loader

बीएसएफ़ का अधिकार क्षेत्र बढ़ा, पंजाब-बंगाल ने किया पुरजोर विरोध 

पंजाब और बंगाल की सरकार ने केंद्रीय गृह मंत्रालय के उस आदेश का विरोध किया है, जिसमें बीएसएफ़ के अधिकार क्षेत्र को 15 किमी. से बढ़ाकर 50 किमी. कर दिया गया है। यह अधिकार क्षेत्र अंतरराष्ट्रीय सीमा के अंदर बढ़ाया गया है। कहा जा रहा है कि इससे तस्करी पर रोक लगेगी और सुरक्षा बलों का ऑपरेशन बेहतर होगा। 

पंजाब और बंगाल की सरकार ने इस क़दम को बेतुका बताया है। उन्होंने इसे संघीय ढांचे पर सीधा हमला और केंद्रीय एजेंसियों का दख़ल भी बताया है। 

आदेश के मुताबिक़, केंद्रीय बलों के जवान अब देश के तीन राज्यों- असम, पंजाब और बंगाल के ज़्यादा इलाक़े में गिरफ़्तारी, तलाशी अभियान और जब्त करने की कार्रवाई कर सकेंगे। लेकिन पंजाब के अमृतसर, तरन तारन और पठानकोट में पुलिस के साथ उनका टकराव हो सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

बताना होगा कि अमृतसर भारत-पाकिस्तान की सीमा यानी वाघा बॉर्डर से 35 किमी. दूर है। 

‘वापस लें आदेश’

गृह मंत्रालय के इस आदेश पर पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कहा है कि वे केंद्र सरकार के इस एकतरफ़ा फ़ैसले की कड़ी मज़म्मत करते हैं। उन्होंने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से इस आदेश को वापस लेने की मांग की है। 

पंजाब के गृह मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने भी इसे संघीय ढांचे पर अतिक्रमण बताया है और कहा है कि इससे पंजाब में डर का माहौल पैदा होगा।

जाखड़ का चन्नी पर निशाना 

लेकिन पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सुनील जाखड़ ने इस मामले में चन्नी पर ही निशाना साधा है। जाखड़ ने टाइम्स ऑफ़ इंडिया के पत्रकार आईपी सिंह के ट्वीट का हवाला दिया है। आईपी सिंह ने चन्नी के द्वारा गृह मंत्री अमित शाह के साथ 5 अक्टूबर को की गई मुलाक़ात के बाद अपने फ़ेसबुक पेज पर की गई एक पोस्ट का स्क्रीनशॉट शेयर किया है। 

इस पोस्ट में चन्नी ने लिखा था कि अमित शाह के साथ मुलाक़ात में उन्होंने अपील की थी कि वे ड्रग्स और हथियारों की तस्करी को रोकने के लिए पंजाब से लगने वाले अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर को सील कर दें। चन्नी ने साथ ही यह उम्मीद भी जताई थी कि गृह मंत्री इस पर जल्द कार्रवाई करेंगे। 

BSF jurisdiction extend Punjab Bengal opposed - Satya Hindi

सुनील जाखड़ ने कहा, “क्या मुख्यमंत्री चन्नी ने अनजाने में पंजाब का आधा हिस्सा केंद्र सरकार को नहीं सौंप दिया है? पंजाब का आधा हिस्सा अब बीएसफ़ के अधिकार क्षेत्र में है।” जाखड़ ने कहा है कि यह पंजाब पुलिस का तिरस्कार है। 

देश से और ख़बरें

अमरिंदर सिंह की राय अलग 

जबकि पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा है कि बीएसएफ़ का दायरा और ताक़त बढ़ने से हम और मज़बूत होंगे। उन्होंने कहा कि केंद्रीय सुरक्षा बलों को राजनीति में न घसीटा जाए।

पश्चिम बंगाल के परिवहन मंत्री और टीएमसी नेता फिरहाद हाकिम ने कहा कि क़ानून और व्यवस्था राज्य सरकार का विषय है लेकिन केंद्र सरकार केंद्रीय एजेंसियों के जरिये इसमें दख़ल दे रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें