loader

रामनवमी पर शोभायात्रा के दौरान कई राज्यों में बवाल, गुजरात में एक की मौत

रामनवमी पर शोभायात्रा और जुलूस के दौरान कई राज्यों में बवाल हुआ है। इन राज्यों में गुजरात, मध्य प्रदेश, झारखंड और पश्चिम बंगाल शामिल हैं। 

गुजरात के आणंद जिले के खंभात और साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर में सांप्रदायिक झड़पें हुई हैं। इन दोनों ही इलाकों में पथराव और आगजनी की घटनाएं हुई हैं और पुलिस को हालात को संभालने के लिए बल प्रयोग करना पड़ा है। खंभात में 65 साल के एक बुजुर्ग का शव मिला है। जबकि हिम्मतनगर में भीड़ ने कुछ दुकानों और वाहनों को आग लगा दी। 

ताज़ा ख़बरें

हावड़ा के शिवपुर में तनाव 

बंगाल के हावड़ा में हुए तनाव के बाद बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों को तैनात किया गया है। पुलिस ने कहा है कि शिवपुर इलाके में हुई झड़प के बाद हालात पर नजर रखी जा रही है। बीजेपी ने आरोप लगाया है कि पुलिस ने रामनवमी के जुलूस पर हमला किया। पुलिस ने लोगों को चेताया है कि वे सोशल मीडिया पर किसी तरह की फर्जी खबरों को ना फैलाएं। 

खरगोन में लगा कर्फ्यू 

मध्य प्रदेश के खरगोन में हालात बिगड़ने की वजह से कर्फ्यू लगा दिया गया है। एडिशनल कलेक्टर एसएस मुजाल्दे ने कहा कि तालाब चौक इलाके में कथित रूप से जुलूस पर पथराव किया गया। इससे पहले लाउडस्पीकर से बजाए जा रहे गानों को लेकर दो समुदायों के लोगों के बीच में विवाद हुआ।

देश से और खबरें

उन्होंने कहा कि पुलिस को हालात को संभालने के लिए आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा। इस दौरान कई गाड़ियों में आग लगा दी गई। इस बवाल में पुलिस अफसर भी घायल हुए हैं। बवाल में 4 घरों को आग लगा दी गई और एक मंदिर में तोड़फोड़ हुई है।

लोहारदगा में पत्थरबाजी और आगजनी 

इसी तरह झारखंड के लोहारदगा में भी रामनवमी के जुलूस के दौरान पत्थरबाजी और आगजनी की घटनाएं हुई हैं। इसमें कई लोग घायल हुए हैं और 3 लोगों की हालत बेहद गंभीर है। हालात को संभालने के लिए पुलिस को तैनात किया गया है।

इसी तरह की हिंसा कर्नाटक के कोलार में भी हो चुकी है और राजस्थान के करौली में भी बड़े पैमाने पर हिंसा हुई है। इस हिंसा को लेकर सोशल मीडिया पर भी माहौल बेहद गर्म है और इससे जुड़ी तस्वीरें लगातार शेयर की जा रही हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें