loader

बीजेपी का पलटवार : कांग्रेस कोरोना पर ग़लत बातें, झूठ, नकारात्मकता फैलाती है

ऐसे समय जब सरकार के तमाम दावों के बावजूद कोरोना महामारी की तबाही बढ़ती ही जा रही है, सरकार इससे निपटने से जुड़े विपक्ष के सुझावों को मानने की बात तो दूर, उस पर ज़ोरदार हमले कर रही है। ताज़ा घटनाक्रम में बीजेपी के अध्यक्ष जे. पी. नड्डा ने कांग्रेस कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी पर तीखा हमला बोलते हुए कहा है कि वह नकारात्मक बातें करती हैं, ग़लत व भ्रामक सूचनाएं फैलाती हैं, बेवजह लोगों में घबराहट फैलाती हैं और दोमुँहा बातें करती हैं। 

नड्डा ने कहा है, 

ऐसे समय जब भारत पूरी ताक़त लगा कर कोरोना से जूझ रहा है, लोग यह उम्मीद करते हैं कि कांग्रेस के शीर्ष नेता आम जनता को गुमराह करना बंद कर दें, झूठमूठ की सनसनी न फैलाएं और अपनी कही बातों के ही उलट बातें न करें।


जे. पी. नड्डा, अध्यक्ष, बीजेपी

याद दिला दें कि सोनिया गांधी ने सोमवार को कहा था, 'कोरोना की अनदेखी करने की मोदी सरकार की गल़ती की भयावह कीमत देश चुका रहा है, सरकार ने राजनीतिक फ़ायदे के लिए सुपर स्प्रेडर आयोजन किए।' 
ख़ास ख़बरें

नड्डा की कड़ी चिट्ठी

नड्डा ने इस पर पलटवार करते हुए मंगलवार को कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष को एक कड़ी चिट्ठी लिख कर कहा,

आपकी पार्टी आपके नेतृत्व में पहले लॉकडाउन का विरोध और उसके बाद उसे लागू करने की माँग कर देश का भला नहीं कर रही है, आपकी पार्टी ने केरल में बड़ी-बड़ी सभाएं कीं और अब कोरोना फैलने को लेकर बड़ी -बड़ी बातें कर रही है।


जे. पी. नड्डा, अध्यक्ष, बीजेपी

नड्डा ने चिट्ठी में लिखा, 'जिस समय कोरोना की दूसरी लहर बढ़ रही थी, आपके नेता बहुत ही खुश थे और उत्तर भारत में जगह-जगह बड़े- बड़े सुपर स्प्रेडर राजनीतिक आयोजन कर रहे थे। सोशल डिस्टैंसिंग और मास्क का ख्याल बिल्कुल ही नहीं रखा गया था।' 

bjp slams sonia gandhi over corona, accuses of misinformation - Satya Hindi
बीजेपी अध्यक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस के नेताओं ने 'मेड इन इंडिया' का मजाक उड़ाया और कोवैक्सीन टीका को लेकर लोगो के मन में संशय की स्थिति पैदा की और वह भी महामारी के बीच में, इसके पहले इस टीके को लेकर कोई भ्रम नहीं था। 

हर्षवर्द्धन ने मनमोहन पर किया था हमला

याद दिला दें कि इसके पहले अप्रैल महीन में पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक चिट्ठी लिख कर कुछ सुझाव दिए थे। लेकिन केंद्र सरकार ने उसे गंभीरता से लेने के बजाय सिंह पर ज़ोरदार पलटवार किया था और उनकी व कांग्रेस पार्टी की तीखी आलोचना की थी। 

मनमोहन सिंह ने यह कहा था कि सरकार को चाहिए कि वह टीका खुराकों की आपूर्ति में पारदर्शिता बरते, वह बताए कि कैसे इन टीकों की आपूर्ति की जाएगी।

मनमोहन सिंह ने सलाह दी कि केंद्र सरकार को चाहिए कि वह 10 प्रतिशत खुराकें आपातकालीन आपूर्ति के लिए अपने पास रखे और बाकी राज्यों के दे दे।

इसी तरह कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने सरकार को सलाह दी थी कि कोरोना टीका बनाने वाली विदेशी कंपनियों को भारत में टीका बनाने और बेचने की अनुमति दे दी जाए। इस पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा था कि राहुल गांधी विदेशी दवा कंपनियों की दलाली कर रहे हैं।

यह बात और है कि इसके कुछ दिन बाद ही केंद्र सरकार ने कई विदेशी टीका उत्पादकों को अपने टीके भारत में बेचने की अनुमति दे दी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें