loader

आतंकवाद, कट्टरपंथ के खिलाफ है इस्लाम: एनएसए डोभाल

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) अजित डोभाल ने मंगलवार को कहा है कि इस्लाम पूरी तरह कट्टरपंथ और आतंकवाद के खिलाफ है क्योंकि इस्लाम का मतलब शांति और कल्याण है। 

एनएसए डोभाल नई दिल्ली में भारत और इंडोनेशिया के बीच आपसी शांति और सामाजिक सद्भाव की संस्कृति को बढ़ावा देने में उलेमाओं की भूमिका पर आयोजित एक कार्यक्रम में अपनी बात रख रहे थे। उन्होंने कहा कि सीमा पार से होने वाला आतंकवाद और आईएसआईएस के द्वारा प्रेरित आतंकवाद मानवता के लिए एक बड़ा खतरा है। 

इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए इंडोनेशिया के मंत्री मोहम्मद महफूद एमडी भी दिल्ली आए हैं उन्हें एनएसए डोभाल ने ही कार्यक्रम में शामिल होने का निमंत्रण भेजा था। 

ताज़ा ख़बरें
डोभाल ने कहा, आप जानते हैं कि हम दोनों देश आतंकवाद और अलगाववाद से पीड़ित रहे हैं। आईएसआईएस से प्रेरित आतंकवाद और सीरिया और अफगानिस्तान से लौटकर आने वालों से होने वाले खतरे से लड़ने के लिए सिविल सोसाइटी का सहयोग बेहद जरूरी है। 
डोभाल ने कहा कि इस चर्चा का मकसद भारत और इंडोनेशिया के उलेमा और विद्वानों को एक मंच पर लाना है जो शांति और सद्भावना को बढ़ावा देने में अहम भूमिका निभा सकते हैं। उन्होंने कहा कि यह आतंकवाद और कट्टरता के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करेगा।

डोभाल ने कहा कि किसी भी मकसद के लिए अगर आतंकवाद, कट्टरवाद और धर्म का दुरुपयोग किया जाता है तो यह किसी भी आधार पर ठीक नहीं है और हमें इसके खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। आतंकवाद और कट्टरवाद फैलाने वाली ताकतों का विरोध करने को किसी भी धर्म के साथ टकराव के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। 

उन्होंने कहा कि हम सभी को अपने धर्मों के वास्तविक संदेशों पर फोकस करना चाहिए, जो हमें मानवता और शांति का पाठ पढ़ाते हैं और वास्तव में कुरान खुद कहती है कि एक इंसान का कत्ल करना पूरी मानवता को मारने के जैसा है और एक इंसान को बचाना पूरी मानवता को बचाने जैसा है। डोभाल ने आगे कहा कि इस्लाम कहता है इतिहास का सबसे बेहतर रूप जिहाद अफजल है यानी इंद्रियों या अहंकार के खिलाफ जिहाद ना कि निर्दोष नागरिकों के खिलाफ। 

देश से और खबरें

कार्यक्रम में इंडोनेशिया से आए उलेमा भारतीय उलेमाओं से तमाम मुद्दों पर बातचीत करेंगे। कार्यक्रम के दौरान भारत और इंडोनेशिया में कट्टरता का मुकाबला करने पर चर्चा होगी। इस दौरान इंडोनेशिया के उलेमा दूसरे धर्मों के गुरुओं से भी मिलेंगे। इंडोनेशिया दुनिया की सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश है। 

कुछ दिन पहले नई दिल्ली में ‘नो मनी फॉर टेरर’ पर आयोजित एक मंत्री स्तरीय कार्यक्रम में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा था कि आतंकवाद को किसी भी धर्म, समूह या राष्ट्रीयता से नहीं जोड़ा जा सकता है और ना ही जोड़ा जाना चाहिए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें