loader

126 पद भरे, न्याय तक पहुँच बढ़ाने की कोशिश की: CJI

भारत के मुख्य न्यायाधीश एन वी रमना ने शुक्रवार को उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीशों से आह्वान किया है कि खाली पदों को भरने के लिए जल्द से जल्द नाम भेजें। उन्होंने कहा कि अभी भी बड़ी संख्या में खाली पद हैं, जल्द से जल्द पदोन्नति के लिए नाम भेजें। मुख्य न्यायाधीश के तौर पर पदभार संभालने के बाद से ही सीजेआई न्यायालयों में खाली पद भरने की मांग पर जोर देते रहे हैं ताकि लंबित मामलों का जल्द निपटारा हो सके।

वह शुक्रवार को नई दिल्ली में 39वें मुख्य न्यायाधीशों के सम्मेलन में बोल रहे थे। सीजेआई ने कहा, 'मुझे यह जानकर खुशी हो रही है कि कुछ उच्च न्यायालयों की प्रतिक्रिया बेहद उत्साहजनक रही है।' उन्होंने कहा कि 126 रिक्तियों को एक साल से भी कम समय में भर दिया गया और हम 50 और नियुक्तियों की उम्मीद कर रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

सीजेआई रमना ने कहा कि सीजेआई के रूप में कार्यभार संभालने के बाद उनका पहला संवाद खाली पदों को भरने और उच्च न्यायालयों में पदों पर नामों की सिफारिश करने की प्रक्रिया में तेजी लाने के बारे में था। उन्होंने यह भी कहा कि इसमें सामाजिक विविधता पर जोर था।

उन्होंने कहा कि कोरोना की स्थिति और लॉकडाउन के बावजूद न्यायपालिका ने न्याय तक पहुँच को बढ़ावा देने की पूरी कोशिश की। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार उन्होंने कहा, 'जब मैंने पिछले साल अप्रैल के अंत में यह पद ग्रहण किया तो हम कोविड महामारी की सबसे विनाशकारी दूसरी लहर के बीच में थे। हमें कुछ हफ़्तों के लिए थोड़ी राहत मिली और 2021 के अंत में हम फिर से तीसरी लहर से प्रभावित हुए। हम सभी मुश्किल दौर से गुज़रे। फिर भी, आप सभी द्वारा दिखाए गए धैर्य और दृढ़ संकल्प के कारण हम यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि संवैधानिक अदालतों का कामकाज पटरी से न उतरे।'

सीजेआई रमना ने कहा, 'प्रशासनिक रूप से यह एक बड़ी चुनौती थी। हमें रजिस्ट्रियों, अधिवक्ताओं और वादियों के सहयोगियों, अधिकारियों और कर्मचारियों की देखभाल के लिए संघर्ष करना पड़ा। साथ ही, हम यह सुनिश्चित करने के लिए स्थिर ऑनलाइन सिस्टम विकसित कर सके कि अदालतों के कामकाज पर प्रतिकूल प्रभाव न पड़े। हमने न्याय तक पहुंच को बढ़ावा देने की पूरी कोशिश की। हम इस अवधि के दौरान सुप्रीम कोर्ट में एक अभिनव FASTER प्रणाली शुरू करने में भी कामयाब रहे हैं।'

देश से और ख़बरें

बता दें कि जजों के पद खाली होने का असर लंबित मामलों पर भी पड़ा। 2006 में उच्च न्यायालयों में जहाँ क़रीब 35 लाख केस लंबित थे वे बढ़कर अब 57 लाख से ज़्यादा हो गए हैं। ज़िला अदालतों में 2006 में जहाँ 2.56 करोड़ केस लंबित थे वे अब 3.81 करोड़ हो गए हैं।

अदालत में लंबित मामलों के मद्देनज़र सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल अगस्त महीने में अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल माधवी दीवान को कहा था कि सिफारिशों को कॉलिजियम तक पहुँचने में महीनों और साल लगते हैं और उसके बाद महीनों और वर्षों में कॉलिजियम के बाद कोई निर्णय नहीं लिया जाता है। उन्होंने कहा था कि इसलिए उच्च न्यायालयों में न्यायाधीशों की कम संख्या होगी तो महत्वपूर्ण मुद्दों पर भी जल्दी निर्णय लेना लगभग असंभव हो जाएगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें