loader

चीन में कोरोना की दूसरी लहर, भारत के लिये बड़े ख़तरे की घंटी!

हालांकि भारत में अभी कोरोना संक्रमण का पहला दौर भी ख़त्म नहीं हुआ है, यह सवाल उठने लगा है कि क्या संक्रमण का दूसरा दौर आएगा? कब आएगा, कितने लोग प्रभावित होंगे और भारत उससे कैसे निबटेगा? क्या ऑक्सफ़र्ड विश्वविद्यालय और मैसाच्यूसेट्स इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी का यह आकलन सही साबित होगा कि दूसरे दौर के संक्रमण में भारत मे रोज़ाना 2.87 लाख लोग प्रभावित हो सकते हैं?

दूसरी लहर?

ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि चीन में संक्रमण का दूसरा दौर शुरू हो चुका है।

जब संक्रमण कम हो जाता है और लोगों को लगने लगता है कि यह ख़त्म हो गया उसके बाद यकायक संक्रमण तेज़ी से बढ़ता है तो उसे 'सेकंड वेव' या 'दूसरी लहर' या 'दूसरा दौर' कहते हैं। 

देश से और खबरें

चीन में बीते 24 घंटे में कोरोना के 61 नए मामले सामने आए हैं। यह अप्रैल के बाद से अब तक एक दिन की सबसे बड़ी संख्या है। ये तीन अलग-अलग इलाक़ों में पाए गए हैं।

चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा है कि सबसे ज़्यादा मामले दक्षिण पश्चिमी राज्य शिनजियांग से आए हैं। प्रांत की राजधानी उरुमकी में सबसे अधिक मामले पाए गए हैं। इस तरह एक साथ कई इलाक़ों से नए मामले का अर्थ यही है कि कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर चीन पहुँच गई है। 

 इसके अलावा पिछले हफ़्ते उत्तर-पूर्व के प्रांत लियाओनिंग में भी नए मामले मिले हैं। प्रांत की राजधानी दालियान में अधिक मामले मिले थे। उत्तर कोरिया की सीमा से सटे हुए जिलिन प्रांत में भी दो मामले मिले हैं। सोमवार को चार मामले विदेश से आए हुए लोगों के थे।

भारत के लिए चिंता की बात

लेकिन यह भारत के लोगों और यहाँ के स्वास्थ्य मंत्रालय और नीति निर्धारकों के लिए अधिक चिंता की बात है।
भारत में अभी पहला चरण ही ख़त्म नहीं हुआ है। तमाम सरकारी आकलन नाकाम हुए हैं, सरकार को यही पता नहीं है कि संक्रमण का चरम कब होगा।

नाकाम हुआ प्रधानमंत्री का दावा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 मार्च से लॉकडाउन का एलान करते हुए कहा था कि कोरोना रोकथाम के लिए उन्हें सिर्फ 21 दिन का समय चाहिए। सरकारी संस्था और कोरोना रोकथाम की नोडल एजेंसी इंडियन कौंसिल ऑफ़ मेडिकल रिसर्च के एक अधिकारी ने मई में कोरोना रुकने का दावा किया था। आईसीएमआर ने बाद में यह समय सीमा बढ़ा कर जुलाई कर दी थी। 

इसी तरह दूसरे दौर के बारे भी सरकार के पास कोई साफ़ और ठोस जवाब नहीं है। इसके सितंबर से नवंबर तक आने की बात कई बार अलग-अलग समय में अलग-अलग लोगों ने कही है। 

इस बारे में एक चौंकाने वाली रिपोर्ट है, जिस पर किसी को परेशानी हो सकती है। 

मशहूर अमेरिकी संस्था मैसाच्यूसेट्स इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी ने चेतावनी दी है कि यदि समय रहते टीका या दवा की इजाद नहीं की गई तो भारत की स्थिति सबसे बुरी होगी और यहाँ संक्रमितों की तादाद 2.87 लाख प्रतिदिन हो सकती है।

तैयार है भारत?

एमआईटी के स्लोअन स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट ने कोरोना संक्रमण के फैलने पर एक शोध किया है। हाज़िर रहमानदाद, टी. वाई. लिम और जॉन स्टर्मन की टीम ने शोध में पाया कि जाड़े के अंत तक 2021 में भारत में कोरोना रोगियों की संख्या सबसे अधिक हो सकती है।

सवाल यह उठता है कि क्या एमआईटी और ऑक्सफर्ड का अनुमान सही साबित होगा? पर उससे अधिक चिंता की बात यह है कि भारत के नीति निर्धारको को इसकी न कोई चिंता है न ही इसकी पूरी और पक्की जानकारी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें