loader

‘एक वर्ग की बढ़ रही आबादी, राजपूत समाज को उठाने होंगे शस्त्र’

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बीजेपी नेता संगीत सोम ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। संगीत सोम ने कहा है, "जिस तरह एक वर्ग की आबादी बढ़ती जा रही है, जिस तरह से आतंक फैलता जा रहा है, ऐसे में राजपूत समाज को फिर से शस्त्र उठाने पड़ेंगे।" 

बताना होगा कि संगीत सोम साल 2022 के विधानसभा चुनाव में मेरठ की सरधना सीट से चुनाव हार गए थे। संगीत सोम साल 2013 में मुजफ्फरनगर में हुए दंगों के अभियुक्त भी हैं। 

संगीत सोम ने यह बयान क्षत्रिय समाज के कार्यक्रम में दिया। यह कार्यक्रम दशहरे के मौके पर शस्त्र पूजन के लिए रखा गया था। संगीत सोम ने पत्रकारों से कहा कि आने वाले वक्त में शस्त्र की जरूरत अवश्य पड़ेगी क्योंकि एक वर्ग की आबादी लगातार बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि राजपूत समाज अगर शस्त्र उठा लेगा तो कोई भी सिर से धड़ को अलग करने की बात नहीं करेगा और ना ही आतंक की बात करेगा। 

ताज़ा ख़बरें

संगीत सोम के ख़िलाफ़ सहारनपुर के देवबंद, मुजफ्फरनगर के खतौली, कोतवाली, सिखेड़ा, मेरठ के सरधना तथा गौतमबुद्धनगर के थाना बिसाहड़ा में मामले दर्ज हैं। इनमें दंगों के दौरान भीड़ को उकसाने व दंगा भड़काने का आरोप है। मुजफ्फरनगर में 2013 में विवादित वीडियो को प्रसारित करने को लेकर संगीत सोम पर 2013 में आईटी एक्ट के तहत भी मुक़दमा दर्ज किया गया था जबकि सहारनपुर के मिरकपुर में पंचायत को संबोधित करते हुए भड़काऊ भाषण देने का भी मुक़दमा दर्ज है। 

होगी कार्रवाई?

उत्तर प्रदेश में बीजेपी की सरकार है और बीजेपी का अगर कोई पूर्व विधायक इस तरह का बयान दे तो शासन व प्रशासन को निश्चित रूप से उसके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। बीजेपी की निलंबित नेता नूपुर शर्मा के बयान के खिलाफ प्रदेश में जोरदार प्रदर्शन हो चुके हैं और माहौल लंबे वक्त तक तनावपूर्ण रहा था। 

संवेदनशील है पश्चिमी उत्तर प्रदेश 

पश्चिमी उत्तर प्रदेश का इलाका वैसे भी बेहद संवेदनशील रहा है। साल 2014 के लोकसभा चुनाव से पहले जब यहां पर सांप्रदायिक दंगे हुए थे तो उसमें बड़ी संख्या में हिंदू और मुस्लिम समुदाय के लोगों को जान माल का नुकसान उठाना पड़ा था। मुजफ्फरनगर के सांप्रदायिक दंगों में 60 से अधिक लोग मारे गए थे और लगभग 50000 लोगों को घर छोड़कर दूसरी जगह जाना पड़ा था। 

मुजफ्फरनगर दंगे के मामले में संगीत सोम के खिलाफ उत्तर प्रदेश सरकार ने मुक़दमा वापस ले लिया था। 

देश से और खबरें

दिलीप घोष का बयान

कुछ इसी तरह का बयान पश्चिम बंगाल बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष दिलीप घोष ने दिसंबर 2020 में दिया था। दिलीप घोष ने बंगाल में एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा था, “हिंदू समाज को हथियार उठाने होंगे, अगर कोई कायर निहत्था कहे, तो तुम उसका गला पकड़ लो। हिंदू समाज कायर नहीं था, हम तलवार, बंदूक, त्रिशूल से सामना करने वाले हैं। हिंदुओं का कोई भी देवी-देवता बिना शस्त्र का नहीं है।’

सवाल यह उठता है कि क्या बीजेपी ने अपने नेताओं को ऐसे बयान देने के लिए खुली छूट दी हुई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें