loader
अधीर रंजन चौधरी समेत कई कांग्रेस नेताओं को हिरासत में ले लिया गया

कांग्रेस नेताओं ने जबरदस्त एकजुटता दिखाई, गुटबाजी भूले

कांग्रेस ने सोमवार को न सिर्फ एक राष्ट्रीय पार्टी की ताकत दिखाई, बल्कि वो एकजुट भी नजर आई। उसके तमाम नेता आपसी गुटबाजी भूलकर सक्रिय नजर आए। जम्मू कश्मीर से लेकर, दिल्ली और केरल में कांग्रेस ने राहुल गांधी के लिए जबरदस्त एकजुटता का प्रदर्शन किया। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलौत को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया तो सचिन पायलट राहुल के समर्थन में दिल्ली में बयान देते औऱ भागदौड़ करते दिखे।

जब यह रिपोर्ट लिखी जा रही है, उस समय हरियाणा कांग्रेस के कद्दावर नेता दीपेंदर हुड्डा कांग्रेस मुख्यालय से थोड़ी दूरी पर पुलिस अफसरों से पार्टी दफ्तर में जाने के लिए बहस कर रहे हैं। कांग्रेस मुख्यालय की दिल्ली पुलिस ने ऐसी घेराबंद कर रखी है कि वहां परिन्दा भी पर नहीं मार सकता। हुड्डा ने प्रजातंत्र और संविधान तक की दुहाई दे डाली लेकिन पुलिस अफसर नहीं पसीजे। इसी तरह सचिन पायलट को भी कांग्रेस मुख्यालय की तरफ बढ़ने से रोक दिया गया।

ताजा ख़बरें

कांग्रेस के सीनियर नेता अधीर रंजन चौधरी और के.सी. वेणुगोपाल को पुलिस ने हिरासत में ले लिया और उनको तुगलक रोड थाने में बैठा दिया। उनके मूवमेंट पर रोक लगा दी गई। ये लोग पार्टी दफ्तर में जाना चाहते थे। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को जैसे ही इसकी सूचना मिली, वो फौरन तुगलक रोड थाने नेताओं और कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंच गईं। वहां उनके साथ उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत भी दिखे। अधीर रंजन चौधरी ने दिल्ली पुलिस पर दुर्व्यवहार का आरोप लगाया है।

कांग्रेस मुख्यालय में जो नेता पहुंच सके वो सभी सीनियर थे। जिनमें मल्लिकार्जुन खड़गे, जयराम रमेश, प्रमोद तिवारी, दिग्विजय सिंह समेत कई दर्जन नेता शामिल थे। 

कांग्रेस के सीनियर नेताओं में शुमार पी. चिदंबरम तो पहुंचे ही, उनके बेटे कार्ति चिदंबरम ने भी राहुल के समर्थन में खड़े होने में देर नहीं लगाई। कार्ति ने मजेदार टिप्पणी भी की। उन्होंने कहा - सत्तारूढ़ दल (बीजेपी) ने ईडी के सामने राहुल गांधी की उपस्थिति से पहले कांग्रेस कार्यालय की ओर "केवल बैरिकेड्स और पुलिस" लगा रखी थी, जबकि बुलडोजर "गायब" थे। हो सकता है कि बुलडोजर अल्पसंख्यक नागरिकों की जिन्दगी और घरों को ध्वस्त करने के लिए लगाए गए हों।

देश से और खबरें

बहरहाल, दिल्ली में तमाम स्थानों पर दिल्ली पुलिस ने बसों की व्यवस्था कर ऱखी थी। जिधर से भी कांग्रेस जत्था नारेबाजी करता हुआ निकलता था, पुलिस उन्हें गिरफ्तार करके बसों में बैठा देती और वहां से हटा देती थी। 

राहुल के समर्थन में प्रदर्शन के फोटो गुजरात, कर्नाटक, केरल, महाराष्ट्र, हरियाणा, पंजाब, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना आदि राज्यों से मिले हैं। 

 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें