loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/डीआरडीओ/वीडियो ग्रैब

डीआरडीओ ने कोरोना ठीक होने वाली दवा बनाई, इस्तेमाल को मंजूरी

कोरोना मरीज़ों का इलाज करने वाली दवा इजाद कर ली गई है। डीआरडीओ यानी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने इसको विकसित किया है। कोरोना के ख़िलाफ़ इलाज में काम आने वाली इस दवा को भारत के औषधि महानियंत्रक यानी डीसीजीआई ने आपात इस्तेमाल के लिए मंजूरी भी दे दी है। यह अच्छी ख़बर तब आई है जब देश कोरोना की दूसरी लहर का सामना कर रहा है और हर रोज़ 4 लाख से ज़्यादा पॉजिटिव केस सामने आ रहे हैं। हर रोज़ क़रीब 4 हज़ार लोगों की मौत हो रही है। देश में सक्रिए मामलों की संख्या 37 लाख से ज़्यादा हो गई है। 

डीआरडीओ ने ट्वीट किया है कि 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज (2-डीजी) को डीआरडीओ की लैब आईएनएमएएस ने डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज के साथ विकसित किया है। इसने यह भी कहा है कि दवा कोरोना मरीज़ों को जल्द ठीक होने में मदद करेगी। 

इस दवा के बारे में बताया गया है कि यह दवा पाउडर के रूप में है और इसे पानी में घोलकर मुंह के ज़रिये लिया जाना होता है। इस दवा को कोरोना के मध्यम और गंभीर लक्षण वाले मरीज़ों के इलाज में इस्तेमाल करने की अनुमति दी गई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जिन मरीज़ों का इस दवा से इलाज किया गया उनमें से अधिकतर का कोरोना आरटी पीसीआर टेस्ट नेगेटिव आया। 

क्लिनिकल टेस्ट में सामने आया है कि 2-डीऑक्सी-डी-ग्लूकोज दवा अस्पताल में भर्ती मरीजों के जल्द ठीक होने में मदद करती है और इसके साथ ही अतिरिक्त ऑक्सिजन की निर्भरता को कम करती है।

ट्रायल की रिपोर्ट के बारे में कहा गया है कि मई और अक्टूबर के बीच दूसरे चरण के ट्रायल में दवा को कोरोना मरीज़ों पर इस्तेमाल को सुरक्षित पाया गया था। ट्रायल में कोरोना मरीज़ों में काफ़ी सुधार भी आया था। दूसरे चरण में 110 मरीज़ों पर इसका ट्रायल किया गया था जबकि तीसरे चरण में अलग-अलग डोज में 11 अस्पतालों में इसका ट्रायल किया गया था।

ताज़ा ख़बरें

यह 2-डीजी दवा वायरस से संक्रमित कोशिका में जमा हो जाती है और वायरस की वृद्धि को रोकती है। वायरस से संक्रमित कोशिका पर चुनिंदा तरीक़े से यह दवा काम करती है। 

इस दवा के आपात इस्तेमाल की मंजूरी की रिपोर्ट तब आई है जब शनिवार को ही देश में कोरोना के 4 लाख 1 हज़ार से ज़्यादा मामले आए हैं। देश में पहली बार एक दिन में 4 हज़ार से ज़्यादा कोरोना मरीज़ों की मौतें हुई हैं। 

देश से और ख़बरें

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शनिवार को जारी शुक्रवार के आँकड़े के अनुसार 24 घंटे में रिकॉर्ड 4187 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही लगातार तीसरे दिन कोरोना के 4 लाख से ज़्यादा पॉजिटिव केस आए हैं। शुक्रवार को 4 लाख 14 हज़ार 188 संक्रमण के नये मामले सामने आए थे। इससे एक दिन पहले एक दिन में देश में 4 लाख 12 हज़ार 262 पॉजिटिव केस आए थे। इससे पहले एक मई को 24 घंटे में 4.1 लाख केस आए थे।

कोरोना के ऐसे हालात के बीच ही दुनिया भर से देश में मदद आ रही है। कोरोना रोगियों के लिए आवश्यक दवाओं, मेडिकल ऑक्सीजन और अन्य आपूर्ति की कमी की रिपोर्टों के बीच भारी अंतरराष्ट्रीय मदद मिल रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें