loader

क्या सरकार चीनी घुसपैठ के मुद्दे पर संसद में झूठ बोल रही है?

क्या सरकार संसद में लिखित प्रश्न के उत्तर में चीनी घुसपैठ के मुद्दे पर झूठ बोल रही है? क्या गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय पूरे देश को आधिकारिक तौर पर गुमराह कर रहे हैं?
ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि गृह राज्य मंत्री ने बुधवार को राज्यसभा में कहा कि बीते छह महीने में चीन से सटी सीमा पर घुसपैठ नहीं हुई है। उन्होंने यह ज़रूर कहा कि बढ़ते तनाव के बीच चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा को बदलने की कोशिश की है।
देश से और खबरें
बीजेपी सांसद अनिल अग्रवाल ने प्रश्न किया था कि क्या बीते 6 महीने के दौरान चीन और पाकिस्तान से घुसपैठ हुई है? यदि हां तो सरकार ने इसे रोकने के लिए क्या किया है?

क्या कहना है सरकार का?

इसके एक दिन पहले यानी मंगलवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा था,'मध्य मई में चीन ने वास्तविक नियंत्रण रेखा का उल्लंघन करने की कोशिश कई बार की। इसमें कोंगका ला, गोगरा और पैंगोंग झील का उत्तरी तट भी शामिल हैं।'
इसके बाद राजनाथ सिंह बताते हैं, “सीमाओं की सुरक्षा करने के दृढ़ निश्चय पर किसी को संदेह नहीं होना चाहिए।' वह यह भी कहते हैं कि 'परस्पर सम्मान और संवेदनशीलता के आधार पर पड़ोसियों से शांतिपूर्ण रिश्ते कायम किए जा सकते हैं।”

मास्को में क्या बात हुई?

वास्तविक नियंत्रण रेखा को बदलने की कोशिश का मतलब क्या है? क्या इसका अर्थ यह है कि चीनी सेना ने एलएसी पार करने की कोशिश की, पर नाकाम रही?
यदि चीनी सेना ने घुसपैठ नहीं की और वह भारतीय सरज़मीन पर नही है तो मास्को में चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ एस. जयशंकर की क्या बात हुई?
उस बातचीत के बाद दो बयान जारी किया गया, उसमें यह कहा गया था कि दोनों ही पक्ष 'डिसइनगेंजमेंट' पर राजी हो गए हैं। इसका सीधा अर्थ यह है कि चीन अपनी सेना को वापस बुलाने पर सहमत हो गया है।
इसके पहले चीन में भारत के राजदूत विवेक मिस्री ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के पोलित ब्यूरो के सदस्यों से मुलाकात की तो क्या उसमें चीनी सेना के वापस जाने पर बात नहीं हुई थी? विवेक मिस्री ने चीन के मिलीटरी कमीशन के उपाध्यक्ष से मुलाकात की थी तो क्या चीनी सेना को वापस बुलाने का आग्रह नहीं किया था?
चीन लगातार यह कहता आ रहा है कि वह अपनी सीमा के अंदर है, अपनी ज़मीन पर है। उसका कहना साफ है कि वह एलएसी को नहीं मानता और जहां तक उसकी सेना है, वह ज़मीन उसी की है। वहां से वह वापस नहीं जाएगी।
अब भारत के संसद में गृह राज्य मंत्री कहते हैं कि चीन ने कोई घुसपैठ नहीं की है। क्या ऐसा कह कर वह चीन के कहे का अनुमोदन नहीं कर रहे हैं?
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सर्वदलीय बैठक में कह दिया था, “भारत में न तो कोई घुसा है औ न ही घुस कर बैठा है।” उसके बाद से ही सरकार का यह आधिकारिक स्टैंड बन गया। इसलिए ही संसद में गृह राज्य मंत्री ग़लतबयारनी करते हैं और पूरे देश को गुमराह करते हैं। ऐसा करते हुए वह चीन के कहे का अनुमोदन भी करते हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें