loader
प्रतीकात्मक फोटो

रिलायंस चिड़ियाघर गुजरात में 1000 मगरमच्छ को मंजूरी

मद्रास हाईकोर्ट ने तमिलनाडु और केंद्र सरकार को ममल्लापुरम में मद्रास क्रोकोडाइल बैंक ट्रस्ट से ग्रीन्स जूलॉजिकल, रेस्क्यू एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर, गुजरात में एक हजार मगरमच्छों को ले जाने की अनुमति दे दी है। ग्रीन्स जूलॉजिकल, रेस्क्यू एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर गुजरात के जाम नगर में है और इसे रिलायंस ज़ू (चिड़ियाघर) भी कहा जाता है। 
हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस ने चेन्नई के चिंदात्रिपेट के एक पूर्व सैनिक ए. विश्वनाथन द्वारा दायर रिट याचिका को खारिज करते हुए यह निर्देश पारित किया।

ताजा ख़बरें
याचिकाकर्ता ने राज्य और केंद्र को 1,000 मगरमच्छों को चेन्नै से गुजरात के जाम नगर भेजने की अनुमति नहीं देने का निर्देश देने की मांग की और इस संबंध में सीबीआई जांच की मांग की। 
याचिकाकर्ता के अनुसार, ग्रीन्स जूलॉजिकल, रेस्क्यू एंड रिहैबिलिटेशन सेंटर, जाम नगर को 7,300 वर्ग फुट में चिड़ियाघर संचालित करने की अनुमति मिली थी और वहां सिर्फ 56 मगरमच्छ ही रह सकते थे। 
इससे सेंट्रल जू अथॉरिटी (सीजेडए) ने ऐसा करने की जीजेडआरआरसी को अनुमति दी थी। अब रिलायंस चिड़ियाघर जाम नगर में इन 1,000 मगर मगरमच्छों को ले जाया जा सकेगा। 
याचिकाकर्ता ने अपनी याचिका में कहा था कि चिड़ियाघर को संचालित करने के लिए निजी केंद्र को अनुमति देना वैध नहीं है क्योंकि वन्य जीवन (संरक्षण) (संशोधन) अधिनियम, 1991 और वहां बने चिड़ियाघर की मान्यता नियम 2009 में निजी चिड़ियाघर के संचालन का प्रावधान नहीं है। रिलायंस एक निजी केंद्र है।
हालांकि, प्रतिवादियों ने याचिकाकर्ता की दलीलों को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि उनके पास 1,000 मगरमच्छों को रखने के लिए पर्याप्त जगह है। उस चिड़ियाघर ने भी चिड़ियाघर की तस्वीरें प्रस्तुत करते हुए दावा किया था कि 1,000 मगरमच्छों को उनके परिसर में आसानी से रखा जा सकता है।

देश से और खबरें

अदालत ने रिलायंस चिड़ियाघर के परिसर को दिखाने वाली तस्वीरों की जांच की और पाया कि वे चिड़ियाघर की तस्वीरों और प्रस्तुतियों से संतुष्ट हैं। इसके बाद कोर्ट ने 1,000 मगरमच्छों को जाम नगर स्थानांतरित करने की अनुमति दी।

अदालत के इस आदेश से पहले ही करीब 56 मगरमच्छा जनवरी 2022 में ही रिलायंस चिड़ियाघर में ट्रांसफर कर दिए गए थे। निजी क्षेत्र में आमतौर पर वन्य जीवों को रखने की अनुमति नहीं है लेकिन रिलायंस ने सरकारी चिड़ियाघरों से बेहतर आधुनिक चिड़ियाघर जामनगर में बनाया है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें