पर गैर-ईसाई छात्रों पर बाइबल थोपने का आरोप लगाया गया है। कुछ हिंदू समूहों ने शिकायत दर्ज कराई गई थी, जिसमें कहा गया था कि स्कूल ने माता-पिता से वचन लिया था कि वे अपने बच्चों के बाइबल ले जाने पर आपत्ति नहीं करेंगे। शिकायत के आधार पर कर्नाटक सरकार ने जांच के आदेश दिए।बिशप ने कहा कि स्कूल पिछले 100 वर्षों से एक ईसाई अल्पसंख्यक संस्थान रहा है। चूंकि यह ईसाई छात्रों के लिए एक ईसाई स्कूल था और अब भी यहां के 75% छात्र ईसाई हैं, इसलिए हमारे यहां बाइबल पढ़ाई जाती थी। लेकिन पिछले साल से स्कूल ने बदलाव किए हैं।

ताजा ख़बरें
बिशप ने आगे कहा कि छात्रों को कुछ भी पढ़ने के लिए मजबूर नहीं किया जाता है। सिर्फ बेंगलुरु के इस स्कूल ने बाइबल पढ़ाने की सिफारिश की है लेकिन सभी ईसाई स्कूलों की छवि इसी तरह बनाने का प्रयास किया गया है। हमें नहीं पता कि सरकार खुद ऐसा कर रही है या कुछ समूह। स्कूल ईसाई ग्रंथों से नैतिक मूल्यों की शिक्षा देता है।
मचाडो ने कहा कि बाइबल थोपने और धर्म परिवर्तन के आरोप झूठे और भ्रामक हैं और अल्पसंख्यक संस्थानों को हिंदू समूहों ने निशाना बनाया है। कर्नाटक के शिक्षा मंत्री बीसी नागेश ने बुधवार को कहा था कि अल्पसंख्यक संस्थान होने की आड़ में गलतियों को कोई नहीं छिप सकता। उन्होंने कहा कि राज्य शिक्षा अधिनियम का असर सभी शिक्षण संस्थानों पर पड़ रहा है। अधिनियम के तहत, राज्य यह तय कर सकता है कि क्या पढ़ाया जा सकता है और क्या नहीं, और यह स्पष्ट है कि कोई भी धार्मिक पुस्तक नहीं पढ़ाई जा सकती हैं।
देश से और खबरें
बिशप ने गुरुवार को मंत्री की बातों का जवाब देते हुए कहा कि नैतिक शिक्षा की कक्षाएं सप्ताह में एक बार होती हैं। हमारे साथ जुड़ने से पहले हर छात्र को सूचित किया जाता है। गैर-ईसाई छात्रों को बाइबल पढ़ने की जरूरत नहीं है। हमारे संस्थान हमेशा से कानून का पालन करने वाले हैं और रहे हैं। हम सरकार के नोटिस का जवाब देंगे। बिशप ने कहा कि राज्य के शिक्षा विभाग ने इस बात की जांच के आदेश दिए हैं कि हमारे (ईसाई) स्कूलों में बाइबल का इस्तेमाल होता है या धर्म पढ़ाया जाता है। उन्होंने कहा, मुझे बहुत दुख होता है। हम बहादुरी से कह सकते हैं कि हमारे स्कूल में दूसरे धर्म का कोई भी छात्र ईसाई नहीं बना है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें